ADVERTISEMENT

ICMR ने नहीं जारी की ये गाइडलाइन, कोरोना से जुड़ी फेक पोस्ट वायरल

दावा है कि ICMR ने गाइडलाइन में 2 साल तक विदेश यात्रा न करने और 1 साल तक बाहर खाना न खाने की सलाह दी है

Updated
ICMR ने नहीं जारी  की ये गाइडलाइन, कोरोना से जुड़ी फेक पोस्ट वायरल
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

सोशल मीडिया पर कोविड19 से बचने के लिए बताए गए 21 निर्देशों की एक लिस्ट वायरल हो रही है. इसमें 2 साल तक सभी यात्राएं स्थगित करने, 1 साल तक कहीं बाहर खाना न खाने, शाकाहारी खाने को प्राधमिकता देने जैसे निर्देश हैं.

दावा किया जा रहा है कि ये सभी निर्देश देश की शीर्ष रिसर्च संस्था इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR ) ने जारी किए हैं. ये लिस्ट ऐसे समय पर वायरल हो रही है जब देश के कई हिस्सों में कोविड-19 के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं.

पड़ताल में सामने आया कि ये गाइडलाइन ICMR ने जारी नहीं की है. पिछले साल यही गाइडलाइन गंगा राम हॉस्पिटल की बताकर वायरल हुई थी. नारायण हेल्थ के फाउंडर और चेयरमैन ने क्विंट की वेबकूफ टीम से हुई बातचीत में इसे फेक बताया था.

ADVERTISEMENT

दावा

सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही 21 पॉइंट्स की एडवाइजरी के कुछ पॉइंट हैं ( हिंदू अनुवाद)

  • 2 साल के लिए विदेश की यात्रा पोस्टपोन करें
  • 1 साल तक बाहर का खाना न खाएं
  • गैर जरूरी शादियों और अन्य समारोहों में न जाएं
  • गैर जरूरी यात्राएं न करें
  • 1 साल तक किसी भीड़ वाली जगह न जाएं
ADVERTISEMENT

ये दावा अब भी कई फेसबुक और ट्विटर यूजर शेयर कर रहे हैं. वेबकूफ की वॉट्सएप टिपलाइन पर भी कई यूजर्स ने ये मैसेज पड़ताल के लिए भेजा.

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें 
सोर्स : स्क्रीनशॉट/फेसबुक
ADVERTISEMENT
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें 
सोर्स : स्क्रीनशॉट/फेसबुक
ADVERTISEMENT
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें 
सोर्स : स्क्रीनशॉट/फेसबुक
ADVERTISEMENT
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें 
सोर्स : स्क्रीनशॉट/ट्विटर
ADVERTISEMENT

पड़ताल में हमने क्या पाया

ICMR की ऑफिशियल वेबसाइट पर हमें ऐसी कोई एडवाइजरी नहीं मिली. रिपोर्ट लिखे जाने तक आखिरी प्रेस रिलीज 3 मार्च की थी, जो कि कोवैक्सीन के तीसरे चरण के क्लिनिकल ट्रायल को लेकर जारी हुई थी.

ADVERTISEMENT

वायरल मैसेज को ध्यान से पढ़ने पर इसमें ग्रामर से जुड़ी कई गलतियों हैं. साथ ही इस एडवाइजरी में दिए गए कई निर्देश ऐसे हैं, जो वैज्ञानिक तौर पर सिद्ध नहीं हुए हैं. उदाहरण के तौर पर वायरल मैसेज में - शाकाहारी खाने को प्राथमिकता देना, बेल्ट न पहनना, अंगूठी न पहनने की बात कही गई है. अब तक ऐसी कोई रिसर्च रिपोर्ट सामने नहीं आई है जिससे साबित होता हो कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए ये सब नहीं करना है.

ADVERTISEMENT

एडवाइजरी के दूसरे पॉइंट में बताया गया है - 1 साल तक बाहर का खाना न खाएं. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक, अब तक किसी भी स्टडी में ये साबित नहीं हुआ है कि कोविड-19 का संक्रमण खाने से भी फैलता है. हां, खाना खाने से पहले हांथों को अच्छे से धोने की सलाह नहीं दी गई है. द क्विंट की पड़ताल में पहले भी ये दावा झूठा साबित हो चुका है कि शाकाहारी लोग कोविड-19 से सुरक्षित हैं. ये दावा वायरल मैसेज में भी किया गया है.

ADVERTISEMENT

वायरल मैसेज में घर में घुसने से पहले जूते उतारने की भी सलाह दी गई है. WHO ने एक एडवाइजरी जारी कर बताया है कि जूतों के जरिए कोरोनावायरस फैलने की संभावना काफी कम है. हालांक साथ में WHO ने ये भी उल्लेख किया है कि अगर घर में छोटे बच्चे हों तो जूते बाहर उतारना एक हाइजीनिक प्रैक्टिस ( अच्छी या स्वच्छ आदत) है.

ADVERTISEMENT

वायरल मैसेज के एक पॉइंट में रुमाल (handkerchief) का उपयोग न करने की सलाह दी गई है. हालांकि, केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय गाइडलाइन जारी कर ये कह चुका है कि कोविड 19 से बचाव के लिए कपड़े का इस्तेमाल किया जा सकता है. नाक और मूंह को हमेशा कपड़े से ढंककर रखना चाहिए. सरकार की एडवाइजरी में इस कपड़े को रोजाना धोने की भी सलाह है.

ADVERTISEMENT

कोविड-19 के संक्रमण से खुद को कैसे बचाएं ?

WHO के मुताबिक इन गाइडलाइन का पालन कर खुद को कोविड 19 के संक्रमण से बचाया जा सकता है.

  • साबुन और पानी से हाथ जरूर धोएं. इसके लिए हैंड सैनेटाइजर का इस्तेमाल भी कर सकते हैं.
  • जिस व्यक्ति को खासी और कफ हो उससे उचित दूरी बनाए रखें
  • जहां दूरी बनाए रखना संभव न हों वहां मास्क का उपयोग अनिवार्य रूप से करें
  • अपनी आंख, नाक और मुंह को न छुएं
  • छींकते वक्त अपनी नाक और मुंह को कोहनी या टिशू से कवर करें
  • अच्छा महसूस नहीं कर रहे हैं तो घर पर ही रहें
  • खांसी, बुखार या सांस लेने में तकलीफ होने पर तुरंत अस्पताल/डॉक्टर को सूचित करें

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×