ADVERTISEMENT

कोरोना का गलत इलाज बताते इन सभी दावों का सच जान लीजिए

हल्दी, कपूर, अजवाइन, सरसों का तेल और नींबू पानी से कोविड-19 का संक्रमण रोकने के दावे किए  जा रहे हैं .

Updated
कोरोना का गलत इलाज बताते इन सभी दावों का सच जान लीजिए
i

कोरोना की दूसरी लहर के बाद देश के कई हिस्सों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिए लॉकडाउन और कर्फ्यू लगा दिए गए हैं. संक्रमितों और संक्रमण से होने वाली मौतों के आंकड़े डराने लगे हैं. इसी बीच सोशल मीडिया पर कोरोना का घरेलू इलाज बताते ऐसे कई दावे दोबारा शेयर किए जाने लगे है, जो साल 2020 में किए गए थे.

कभी कपूर और हल्दी की भाप को कोरोना संक्रमण रोकने में कारगर बताया जा रहा है. तो कभी दावा किया जा रहा है कि नींबू पानी पीने से वायरस को फेफड़ों तक पहुंचने से रोका जा सकता है. कोरोना को लेकर फैल रहे झूठ को पहचानना भी महामारी के खिलाफ छिड़ी इस लड़ाई का अहम हिस्सा है. कोरोना का झूठा इलाज बताते इन सभी दावों का सच जानिए.

ADVERTISEMENT

दावा : पानी के साथ नींबू पीने से वायरस फेंफड़ों तक पहुंचने से पहले ही खत्म हो जाते हैं

अखबार की एक कटिंग शेयर की जा रही है. जिसमें कोरोना के सामान्य लक्षण बताए गए हैं. साथ में वायरस के इलाज को लेकर भी कुछ दावे  किए  गए हैं. दावा है कि नींबू और पानी साथ पीने से कोरोना वायरस फेंफड़ों तक नहीं पहुंच पाता.

पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए&nbsp; <a href="https://perma.cc/WH5Q-UQRP">यहां&nbsp; </a>क्लिक करें&nbsp;
पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए  यहां  क्लिक करें 
सोर्स : स्क्रीनशॉट/ट्विटर

दावे की पुष्टि के लिए हमने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के सेंटर फॉर एडवांस रिसर्च इन वायरोलॉजी के प्रमुख रह चुके डॉ. जैकब टी जॉन से संपर्क किया. डॉ.जैकब ने बताया कि नींबू औऱ पानी पीने से कोरोना के संक्रमण को नहीं रोका जा सकता. नींबू विटामिन सी का एक अच्छा सोर्स जरूर है. लेकिन, इसका कोविड 19 के इलाज से कोई संंबंध नहीं.

नींबू विटामिन सी का अच्छा सोर्स है, एंटी ऑक्सिडेंट है, तो निश्चित तौर पर फायदेमंद है. लेकिन, नींबू पानी पीने से कोविड-19 को खत्म नहीं किया जा सकता. विटामिन सी के लिए भी सिर्फ नींबू ही एकमात्र विकल्प नहीं है. काफी ज्यादा मात्रा में नींबू पानी पीने के बाद बहुत कम विटामिन सी हासिल होगा. अगर विटामिन सी की कमी को पूरा करना ही है तो बेहतर है कि नीबू पर निर्भर रहने की बजाए विटामिन सी की टेबलेट ले ली जाए.
डॉ जैकब टी जॉन, वायरोलॉजिस्ट

नींबू पानी से वायरस को फेंफड़ों तक पहुंचने से रोका जा सकता है ? वायरल मैसेज में किए गए इस दावे का जवाब देते हुए डॉ जैकब कहते हैं -

वायरस सांस की नली के जरिए शरीर को संक्रमित करता है. लेकिन ये सैल्स के अंदरूनी हिस्सों में पनपता है, जिस कारण इस तरह के किसी उपाय से वायरस को नहीं रोका जा सकता.

दावा : हल्दी, अजवाइन और कपूर गर्म पानी में डालकर भाप लें और कोरोना से बचें

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा मैसेज है - अगर सांस लेने में दिक्कत आ रही है तो हल्दी, अजवाइन और कपूर गर्म पानी में डालकर दिन में एक से सवा घण्टे के अंतराल से भाप (स्ट्रीम) लेते रहें. #करो_खुद_की_सुरक्षा_कोरोना_से

पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए <a href="https://archive.is/flZoj">यहां </a>क्लिक करें
पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें
सोर्स : स्क्रीनशॉट/ट्विटर

भाप लेने से कोरोना ठीक होने से जुड़े कई तरह के मैसेज वायरल हैं

पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए <a href="https://perma.cc/8G2H-NHM9">यहां </a>क्लिक करें
पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें
सोर्स : स्क्रीनशॉट/ट्विटर
ADVERTISEMENT

ऐसी कोई रिसर्च रिपोर्ट हमें नहीं मिली जिससे पुष्टि होती हो कि भाप लेने से कोरोना वायरस का संक्रमण खत्म हो जाता है.  डॉ. जैकब के मुताबिक, हल्दी, अजवाइन और कपूर से भाप लेने से कोरोना के इलाज वाली बात पूरी तरह बेबुनियाद है.

