ADVERTISEMENT

Punjab: गवर्नर के विशेष सत्र रद्द करने के फैसले के खिलाफ SC जाएंगे- CM भगवंत मान

मुख्यमंत्री भगवंत मान ने गवर्नर के विशेष सत्र रद्द करने के फैसले को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है.

Published
राज्य
2 min read
Punjab: गवर्नर के विशेष सत्र रद्द करने के फैसले के खिलाफ SC जाएंगे- CM भगवंत मान
i

पंजाब (Punjab) में विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने को लेकर आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) और गवर्नर के बीच विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. गवर्नर के विशेष सत्र की इजाजत न देने के फैसले के खिलाफ पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान अब सुप्रीम कोर्ट जाएंगे. पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान (Bhagwant Mann) ने कहा कि, "राज्य सरकार ने अब राज्य से सम्बन्धित अलग-अलग मसलों पर विचार-चर्चा करने के लिए 27 सितम्बर को पंजाब विधान सभा का सत्र बुलाने का फैसला किया है."

ADVERTISEMENT

CM भगवंत मान ने पंजाब कांग्रेस पर भी बोला हमला  

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने एक बयान जारी कर कहा कि, "विधान सभा के विशेष सत्र की पहले मंजूरी देकर बाद में रद्द करने के राज्यपाल के मनमाने और लोकतंत्र विरोधी फैसले के खिलाफ राज्य सरकार सुप्रीम कोर्ट के पास जाएगी." मुख्यमंत्री भगवंत मान ने गवर्नर के विशेष सत्र रद्द करने के फैसले को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है.

पंजाब के गवर्नर बनवारीलाल पुरोहित ने बुधवार, 21 सितंबर की रात सदन के विशेष सत्र के लिए अपनी सहमति वापस ले ली थी. मुख्यमंत्री भगवंत मान ने गुरुवार 22 सितंबर को पंजाब विधानसभा में आम आदमी पार्टी (आप) के विधायकों के साथ बैठक बुलाई थी.

पंजाब कांग्रेस पर भी निशाना साधते हुए मान ने कहा कि बीजेपी के ‘ऑपरेशन लोटस’ के साथ कांग्रेस भी खड़ी है, जो खुद इससे पीड़ित है. बीजेपी और कांग्रेस पर हमला बोलते हुए भगवंत मान ने कहा कि पंजाब देश के लोगों को यह संदेश देगा कि लोकतंत्र में कोई व्यक्ति विशेष नहीं बल्कि लोग सबसे ऊपर होते हैं.

राज्यपाल के कार्यालय से पंजाब विधानसभा के सचिव सुरिंदर पाल को भेजे गए आदेश में राज्यपाल के प्रधान सचिव, जेएम बालमुरुगन का एक पत्र भी है. इस पत्र में कहा गया है कि राज्यपाल को विपक्ष के नेता प्रताप सिंह बाजवा, कांग्रेस विधायक सुखपाल सिंह खैरा और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष और विधायक अश्विनी शर्मा का आज यह प्रतिनिधित्व प्राप्त हुआ है कि राज्य सरकार के विश्वास प्रस्ताव पेश करने के लिए विशेष सत्र बुलाने का कोई प्रावधान नहीं है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
और देखें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×