ADVERTISEMENTREMOVE AD

केजरीवाल की गिरफ्तारी पर उमड़ी भीड़ की नहीं, फोटो जगन्नाथ पुरी की है

वायरल फोटो चेन्नई की नहीं बल्कि ओडिशा की है, इस फोटो का केजरीवाल की गिरफ्तारी से कोई संबंध नहीं है.

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

सोशल मीडिया पर भारी भीड़ से पटी हुई एक सड़क की फोटो वायरल है. इसे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) की गिरफ्तारी से जोड़कर शेयर किया जा रहा है.

क्या है दावा: ? इस तस्वीर को इस कैप्शन के साथ शेयर किया जा रहा है कि, "केजरीवाल की गिरफ्तारी के खिलाफ जनता सड़कों पर है."

वायरल फोटो चेन्नई की नहीं बल्कि ओडिशा की है, इस फोटो का केजरीवाल की गिरफ्तारी से कोई संबंध नहीं है.

इस पोस्ट का अर्काइव यहां देखा जा सकता है.

(सोर्स - X/स्क्रीनशॉट)

(ऐसे ही अन्य पोस्ट के अर्काइव यहां, यहां और यहां देखे जा सकते हैं.)

ADVERTISEMENTREMOVE AD

क्या यह दावा सही है? : नहीं, यह दावा सही नहीं है. यह तस्वीर जून 2023 से इंटरनेट पर है. यह तस्वीर ओडिशा के जगन्नाथ यात्रा की है. दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी से इसका कोई संबंध नहीं है.

हमनें सच का पता कैसे लगाया? : फोटो को गूगल लेंस के जरिए सर्च करने पर हमें Wikimedia Commons नाम की वेबसाइट पर यही फोटो मिली. फोटो के डिस्क्रिप्शन में इसका सोर्स ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक का X अकॉउंट बताया गया था.

वायरल फोटो चेन्नई की नहीं बल्कि ओडिशा की है, इस फोटो का केजरीवाल की गिरफ्तारी से कोई संबंध नहीं है.

पोस्ट का लिंक यहां देखें

(Altered by Quint Hindi)

नवीन पटनायक के X अकाउंट पर हमें यह तस्वीर और इसके साथ तीन अन्य तस्वीरें मिली.

इन तस्वीरों का कैप्शन था, "पूछती आंखें, पूछता हुआ मन बड़ाडांडा में भक्त और भगवान का अपूर्व मिलन. जय जगन्नाथ." (ओड़िया से हिंदी में अनुवाद)

  • नवीन पटनायक के इंस्टाग्राम अकाउंट पर भी यही फोटो पोस्ट की गई थी, जिसका कैप्शन लगभग X पोस्ट के जैसा ही था.

  • हमें भुवनेश्वर की सांसद अपराजिता सारंगी के इंस्टाग्राम अकाउंट पर यही तस्वीर मिली, जिसका कैप्शन ओड़िया भाषा में लगभग नवीन पटनायक के कैप्शन जैसा ही था.

वायरल फोटो चेन्नई की नहीं बल्कि ओडिशा की है, इस फोटो का केजरीवाल की गिरफ्तारी से कोई संबंध नहीं है.

इस पोस्ट का लिंक यहां देखें

(सोर्स - इंस्टाग्राम/स्क्रीनशॉट)

इन सभी एकाउंट्स पर इस फोटो को 20 जून, 2023 को ही अपलोड किया गया था. जाहिर है फोटो पिछले साल की है. और इसका 2024 में हुई दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी से कोई संबंध नहीं है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

निष्कर्ष: सोशल मीडिया पर जगन्नाथ यात्रा के लिए जुटी भीड़ की पुरानी फोटो को अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी के खिलाफ सड़क पर आई जनता का बताकर शेयर किया जा रहा है.

(अगर आपके पास भी ऐसी कोई जानकारी आती है, जिसके सच होने पर आपको शक है, तो पड़ताल के लिए हमारे वॉट्सऐप नंबर 9540511818 या फिर मेल आइडी webqoof@thequint.com पर भेजें. सच हम आपको बताएंगे. हमारी बाकी फैक्ट चेक स्टोरीज आप यहां पढ़ सकते हैं)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×