इन तीन चीजों को मिलाकर भाप लेने से क्या सांस लेने में होने वाली तकलीफ दूर हो सकती है? या फिर सांस की नली साफ होती है? इस सवाल के जवाब में डॉ. जैकब कहते हैं -

हल्दी को पानी में मिलाकर भाप लेने से सांस की नली को फायदा होगा, इस दावे का कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है. लेकिन, ऐसा करने का कोई नुकसान भी नहीं है. हम रोजमर्रा के जीवन में वैसे ही काफी मात्रा में हल्दी का सेवन करते हैं. कपूर की बात करें तो इसे गरम पानी में मिलाकर भाप लेना नुकसानदायक जरूर हो सकता है.

पिछले साल गरम पानी की भाप लेने से कोरोना संक्रमण खत्म होने का दावा किया गया था. क्विंट की वेबकूफ टीम ने इस दावे की पड़ताल की थी और ये दावा झूठा निकला था.

फोर्टिस हॉस्पिटल में डिपार्टमेंट ऑफ पल्मोनोलॉजी के हेड डॉ. विकास मौर्या ने क्विंट से हुई बातचीत में बताया था कि नाक या गले में हुए वायरल इंफेक्शन या फिर सायनस में भाप लेने से सांस की नली साफ होती है. लेकिन कोरोना के इलाज से इसका कोई संबंध नहीं है.

डॉ. मौर्य ने आगे बताया कि भाप लेने से गले को आराम मिलता है. ये मरीजो को कुछ लक्षणों से राहत दिलाने में मदद कर सकता. लेकिन, ऐसा करने से वायरस मरता नहीं है.

नमक और गरम पानी की भाप लेने से कोविड-19 का संक्रमण खत्म होने वाले दावे को WHO  अगस्त 2020 में फेक बता चुका है.

मतलब साफ है कि सांस लेने में तकलीफ होने पर भाप ली जा सकती है पर इससे कोरोना वायरस का इलाज नहीं होता. भाप के पानी में हल्दी, अजवाइन और कपूर मिलाने से भी कोरोना का इलाज संभव नहीं . बल्कि कपूर से भाप लेना शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है.

दावा : नाक - कान में सरसों का तेल डालकर कोरोना से  बच  सकते  हैं

एक वायरल मैसेज में दावा है कि नाक और कान में सरसों का तेल डालने से कोरोना वायरस से बच सकते हैं. वायरोलॉजिस्ट डॉ. जैकब टी जॉन के मुताबिक, नाक में सरसों का तेल डालना लंग्स के लिए हानिकारक हो सकता है. वहीं कान में में तेल डालकर वायरस का इलाज संभव नहीं है. 

पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए <a href="https://archive.is/W70ol">यहां&nbsp; </a>क्लिक&nbsp; करें
पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए यहां  क्लिक  करें
सोर्स : स्क्रीनशॉट/ट्विटर

नाक और कान में सरसों का तेल डालने से कोरोना वायरस ठीक होने का दावा झूठा है. यहां तक कि नाक में कोई भी वनस्पति तेल डालना आपकी लंग्स के लिए हानिकारक हो सकता है. कान में सरसों का तेल डालकर किसी वायरस का इलाज संभव नहीं है. कान के जरिए शरीर में कोई  वायरस प्रवेश नहीं करता. न ही कान में कोई  भी दवा डालकर वायरस को रोका जा सकता  है.

25 अप्रैल, 2020 को योग गुरू बाबा रामदेव ने भी ये दावा किया था कि नाक में सरसों का तेल डालने से कोविड-19 से बचा जा सकता है. बाबा रामदेव का दावा था कि सरसों ता तेल नाक में डालने से, वायरस इंसान के पेट तक पहुंचेगा और पेट में मौजूद एसिड उसे खत्म कर देंगे.

क्विंट की वेबकूफ टीम ने इस दावे की पड़ताल की थी और पड़ताल में ये दावा फेक निकला था. अपोलो हॉस्पिटल के इंटरनल मेडिसिन फिजिशियन डॉ. सुरंजीत चटर्जी ने वेबकूफ से हुई बातचीत में बताया था कि बाबा रामदेव के इस दावे का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×