BJP से बोली शिवसेना- अगले 5 साल पीछे हटने की आदत डाल लो

शिवसेना ने बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस को भी निशाने पर लिया है 

Updated02 Dec 2019, 03:41 AM IST
पॉलिटिक्स
2 min read

एनसीपी और कांग्रेस के साथ गठबंधन करके महाराष्ट्र की सत्ता में आने के बाद शिवसेना ने अपनी पहले की सहयोगी पार्टी बीजेपी पर तीखा हमला बोला है. शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में कहा है कि बीजपी को अगले 5 साल पीछे हटने की आदत डालनी पड़ेगी.

सामना के संपादकीय में लिखा गया है, ''(शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस) सरकार के साथ 170 विधायकों का बल है, ये हम पहले दिन से ही कह रहे थे. मगर (देवेंद्र) फडणवीस के चट्टे-बट्टों के चश्मे से ये आंकड़ा 130 के ऊपर जाने को तैयार नहीं था...170 का आंकड़ा देखकर फडणवीस के नेतृत्व वाला विपक्ष विधानसभा से भाग खड़ा हुआ.''

सामना में आगे लिखा गया है, ‘’शनिवार को 170 का आंकड़ा बीजेपी वालों की आंख और दिमाग में घुस जाने का परिणाम ऐसा हुआ कि विधानसभा अध्यक्ष पद के चुनाव में उन्हें पीछे हटना पड़ा. अब अगले 5 साल उन्हें इसी तरह पीछे हटने की आदत डालनी पड़ेगी.’’

फडणवीस को लेकर सामना के संपादकीय में लिखा गया है, ''मुख्यमंत्री की हैसियत से देवेंद्र फडणवीस ने जो गलतियां कीं, वो विरोधी पक्ष के नेता के तौर पर उन्हें नहीं करनी चाहिए. विपक्ष के नेता पद की शान और प्रतिष्ठा बरकरार रहे, ऐसी हमारी इच्छा है.''

फडणवीस को लेकर आगे लिखा गया है, ‘’बहुमत ना होने के बाद भी महाराष्ट्र को अंधेरे में रखकर अवैध ढंग से शपथ लेने वाले मुख्यमंत्री और विधानसभा का सामना किए बिना 80 घंटों में चले जाने वाले मुख्यमंत्री, ऐसा आपका इतिहास में नाम दर्ज हो चुका है. इसे याद रखो. ये कलंक मिटाना हो तो विपक्ष के नेता के रूप में वैध काम करें.’’

नाना पटोले को लेकर सामना ने लिखा है, ''विधानसभा अध्यक्ष पद पर नाना पटोले की नियुक्ति तो सबसे बड़ा तमाचा है. प्रधानमंत्री मोदी के विरोध में बगावत करके सांसद के पद से इस्तीफा देने वाले भाजपाई क्रांतिवीर के रूप में नाना पटोले का नाम दर्ज है. वह विधानसभा में भी जीत गए और अब विधानसभा अध्यक्ष बन गए. मोदी किसी को बोलने नहीं देते, ऐसा पटोले का कहना था. अब विधानसभा में फडणवीस को बोलना है या नहीं यह नाना पटोले तय करेंगे.''

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 02 Dec 2019, 03:38 AM IST

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!