ADVERTISEMENTREMOVE AD

नेहा राठौर पर MP में FIR, सीधी पेशाब कांड पर "MP में का बा" लिखकर किया था ट्वीट

नेहा सिंह राठौर, अपने तंजिया लहजे में सरकार पर तंज कसने के लिए सोशल मीडिया पर अक्सर चर्चाओं में रहती है.

Published
राज्य
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के सीधी में पेशाब कांड पर एक सोशल मीडिया पोस्ट लिखने पर भोजपुरी गायिका नेहा सिंह राठौर (Neha Singh Rathore) के खिलाफ एफआईआर (FIR) दर्ज की गई है. मध्य प्रदेश में कतिथ तौर पर एक बीजेपी (BJP) नेता ने एक आदिवासी पर पेशाब किया था. जिसका वीडियो वायरल होने के बाद हड़कंप मच गया था.

भोजपुरी गायिका नेहा सिंह राठौर अपने तंजिया लहजे में सरकार पर तंज कसने के लिए सोशल मीडिया पर अक्सर चर्चाओं में रहती हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

नेहा सिंह राठौर ने पोस्ट किया था कार्टून 

नेहा सिंह राठौर की इस पोस्ट में, एक अर्धनग्न व्यक्ति जो संभवतः आरोपी प्रवेश शुक्ला को दर्शाता है, उसे आदिवासी दशमेश रावत पर पेशाब करते हुए दिखाया गया है. पेशाब करने वाला आदमी आधी बाजू की सफेद शर्ट पहने हुए था, सिर पर काली टोपी थी और उसकी खाकी निक्कर एक तरफ रखी हुई थी.

इस पोस्ट के कैप्शन में लिखा गया है कि, 'एम पी में का बा..?, जल्द आ रहा है'

भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 153 (ए) (धर्म, जाति आदि के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना) के तहत सूरज खरे की शिकायत के आधार पर भोपाल के हबीबगंज पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज की गई है.

'एमपी में का बा गाना रोकने के लिए एफआईआर'

क्विंट हिंदी से बात करते हुए नेहा सिंह राठौर ने बताया कि, " मध्यप्रदेश में जो पेशाब कांड हुआ है, उससे रिलेटेड मैंने एक कार्टून पोस्ट किया था, उससे सम्बंधित एफआईआर हुई है. सूरज खरे नाम के एक बीजेपी नेता ने एफआईआर कराई है."

उन्होंने आगे बताया कि,

"मीडिया के जरिए एफआईआर की जानकारी हुई है, मुझे एफआईआर की कॉपी में टैग किया गया है. मुझे लगता है मेरा एक गाना एमपी में का बा आने वाला है, मुझे लग रहा है कि इनकी मंशा यह है कि यह गाना आए इससे पहले ही मुझे कानूनी पचड़े में फंसा दिया जाए."
नेहा सिंह राठौर, भोजपुरी गायिका

नेहा सिंह राठौर ने कहा, "अभी पुलिस तो उनके पास नहीं आई है, आगे वकील से बात करने के बाद देखूंगी कि मामले में आगे क्या कर सकती हूं."

बता दें, फरवरी में नेहा सिंह राठौर को उनके गाने 'यूपी में का बा- सीजन 2' के लिए पुलिस की ओर से नोटिस भेजा गया था. जिसमें बेदखली अभियान के दौरान कानपुर देहात में मां-बेटी की मौत पर उत्तर प्रदेश सरकार की आलोचना की गई थी.

नोटिस आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 160 (गवाहों की उपस्थिति की आवश्यकता के लिए पुलिस अधिकारी की शक्ति) के तहत दिया गया था. नेहा सिंह राठौर पर अपने गाने के जरिए जनता के बीच नफरत भड़काने का आरोप लगा था.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

0
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×