ADVERTISEMENTREMOVE AD

शरद पवार ने MVA के लिए वफादारी फिर से दोहराई,कहा- BJP के साथ जाने का सवाल ही नहीं

Sharad Pawar ने कांग्रेस नेताओं के दावों को खारिज करते हुए कहा, मोदी कैबिनेट में शामिल होने का कोई प्रस्ताव नहीं मिला

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

पिछले कुछ दिनों से राजनीतिक चर्चाओं के केंद्र में रहे राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार (Sharad Pawar) ने बुधवार, 16 अगस्त को महाविकास अघाड़ी (एमवीए) के प्रति अपनी वफादारी दोहराई. इसके साथ ही उन्होंने भारतीय जनता पार्टी पर तीखा हमला भी बोला.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

'बीजेपी में शामिल होने का कोई सवाल ही नहीं'

सभी राजनीतिक अटकलों को खारिज करते हुए शरद पवार ने छत्रपति संभाजीनगर में मीडियाकर्मियों से कहा, "बीजेपी में शामिल होने का कोई सवाल ही नहीं है. मैं एमवीए के साथ हूं. हम मुंबई में आगामी राष्ट्रीय विपक्षी गठबंधन की बैठक की तैयारी कर रहे हैं."

उन्होंने उन खबरों को भी खारिज कर दिया, जिसमें दावा किया गया था कि एमवीए की सहयोगी कांग्रेस-शिवसेना (यूबीटी) ने कथित तौर पर आगामी लोकसभा, विधानसभा या निकाय चुनाव में एनसीपी (एसपी) के बिना लड़ने के लिए 'प्लान बी' या 'प्लान सी' तैयार रखा है.

कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष विजय वडेत्तीवार और पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने तर्क दिया है कि बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अजीत पवार के लिए पूर्व में शर्त रखी थी कि वह तभी सीएम बन सकते हैं, जब वह अपने चाचा को बीजेपी के पाले में लाने में सफल होंगे. उन्हें केंद्रीय मंत्रिमंडल में स्थान या नीति आयोग की अध्यक्षता से पुरस्कृत किया जाएगा.

इस मामले पर शरद पवार ने कहा,

''ऐसी कोई बात नहीं है. ये अफवाह सिर्फ मीडिया में है, हकीकत कुछ और है. जब मैं पिछले हफ्ते अजीत पवार से मिला तो उन्होंने मेरे लिए ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं लाया.''

बीजेपी और प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हुए शरद पवार ने कहा कि भगवा पार्टी लोगों के बीच नफरत फैलाने में लगी हुई है और उसके फैसलों के परिणामस्वरूप समाज में विभिन्न जातियों और धर्मों के बीच विवाद या कड़वाहट पैदा होती है.

0

'देश में मौजूदा माहौल बीजेपी की वापसी के लिए अनुकूल नहीं'

शरद पवार ने कहा कि अविश्‍वास प्रस्ताव के दिन पीएम मोदी ने मणिपुर पर 2 मिनट और अन्य मुद्दों पर दो घंटे तक बात की. उन्होंने नहीं सोचा कि यह महत्वपूर्ण था या उन्हें मणिपुर जाना चाहिए और वहां के लोगों का विश्‍वास बढ़ाना चाहिए.

पूर्व केंद्रीय रक्षा मंत्री शरद पवार ने आगाह किया कि मणिपुर चीन की सीमा के पास है और इसलिए उस राज्‍य पर अधिक ध्यान देने की जरूरत है. पिछले तीन महीनों से वहां जो कुछ भी हो रहा है, वह देश के लिए खतरनाक है.

शरद पवार ने पीएम मोदी के स्वतंत्रता दिवस पर दिए गए भाषण का जिक्र किया, जिसमें उन्होंने घोषणा की थी कि वह 2024 में सत्ता में लौटेंगे.

शरद पवार ने कहा कि देश में मौजूदा माहौल बीजेपी की वापसी के लिए अनुकूल नहीं है. चाहे वह 'वापस आने' का कितना भी दावा करें, उनका अंत देवेंद्र फड़णवीस जैसा ही होगा.

एनसीपी सुप्रीमो ने यह भी कहा कि विपक्षी दलों की चुनी हुई राज्य सरकारों को कमजोर करने के प्रयास चल रहे हैं, जैसा कि गोवा, मध्य प्रदेश या महाराष्ट्र और अन्य जगह देखा गया.

उन्होंने कहा कि जनता अब ये सब बर्दाश्त नहीं करेगी और बीजेपी को सबक सिखाएगी.

शरद पवार ने अपनी पार्टी को लेकर कहा कि, "मेरी पार्टी के चुनाव चिन्ह को लेकर चुनाव आयोग ने मुझे नोटिस दिया. मैं ईसीआई के कारण चिंतित नहीं हूं, लेकिन यह स्पष्ट है कि केंद्र सरकार के कुछ शक्तिशाली लोगों ने उद्धव ठाकरे की पार्टी पर ईसीआई के फैसले में हस्तक्षेप किया. हम आज ECI के उस निर्णय का परिणाम देख रहे हैं. मुझे संदेह है कि हमारे साथ भी ऐसा ही कुछ किया जा सकता है."

ADVERTISEMENT

"ऐसा कोई ऑफर नहीं मिला": सुप्रिया सुले

केंद्रीय कैबिनेट में जगह की पेशकश मिलने के सवाल पर सुप्रिया सुले ने बुधवार को कहा कि किसी ने भी पोर्टफोलियो की पेशकश के साथ उनसे संपर्क नहीं किया है. कांग्रेस पर पलटवार करते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी नेताओं को आत्मनिरीक्षण करना चाहिए कि वे ऐसे बयान क्यों दे रहे हैं.

मुंबई में पत्रकारों से बात करते हुए, सुप्रिया सुले ने कहा, "मुझे ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं मिला है और न ही किसी ने मेरे साथ इस तरह की कोई बातचीत की है. आपको उनसे (महाराष्ट्र कांग्रेस नेताओं) से पूछना चाहिए कि वे ऐसे बयान क्यों दे रहे हैं. मैं व्यक्तिगत रूप से सोनिया गांधी, राहुल गांधी, मल्लिकार्जुन खड़गे और गौरव गोगोई जैसे वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं के संपर्क में हूं, लेकिन मैं महाराष्ट्र में उनके किसी भी नेता के संपर्क में नहीं हूं."

(इनपुट- आईएएनएस)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENTREMOVE AD
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×