ADVERTISEMENTREMOVE AD

बिहार में कांग्रेस-आरजेडी में आर-पार, उपचुनाव को लेकर बढ़ी तकरार

विधानसभा में एनडीए और महागठबंधन के बीच सीटों का अंतर काफी कम है

Published
न्यूज
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

बिहार (Bihar) में विधानसभा उपचुनाव से पहले कांग्रेस और आरजेडी के बीच ठन गई है, कुशेश्वर स्थान विधानसभा सीट पर दावेदारी को लेकर दोनों दल आमने-सामने आ चुके हैं. एक तरफ आरजेडी ने दोनों ही सीट पर अपनी दावेदारी ठोकी है तो दूसरी तरफ कांग्रेस ने भी एक सीट पर उम्मीदवार के चयन के लिए कमेटी बना दी है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

आरजेडी प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा है कि आरजेडी दोनों सीटों पर अपना उम्मीदवार उतारेगी, क्योंकि वहां आरजेडी की दावेदारी मजबूत है. दोनों सीटों पर लड़ने से महागठबंधन को फायदा होगा. महागठबंधन में इसको लेकर कहीं कोई किचकिच नहीं है, सभी नेता साथ बैठकर इसका फैसला कर लेंगे. आरजेडी का दावा है कि दोनों सीटें हराकर नीतीश कुमार को सीएम की कुर्सी से उतार दिया जाएगा.

0

जबकि कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा का कहना है कि कुशेश्वर स्थान कांग्रेस की सीट है और यहां से उनके प्रत्याशी को मात्र 7 हजार वोट से हार मिली थी. इसलिए कुशेश्वर स्थान सीट से कांग्रेस को ही चुनाव लड़ना चाहिए क्योंकि गठबंधन में पहले से यही तय है. वैसे भी तारापुर की सीट आरजेडी भी 7 हजार वोट से ही हारी है, तो बात बराबर है और निश्चित तौर पर कुशेश्वर स्थान से कांग्रेस ही चुनाव लड़ेगी.

ADVERTISEMENT

आंकड़ों के लिहाज से उपचुनाव महत्वपूर्ण

दरसअल जेडीयू के दो विधायकों की मौत की वजह से तारापुर और कुशेश्वर स्थान विधानसभा सीटों पर 30 अक्टूबर को उपचुनाव होने हैं. विधानसभा में एनडीए और महागठबंधन के बीच सीटों का अंतर काफी कम है, इसीलिए ये उपचुनाव आंकड़ों के लिहाज से दोनों ही गठबंधनों के लिए बेहद महत्वपूर्ण है. एनडीए को दो सीटों का नुकसान नीतीश सरकार के लिए आगे नुकसानदायक साबित हो सकता है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
2020 विधानसभा चुनाव में एनडीए को 125 और महागठबंधन को 110 सीटें मिली थीं. बाद में नीतीश कुमार ने बीएसपी, एलजेपी और निर्दलीय विधायक को साथ लाकर ये आंकड़ा 128 पहुंचा दिया. लेकिन दो विधायकों की मौत से ये संख्या घटकर 126 हो गई. अब अगर इन दो सीटों के उपचुनाव में महागठबंधन बाजी मारता है, तो उनकी संख्या बढ़कर 112 हो जाएगी और एआईएमआईएम के 5 विधायक जोड़ दें तो ये आंकड़ा 117 हो जाता है. हालांकि फिर भी महागठबंधन सरकार बनाने के जरूरी आंकड़े 122 से दूर ही रहेगी. लेकिन सरकार और विपक्ष के बीच ये दूरी इतनी मामूली है कि कभी कोई भी खेल हो सकता है.

यही वजह है कि उपचुनाव की घोषणा से पहले ही खुद नीतीश कुमार तारापुर और कुशेश्वर स्थान का दौरा कर चुके हैं. उधर तेजस्वी यादव भी काफी पहले से ही अपने नेताओं को दोनों जगहों पर पार्टी के लिए माहौल बनाने को कह चुके हैं. चूंकि दोनों सीटों पर जेडीयू ने जीत दर्ज की थी, इसलिए एनडीए में फिलहाल कोई कलह नहीं दिख रही. लेकिन बीते विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन को देखते हुए आरजेडी कोई रिस्क नहीं लेना चाहती.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×