ADVERTISEMENT

स्कूलों में कुरान, बाइबल पढ़ने की इजाजत देता है संविधान पर गीता नहीं? ये सच नहीं

दावा है कि संविधान की धारा 28, 29 और 30A के मुताबिक स्कूलों में कुरान, बाइबल पढ़ाई जा सकती है, लेकिन भगवतगीता नहीं

Updated

सोशल मीडिया पर वायरल एक मैसेज में ये दावा किया जाता है कि भारत के संविधान (Indian Constitution) की धारा 28,29 और 30A के मुताबिक, स्कूलों में इस्लाम धार्मिक ग्रंथ कुरान पढ़ने की इजाजत है, लेकिन हिंदू धार्मिक ग्रंथ गीता, रामायण पढ़ने की नहीं.

क्विंट की वेबकूफ टीम ने जब इस दावे की पड़ताल की, तो सामने आया कि संविधान के किसी भी अनुच्छेद में ये नहीं कहा गया है कि स्कूलों में कुरान पढ़ने की अनुमति है पर गीता की नहीं. वहीं वायरल मैसेज में जिस धारा 30A का जिक्र है, ऐसी कोई धारा संविधान में है ही नहीं.

ADVERTISEMENT

दावा

सोशल मीडिया पर शेयर होने वाला मैसेज है

धारा 28,29,30A क्या है?

इन धाराओं में साफ लिखा हुआ है कि

#मुस्लिम स्कूल में #कुरान पढ़ाया जा सकता है,

#इसाई स्कूल में #बाइबिल पढ़ाया जा सकता है,

मगर किसी भी #हिंदी_स्कूल में #वेद, #गीता या #रामायण नहीं पढ़ाया जा सकता।

ऐसा मैंने नहीं कहा है यह संविधान की धारा 28,29,30A में लिखा है।......आप सब का क्या विचार हैं....

पोस्ट का अर्काइव यहां देखें

सोर्स : स्क्रीनशॉट/फेसबुक

ADVERTISEMENT

फेसबुक और ट्विटर पर ये दावा करते एक नहीं ढेरों मैसेज देखे जा सकते हैं.

लिंक का अर्काइव यहां देखें 

ADVERTISEMENT

संविधान में धारा 30A है ही नहीं

वायरल मैसेज में संविधान की धारा 30A का जिक्र है, जबकि भारत के संविधान में धारा 30A है ही नहीं. संविधान के अनुच्छेद 30 का उप खंड (Sub Claus) अनुच्छेद 30 (1A) है. हमने दुर्गादास बसु की किताब Introduction to The Constitution of India देखी. किताब 25वें एडिशन के पेज नंबर 128 पर अनुच्छेद 30 के बाद सीधे 30(1A) का ही जिक्र है.

किताब : Introduction to Constitution of India - Durga Das Basu

ADVERTISEMENT

केंद्र सरकार के विधायी विभाग (Legislative Department) की ऑफिशियल वेबसाइट पर उपलब्ध संविधान की कॉपी में भी हमने अनुच्छेद 30 देखा. यहां भी अनुच्छेद 30 के बाद 30(A) जैसा कुछ नहीं है.

आर्टिकल 30 के बाद सीधे आर्टिकल 31(A) है.

ADVERTISEMENT

धारा 30 में स्कूलों में कुरान पढ़ने की अनुमति जैसा कुछ है?

नहीं, भारत के संविधान का अनुच्छेद 30 धार्मिक और भाषाई आधार पर अल्पसंख्यक समुदायों को शिक्षण संस्थान (Educational Institute) खोलने और उनका संचालन करने का अधिकार देता है. कुरान या धार्मिक ग्रंथ पढ़ाए जाने का कोई जिक्र इस आर्टिकल में नहीं है.

वहीं अनुच्छेद 30(1A) अल्पसंख्यक समूहों के शुरू किए गए शैक्षणिक संस्थान का अधिग्रहण होने की स्थिति में लागू होने वाले नियमों का जिक्र है.

साफ है कि अनुच्छेद 30 में अल्पसंख्यकों को शिक्षण संस्था खोलने की अनुमति दी गई है. चूंकि वायरल मैसेज में ये दावा किया गया है कि अनुच्छेद 30 कुरान और बाइबल पढ़ने की इजाजत देता है, ये जान लेना जरूरी है कि यहां अल्पसंख्यक का मतलब सिर्फ मुस्लिम और सिख समुदाय से नहीं है.

