ADVERTISEMENT

राजस्थान:नौकरी में स्थानीयों को आरक्षण का मामला,सरकार ने कहा-यह संविधान के खिलाफ

भारत के संविधान के अनुच्छेद 16(2) के तहत निवास स्थान के आधार पर सार्वजनिक नियोजन में भेदभाव नहीं किया जा सकताः कल्ला

Published
राज्य
2 min read
राजस्थान:नौकरी में स्थानीयों को आरक्षण का मामला,सरकार ने कहा-यह संविधान के खिलाफ
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

राजस्थान सरकार ने मंगलवार को विधानसभा में कहा कि राज्य की सरकारी नौकरियों में स्थानीय लोगों को अलग से आरक्षण देने का कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है. शिक्षा मंत्री बीडी कल्ला (Dr. Bulaki Das Kalla) ने बीजेपी विधायक वासुदेव देवानानी (Vasudev Devnani) की ओर से पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि सेवा नियमों में ‘राष्ट्रीयता’ के नियम के तहत कर्मचारी के भारत का नागरिक होने का प्रावधान है.

ADVERTISEMENT

भारत के संविधान के अनुच्छेद 16 (2) के अनुसार, निवास स्थान के आधार पर सार्वजनिक नियोजन में भेदभाव नहीं किया जा सकता.

निवास स्थान के आधार पर सार्वजनिक नियोजन में विधिक प्रावधान करने का अधिकार अनुच्छेद 16 (3) के अनुसार केवल संसद को है. राज्य में वर्तमान में ऐसा कोई प्रस्‍ताव विचाराधीन नहीं है.
शिक्षा मंत्री बीडी कल्ला

कल्ला ने कहा कि, वर्तमान में प्रदेश की भर्तियों में स्‍थानीय लोगों के लिए अलग से आरक्षण का कोई प्रावधान नहीं है, लेकिन राज्‍य में जातिय आरक्षण के अलावा आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग की कुल भर्तियों में से 64 फीसदी पदों को भरे जाने का प्रावधान है.

मामले में विधानसभा अध्यक्ष डॉ सीपी जोशी ने हस्तक्षेप करते हुए मंत्री के जवाब में तमिलनाडु राज्य में व्यवस्था का जिक्र किया और अपनी ओर से सरकार को सलाह दी कि वह इसकी पड़ताल करवाए.

तमिलनाडु का उदाहरण संविधान की कांट्रेरी (प्रतिकूल) नहीं है तो हमें सरकार को भी प्रावधान करना चाहिये कि यहां जितनी भी भर्तियां निकलेंगी, उसमें स्थानीय विद्यालयों, महाविद्यालयों में पढ़ने वाला व्यक्ति ही पात्र होगा. इसका पड़ताल जरूर कर लें, जिससे स्थानीय छात्रों को, यहां के युवाओं को इसका लाभ मिल सके.
डॉ सीपी जोशी

जवाब में कल्ला ने कहा कि पंजाब, तमिलनाडु, गुजरात की स्थानीय भाषा मान्यता प्राप्त है, जबकि राजस्थान की भाषा को मान्यता नहीं है. उन्होंने कहा कि राजस्थानी भाषा को मान्यता का प्रस्ताव केंद्र सरकार के पास विचाराधीन है.

कल्ला ने पूरक प्रश्न के उत्तर में कहा कि, राज्य की प्रतियोगी परीक्षाओं में राजस्थान की संस्कृति, इतिहास, भूगोल आदि से संबंधित करीब 30 से 40 प्रतिशत प्रश्न शामिल होते हैं ताकि स्थानीय अभ्यर्थियों को भर्ती में लाभ मिल सके. उन्होंने कहा कि राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा साल 2012 से अब तक आयोजित परीक्षाओं में राज्य से बाहर के मात्र 1.05 प्रतिशत अभ्यर्थी और राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड द्वारा आयोजित परीक्षाओं में अब तक 0.90 प्रतिशत बाहर के अभ्यर्थी चयनित हुए हैं.

(इनपुट-पंकज सोनी)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
450

500 10% off

1620

1800 10% off

4500

5000 10% off

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह

गणतंत्र दिवस स्पेशल डिस्काउंट. सभी मेंबरशिप प्लान पर 10% की छूट

मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×