ADVERTISEMENTREMOVE AD

दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल और ASG राजू के बीच कोर्ट में यह बहस नहीं हुई

Fake News | अदालत में मौजूद कई पत्रकारों ने इस दावे का खंडन किया और कहा कि कोर्ट में यह बातचीत नहीं हुई थी.

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हो रही है. इसमें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) और अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल (ASG) एसवी राजू के बीच अदालत के अंदर हुई एक कथित बहस के बारे में बताया गया है.

पोस्ट में क्या कहा गया?: पोस्ट में टेक्स्ट शामिल था जिसमें कहा गया था, "अरविंद केजरीवाल का कोर्ट में करारा जवाब."अरविंद केजरीवाल: आपने मुझे गिरफ्तार क्यों किया है? ASG राजू: हमारे पास आपके खिलाफ एक बयान है. अरविंद केजरीवाल: तो अगर मैं कहूं कि मैंने मोदी और अमित शाह को 100 करोड़ रुपये दिए, तो क्या आप जाएंगे और मेरे बयान के आधार पर उन्हें गिरफ्तार करेंगे? न्यायाधीश और ASG दोनों चुप हो गए." (sic)

Fake News | अदालत में मौजूद कई पत्रकारों ने इस दावे का खंडन किया और कहा कि कोर्ट में यह बातचीत नहीं हुई थी.

इस पोस्ट का अर्काइव  यहां  देखा जा सकता है.

(सोर्स: X/(पूर्व में ट्विटर)/स्क्रीनशॉट)

ADVERTISEMENTREMOVE AD

इस पोस्ट को प्लेटफार्म पर दस लाख से ज्यादा बार देखा जा चुका है.

(आप ऐसे कई दावों के अर्काइव यहां, यहां और यहां देख सकते हैं.)

क्या ये दावे सच हैं?: नहीं, यह साबित करने के लिए ऐसा कोई सबूत नहीं है कि सीएम केजरीवाल और ASG राजू के बीच ऐसी कोई बातचीत हुई थी.

  • इसके अलावा, द क्विंट ने कार्यवाही के दौरान अदालत कक्ष के अंदर मौजूद पत्रकारों से बात की जिन्होंने पुष्टि की कि वायरल दावा फर्जी है.

हमनें सच का पता कैसे लगाया ?: हमने पाया कि जब प्रवर्तन निदेशालय (ED) द्वारा अरविंद केजरीवाल की रिमांड की अवधि समाप्त हो गई थी तब उन्हें अदालत में पेश किया गया था. यहां उन्होंने अपना पक्ष रखा.

  • Live Law ने अपने आधिकारिक X हैंडल पर केजरीवाल के बयान अपलोड किए थे.

  • केजरीवाल ने ED द्वारा पेश किए गए सबूतों पर असहमति जताई और सुझाव दिया कि यह पूरा कदम उनकी पार्टी को कुचलने के लिए है.

  • हालांकि हमें अरविंद केजरीवाल द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी या केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर की गई व्यंग्यात्मक टिप्पणी की कोई जानकारी नहीं मिली.

  • न्यूजलॉन्ड्री ने भी अदालती कार्यवाही पर एक रिपोर्ट छापी थी जिसमें केजरीवाल द्वारा उठाए गए मुद्दों के बारे में बताया गया था.

  • यहां भी PM मोदी या गृह मंत्री शाह को लेकर कोई जिक्र नहीं था.

Fake News | अदालत में मौजूद कई पत्रकारों ने इस दावे का खंडन किया और कहा कि कोर्ट में यह बातचीत नहीं हुई थी.

रिपोर्ट 28 मार्च को छपी थी.

(सोर्स: न्यूजलॉन्ड्री/स्क्रीनशॉट)

ADVERTISEMENTREMOVE AD

रिपोर्टर ने वायरल दावे का खंडन किया: न्यूजलॉन्ड्री की एक पत्रकार, तनिष्का सोढी ने कहा कि अदालती कार्यवाही के दौरान यह बातचीत नहीं हुई थी. तनिष्का सोढी ने लोगों से फेक न्यूज आगे शेयर करने से रोकने के लिए भी कहा.

'त्यागराजन नरेंद्रन' नाम के एक अन्य पत्रकार ने X पर कहा कि वो अदालत में मौजूद थे और वायरल दावे में बताई गई बातचीत हुई ही नहीं थी.

टीम वेबकूफ ने अदालती कार्यवाही के दौरान मौजूद अन्य पत्रकारों के साथ-साथ वकीलों से भी संपर्क किया, जिन्होंने हमें पुष्टि की कि यह बातचीत नहीं हुई थी.

हमने इनपुट के लिए केजरीवाल के वकील से संपर्क किया है और प्रतिक्रिया मिलने पर इस रिपोर्ट को अपडेट किया जाएगा.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

निष्कर्ष: दावे के मुताबिक दिल्ली के सीएम केजरीवाल और ASG राजू के बीच यह बातचीत दावे के मुताबिक नहीं हुई.

(अगर आपके पास भी ऐसी कोई जानकारी आती है, जिसके सच होने पर आपको शक है, तो पड़ताल के लिए हमारे वॉट्सऐप नंबर 9540511818 या फिर मेल आइडी webqoof@thequint.com पर भेजें. सच हम आपको बताएंगे. हमारी बाकी फैक्ट चेक स्टोरीज आप यहां पढ़ सकते हैं)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×