ADVERTISEMENT

दुर्गादास बसु की किताब Introduction to The Constitution of India के मुताबिक, यहां अल्पसंख्यक समूह के दो मतलब हैं. पहले वो जो भाषाई आधार पर अल्पसंख्यक हैं दूसरे वो जो धार्मिक आधार पर अल्पसंख्यक हैं. सबसे महत्वपूर्ण बात ये कि यहां राज्य के आधार पर भाषाई और धार्मिक अल्पसंख्यक माना गया है, न की पूरे देश के आधार पर.

ADVERTISEMENT

यानी जिस राज्य में शिक्षण संस्थान खोला जा रहा है, शिक्षण संस्थान खोलने वाले समूह उस राज्य में अल्पसंख्यक होना चाहिए. इसे और आसान भाषा में कहें तो ये जरूरी नहीं है कि एक ही समुदाय को देश के हर राज्य में शिक्षण संस्थान खोलने की अनुमति हो. क्योंकि वो हर राज्य में अल्पसंख्यक नहीं होगा. हो सकता है कोई समुदाय मध्य प्रदेश में अल्पसंख्यक हो पर पंजाब में नहीं.

ADVERTISEMENT

2019 में भी ये दावा किया गया था कि संविधान की धारा 30 स्कूलों में कुरान पढ़ने की इजाजत देती है और धारा 30(A) स्कूलों में हिंदू धार्मिक ग्रंथ पढ़ने से रोकती है. क्विंट की वेबकूफ टीम ने इस दावे की पड़ताल भी की थी.

क्विंट से बातचीत में लोकसभा के पूर्व सेक्रेटरी जनरल सुभाष कश्यप ने कहा था कि संविधान में ऐसा कोई अनुच्छेद या प्रावधान नहीं है, जो स्कूलों में कुरान पढ़ने की इजाजत देता हो और भगवत गीता पढ़ने से रोकता हो.

ADVERTISEMENT
अनुच्छेद 30 के अंतर्गत अल्पसंख्यक समूह शिक्षण संस्थान खोल सकते हैं और उनका संचालन भी कर सकते हैं. ये भी तय कर सकते हैं कि किस मीडियम में पढ़ाई होगी. पर भगवत गीता और कुरान स्कूल में पढ़ाए जाने को लेकर हो रहे दावे का अनुच्छेद 30 से कोई संबंध नहीं है.
सुभाष कश्यप, संविधान विशेषज्ञ
ADVERTISEMENT

धारा 28 और 29 क्या हैं?

वायरल मैसेज में संविधान की धारा 28 और 29 का भी जिक्र है, तो उनके बारे में भी जान लेते हैं. संविधान के अनुच्छेद 28 के मुताबिक, राज्य सरकार से फंड लेने वाले किसी भी शैक्षणिक संस्थान में किसी तरह के धार्मिक निर्देश देने की अनुमति नहीं है.

ये नियम उन शिक्षण संस्थानों पर लागू नहीं होगा जो किसी ट्रस्ट आदि द्वारा शुरू किया गया है, जहां धार्मिक शिक्षा जरूरी है.

गौर करने वाली बात ये है कि यहां किसी भी धर्म का जिक्र नहीं है. जैसा कि वायरल मैसेज में दावा है.

अब जानते हैं धारा 29 के बारे में

अनुच्छेद 29 अल्पसंख्यकों के अधिकारों की बात करता है. इसके मुताबिक,

  • भारत में रहने वाले नागरिक की अपनी विशिष्ट भाषा, लिपि या संस्कृति के संरक्षण का अधिकार होगा.

  • किसी भी नागरिक को केवल धर्म, मूलवंश, जाति, भाषा या इनमें से किसी के आधार पर राज्य द्वारा संचालित या राज्य से सहायता प्राप्त किसी भी शैक्षणिक संस्थान में प्रवेश से वंचित नहीं किया जा सकता.

साफ है कि इस अनुच्छेद में ऐसा कुछ नहीं है, जैसा कि वायरल मैसेज में दावा है.

ADVERTISEMENT

संविधान के अनुच्छेद 28,29 और 30A में ऐसा कहीं जिक्र नहीं है कि स्कूलों में कुरान पढ़ाई जा सकती है पर गीता नहीं. संविधान में कहीं भी ऐसा नहीं कहा गया है. सोशल मीडिया पर आए दिन वायरल होने वाला ये दावा वेबकूफ की पड़ताल में भ्रामक निकला.

संविधान से जुड़े ऐसे ही एक और भ्रामक दावे का सच जानने के लिए नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करें.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, news और webqoof के लिए ब्राउज़ करें

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×