शरद पवार की PM को चिट्ठी-‘राज्यपाल की भाषा देखकर हैरान हूं’

राज्यपाल ने अपने लेटर में ठाकरे से पूछा, “आप हिंदुत्व के एक मजबूत स्तंभ रहे हैं, अब आप क्या ‘सेक्युलर’ हो गए हैं

Published
पॉलिटिक्स
3 min read
NCP का आरोप - सरकार ने दिल्ली में शरद पवार की सुरक्षा हटाई
i

महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी और सीएम उद्धव ठाकरे के बीच राज्य में मंदिरों को फिर से खोलने के मुद्दे पर लेटर वार हुआ और अब इस विवाद में शरद पवार की भी एंट्री हो गई है. एनसीपी चीफ शरद पवार ने पीएम मोदी को लेटर लिखकर कहा है कि राज्यपाल कोश्यारी ने जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल किया है वो किसी संवैधानिक पद पर बैठे शख्स को शोभा नहीं देता है.

राज्यपाल कोश्यारी ने हिंदुत्व को लेकर उठाए थे सवाल!

राज्यपाल ने अपने लेटर में ठाकरे के हिंदुत्व पर सवाल उठाते हुए पूछा, "आप हिंदुत्व के एक मजबूत स्तंभ रहे हैं, अब आप क्या 'सेक्युलर' हो गए हैं?" राज्य के मंदिरों में पूजा करने की अनुमति देने के मामले में कोश्यारी ने ठाकरे को लेटर लिखा था और पूछा था कि मंदिर कब से खुल रहे हैं. राज्य में सभी मंदिर कोरोनावायरस के चलते लगाए गए लॉकडाउन के कारण 23 मार्च से ही बंद हैं.

कोश्यारी ने लिखा है, "यह विडंबना है कि जहां एक ओर राज्य सरकार ने बार, रेस्तरां और समुद्र तट खोलने की अनुमति दी है, वहीं दूसरी ओर हमारे देवी-देवता अभी भी लॉकडाउन में हैं."

महाराष्ट्र के सीएम ने कहा-हिंदुत्व का सर्टिफिकेट लेने की जरूरत नहीं

कोश्यारी ने पत्र में लिखा कि कैसे ठाकरे ने मुख्यमंत्री के रूप में कार्यभार संभालने के बाद अयोध्या जाकर भगवान राम के प्रति अपनी भक्ति को सार्वजनिक रूप से दिखाया था और बाद में 1 जुलाई को आषाढ़ी एकादशी पर प्रसिद्ध पंढरपुर के भगवान विठ्ठल और देवी रुक्मिणी मंदिर में पूजा की थी.

ठाकरे ने कोश्यारी को इसका कड़ा जवाब देते हुए कहा कि राज्यपाल ने 'हिंदुत्व' के बारे में जो जिक्र किया है, वह बिल्कुल सही था. ठाकरे ने कहा, "हालांकि, मुझे किसी से भी हिंदुत्व पर सर्टिफिकेट लेने की जरूरत नहीं है, न ही मुझे इसे किसी से सीखना है. जो लोग पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के साथ हमारे राज्य और इसकी राजधानी (मुंबई) की तुलना करने वाले का गर्मजोशी से स्वागत करते हैं, वे मेरे हिंदुत्व की परिभाषा में फिट नहीं बैठते."

ठाकरे ने कहा, "क्या आप ये कहना चाह रहे हैं कि सिर्फ मंदिर खोल देने से कोई हिंदुत्व का मसीहा हो जाता है और उसे बंद करने से वो सेक्युलर हो जाता है?"

ठाकरे ने अपने जवाबी पत्र में कोश्यारी से सीधे पूछा, "आपने उस संविधान की शपथ ली है, जिसका मुख्य सिद्धांत सेक्युलरिज्म (धर्मनिरपेक्षता) है, क्या आप इससे सहमत नहीं हैं?"

शरद पवार ने पीएम से क्या कहा?

महाराष्ट्र सरकार में सहयोगी पार्टी एनसीपी के चीफ शरद पवार ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि राज्यपाल ने सीएमओ को जो चिट्ठी लिखी वो मीडिया के जरिए उन्हें मिली है.

मैं इस लेटर के जरिए राज्यपाल की कोशिश की सराहना करता हूं, लेकिन मैं ये जानकर हैरान हूं कि आखिर राज्यपाल का पत्र मीडियो को जारी किया गया था और पत्र में जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल किया गया है वो संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति को शोभा नहीं देता है.
शरद पवार, चीफ, एनसीपी
मुझे यकीन है कि पीएम मोदी लेटर में लिखी गई ऐसी असंयमित भाषा पर गौर करेंगे.
शरद पवार, चीफ, एनसीपी

शरद पवार ने लिखा है कि संविधान की प्रस्तावना में 'धर्मनिरपेक्ष' शब्द जोड़ा गया है, जो सभी धर्मों को समान बनाता है और ये सभी धर्मो के लिए ढाल की तरह है. ऐसे में मुख्यमंत्री को संविधान के ऐसे सिद्धातों को लागू करना चाहिए.

इससे पहले राज्यपाल ने अपने लेटर में लिखा था कि मंदिरों को खोलने के लिए उन्हें कई अनुरोध मिल चुके हैं. इसके जवाब में ठाकरे ने कहा कि वे सभी अनुरोध बीजेपी के लोगों के थे. हालांकि ठाकरे ने राज्यपाल कोश्यारी को आश्वासन दिया कि राज्य में मंदिरों और दूसरे धार्मिक स्थलों को खोलने पर जल्द फैसला लिया जाएगा.

(इनपुट: IANS से भी)

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!