देवरिया: BJP पार्षद के अपने ही सांसद पर गंभीर आरोप, CM को चिट्ठी

बीजेपी सांसद पर जान से मारने की धमकी के आरोप, सीएम योगी से की सुरक्षा की मांग

Published
पॉलिटिक्स
2 min read
बीजेपी सांसद पर जान से मारने की धमकी के आरोप, सीएम योगी से की सुरक्षा की मांग
i

उत्तर प्रदेश के देवरिया से बीजेपी पार्षद आशुतोष तिवारी ने अपनी ही पार्टी के सांसद पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं. इसे लेकर पार्षद ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को चिट्ठी भी लिखी है. इस चिट्ठी में उन्होंने सुरक्षा की मांग की है. उन्होंने कहा है कि बीजेपी सांसद ने कुछ ठेकेदारों के साथ मिलकर उनकी पिटाई की और जान से मारने की भी धमकी दे डाली.

किस बात को लेकर हुआ विवाद?

बीजेपी पार्षद आशुतोष तिवारी ने अटल बिहारी वाजपेयी के नाम से प्रस्तावित एक टाउनहॉल परिसर का जिक्र करते हुए कहा कि जिला प्रशासन की मिलीभगत से कुछ लोगों ने परिसर में पूर्व एसपी सांसद दिवंगत मोहन सिंह की प्रतिमा रख दी और सभागार का नाम मोहन सिंह सभागार रख दिया गया. जिसका उनकी तरफ से विरोध भी किया गया.

पार्षद का आरोप है कि जब उन्होंने इसकी शिकायत बीजेपी सांसद डॉ रामपति राम त्रिपाठी से की तो उन्होंने डांटकर चुप करा दिया. पार्षद ने सीएम योगी को लिखी अपनी चिट्ठी में कहा,

19 नवंबर को जब मैं सांसद से मिलने उनके आवास पर पहुंचा तो रात करीब 10:30 बजे उनके साथ राम आशीष, गिरीश सिंह उर्फ मुन्ना सिंह, उनका ड्राइवर समेत करीब 5 लोग मौजूद थे. इस दौरान सांसद ने कहा कि नगर पालिका बोर्ड की बैठक में सभागार का जो प्रस्ताव तुमने दिया है उसे वापस ले लो. मैंने कहा कि ये कैसे संभव है, जब प्रस्ताव सदन से माध्यम से पास हुआ है. लेकिन सांसद ने कहा कि तुम इसे वापस ले लो.

सांसद के सामने ठेकेदार ने तान दी पिस्तौल

पार्षद ने आगे बताया कि इस बातचीत के दौरान ठेकेदार मुन्ना सिंह ने उनके साथ बहस शुरू कर दी और कहा कि नीची आवाज में बात करो. इसके बाद हाथापाई भी शुरू हो गई. पार्षद का आरोप है कि ठेकेदार मुन्ना सिंह ने अपनी पिस्तौल भी उन पर तान दी. इसके बाद सांसद ने भी कहा कि मारो, देखा जाएगा. पार्षद के आरोपों के मुताबिक सभी ने उन्हें एक कमरे में ले जाकर पीटा. साथ ही इस दौरान जान से मारने की धमकी भी दी गई.

पार्षद ने कहा है कि अगर उन्हें और उनके परिवार को कुछ भी होता है तो इसकी जिम्मेदारी बीजेपी सांसद की होगी. क्योंकि सांसद ने कहा है कि अगर प्रस्ताव वापस नहीं लिया तो उनके परिवार को देवरिया में नहीं रहने दिया जाएगा. बीजेपी पार्षद ने सीएम योगी से अपील करते हुए कहा कि वो उन्हें और उनके परिवार को सुरक्षा मुहैया कराएं.

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!