हमसे जुड़ें
ADVERTISEMENTREMOVE AD

कानपुर: हिरासत में बिगड़ी शख्स की तबीयत, परिवार ने पुलिस पर लगाया मौत का आरोप

परिजनों ने पुलिस पर शख्स को पीट-पीटकर मार देने का आरोप लगाया है.

Published
राज्य
2 min read
कानपुर: हिरासत में बिगड़ी शख्स की तबीयत, परिवार ने पुलिस पर लगाया मौत का आरोप
i
Hindi Female
listen

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

उत्तर प्रदेश के कानपुर में पुलिस हिरासत में एक शख्स की तबीयत बिगड़ने और इसके बाद उसकी मौत का मामला सामने आया है, जिसके बाद से पुलिस महकमे पर सवाल खड़े हो गए हैं. शख्स के परिजनों ने आरोप लगाया है कि पुलिस की मारपीट से उसकी मौत हुई है. घरवालों के हंगामे के बाद पुलिस ने मामले में कार्रवाई करते हुए कई पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

क्या है पूरा मामला?

मामला कानपुर देहात के कोतवाली शिवली का है. बीते दिनों एक व्यापारी के साथ हुई लूट की घटना के मामले में पुलिस ने शक में लालपुर सरैया निवासी बलवंत सिंह को हिरासत में लिया था. पुलिस पूछताछ के लिए शख्स को रनिया थाने लेकर गई. बताया जा रहा है कि इसी दौरान बलवंत के सीने में दर्द हुआ, तो पुलिस देर रात उसे जिला अस्पताल लेकर पहुंची, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. वहीं, सूचना मिलते ही जिला अस्पताल पहुंचे शख्स के बड़े भाई सचिन ने पुलिस पर बलवंत को पीट-पीटकर मार देने का आरोप लगाया है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

परिवार ने पुलिस पर लगाया आरोप

मृतक के बड़े भाई सचिन ने कहा कि बलवंत किसी काम के लिए निकला था, जब पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया. भाई ने कहा, "हम जब रनिया थाने पहुंचे, तो उसे पुलिस पीट रही थी. हमने पूछा कि वो उसे क्यों पीट रहे हैं. हमारे चाचा, जिनके साथ ये घटना हुई थी, वो भी हमारे साथ थे. उन्होंने बताया कि जिस समय घटना हुई थी, उस समय वो हमारे साथ ही था."

भाई ने आगे बताया कि पुलिस ने उनसे कहा कि उन्हें इंक्वायरी करने दिया जाए. उन्होंने कहा,

"किसी भी पुलिसवाले या टीम ने हमें कोई जानकारी नहीं दी. भाई की मौत के लिए पुलिस विभाग जिम्मेदार है. वो घर से स्वस्थ्य निकला था, फिर पुलिस ने उसे इतना पीटा और हमें अभी तक जानकारी नहीं दी कि वो कहां है."
ADVERTISEMENTREMOVE AD

कई पुलिसकर्मी सस्पेंड

पुलिस अधीक्षक सुनीति के मुताबिक, "6 दिसंबर को हुई लूट की घटना के खुलासे को लेकर संदिग्ध लोगों से पूछताछ की जा रही थी. इसी क्रम में बलवंत सिंह को भी पूछताछ के लिए बुलाया गया था और वो खुद ही थाने आया था. इस दौरान उसकी तबीयत बिगड़ गई. उसे तत्काल अस्पताल ले जया गया, जहां पर उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई है. परिजन जो भी आरोप लगा रहे हैं, उसको संज्ञान में लेते हुए खुलासे के लिए लगी एसओजी टीम, मैथा चौकी प्रथारी और थाना प्रभारी को तत्काल सस्पेंड कर दिया गया है. पूरे मामले की जांच के लिए टीम गठित कर दी गई है."

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
और खबरें
×
×