ADVERTISEMENT

बलिया: भारी बारिश के चलते 900 कैदियों को दूसरी जेलों में शिफ्ट करने की तैयारी

939 कैदियों को भारी सुरक्षा के बीच आजमगढ़ और अम्बेडकरनगर के जेलों में शिफ्ट करने की तैयारी शुरू हो चुकी है.

Updated
न्यूज
2 min read
बलिया: भारी बारिश के चलते 900 कैदियों को दूसरी जेलों में शिफ्ट करने की तैयारी
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बलिया (Ballia) में 2 दिनों से हो रही तेज बारिश ने प्रशासन की मुश्किलें बढ़ा दी हैं. आलम यह है कि बलिया जेल में चारों तरफ लबालब जलभराव हो गया, इसके बाद वहां से कैदियों को निकाल कर दूसरी जेलों में शिफ्ट करने की तैयारी है.

खबर है कि बलिया जेल में पानी भरने के बाद लगभग 900 कैदियों को दूसरी जिलों में शिफ्ट किया जा रहा है.

ADVERTISEMENT

2 दिन की बारिश में ऐसा हाल

उत्तर प्रदेश के बलिया में 2 दिनों से हो रही तेज बारिश से जिला कारागार पूरी तरह जलमग्न हो गया है. यहां तक कि बैरकों में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं जिससे कैदियों को परेशानी उठानी पड़ रही है.

लगातार होती बारिश और जेल में जलभराव के बाद जिला प्रशासन के हाथ पांव फूल गए हैं और पूरा प्रशासन अलर्ट हो गया है.

जेल में बंद महिलाएं और बच्चे सहित 939 कैदियों को भारी सुरक्षा के बीच आजमगढ़ और अम्बेडकरनगर की जेलों में शिफ्ट करने की तैयारी शुरू हो चुकी है.

बलिया के एसपी सहित तमाम आला अधिकारी मौके पर मौजूद हैं. जिला कारागार को छावनी में तब्दील कर दिया गया है और सुरक्षा की दृष्टि से गैर जनपदों से भारी संख्या में फोर्स बुलाई गई है.

ADVERTISEMENT

हर साल बनते हैं ऐसे हालात

बलिया जेल में पानी भरने और जिला कारागार के छावनी में तब्दील होने की यह पहली घटना नहीं है. हर साल बरसात में जेल में बाढ़ जैसे हालात हो जाते हैं जिसके बाद कैदियों को दूसरी जेलों में शिफ्ट करना पड़ता है.

जलभराव के चलते प्रशासन को बलिया जेल दूसरी जगह शिफ्ट करने के लिए कई बार लिखा जा चुका है लेकिन हालात जस के तस हैं और इसका कोई असर होता हुआ नजर नहीं आ रहा.

जेल अधीक्षक ने बताया है कि 939 कैदी जिला कारागार में बंद है जिनमें 600 कैदियों को आजमगढ़ और 339 कैदियों को अम्बेडकरनगर जेल में भेज जा रहा है. इसमें कई कुक, 61 महिलाएं और 3 बच्चे शामिल हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×