ADVERTISEMENT

दिल्ली सरकार ने नहीं की लोगों से कोयला दान करने की अपील, एडिटेड है फोटो

ये फोटो एडिटेड है. ओरिजिनल विज्ञापन में 'मुख्यमंत्री Covid-19 परिवार आर्थिक सहायता योजना' के बारे में बताया गया है

Published
<div class="paragraphs"><p>ओरिजिनल विज्ञापन में 'मुख्यमंत्री Covid-19 परिवार आर्थिक सहायता योजना' के बारे में बताया गया है</p></div>
i

सोशल मीडिया पर हिंदी दैनिक Hindustan की एक फोटो शेयर हो रही है, जिसमें अरविंद केजरीवाल Arvind Kejriwal) की फोटो लगी हुई है. फोटो में दिल्ली के निवासियों से दिल्ली सरकार को कोयला दान करने की अपील वाला विज्ञापन दिखाई दे रहा है.

ये फोटो ऐसे समय में वायरल हो रही है, जब केजरीवाल ने राजधानी दिल्ली में कोयले की सप्लाई में कमी की वजह से बिजली की समस्या होने की चेतावनी दी है.

ADVERTISEMENT

हालांकि, हमने पाया कि ये विज्ञापन एडिट करके बनाया गया है. ओरिजिनल विज्ञापन 9 जुलाई को Hindustan में निकला था, जिसमें 'मुख्यमंत्री Covid-19 परिवार आर्थिक सहायता योजना' के बारे में बताया गया था.

दावा

फोटो को इस दावे से शेयर किया जा रहा है, "बिजली की कमी दूर करने के लिए दिल्ली वासी अपने घरों का कोयला दान करें!!"

<div class="paragraphs"><p>पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए <a href="https://perma.cc/6WNV-JQZT">यहां</a> क्लिक करें</p></div>

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

फोटो को कई सोशल मीडिया यूजर्स ने शेयर किया है. इनके आर्काइव आप यहां, यहां और यहां देख सकते हैं.

इस फोटो को रेणुका जैन ने भी शेयर किया है, जो इसके पहले भी ऐसी गलत सूचनाएं शेयर करती रही हैं. इसका आर्काइव आप यहां देख सकते हैं.

पड़ताल में हमने क्या पाया

फोटो को ध्यान से देखने पर हमने पाया कि फोटो के सबसे नीचे दाईं ओर 'satire' लिखा हुआ है.

<div class="paragraphs"><p>फोटो में Satire लिखा देखा जा सकता है</p></div>

फोटो में Satire लिखा देखा जा सकता है

(सोर्स: Altered by The Quint)

फोटो को जूम करके देखने पर हमने पाया कि न्यूजपेपर की तारीख 'शुक्रवार, 9 जुलाई 2021' लिखी हुई और ये बिहार एडिशन है.

<div class="paragraphs"><p>तारीख 9 जुलाई 2021 लिखी हुई है</p></div>

तारीख 9 जुलाई 2021 लिखी हुई है

(फोटो: Altered by The Quint)

इसके बाद, हमने 9 जुलाई का 'Live Hindustan' का बिहार एडिशन ई-पेपर देखा. हमें वायरल पोस्ट की तरह दिखने वाला न्यूजपेपर का विज्ञापन दिखा.

मतलब साफ है कि विज्ञापन में लिखे टेक्स्ट के साथ छेड़छाड़ की गई है.

<div class="paragraphs"><p>बाएं वायरल फोटो, दाएं 9 जुलाई का बिहार एडिशन हिंदुस्तान न्यूजपेपर</p></div>

बाएं वायरल फोटो, दाएं 9 जुलाई का बिहार एडिशन हिंदुस्तान न्यूजपेपर

(फोटो: Altered by The Quint)

9 जुलाई का ये विज्ञापन 'मुख्यमंत्री COVID-19 परिवार आर्थिक सहायता योजना' के बारे में था, जिसके तहत दिल्ली सरकार कोरोना की वजह से जिन्होंने अपनों को खोया है, उन्हें सहायता राशि देगी. इस स्कीम के तहत कोरोना की वजह से हुई हर मौत पर 50,000 रुपये और 2,500 रुपये मासिक अनुग्रह राशि का भुगतान किया जाएगा.

साफ है कि आम आदमी पार्टी सरकार की ओर से जारी एक विज्ञापन की फोटो के साथ छेड़छाड़ कर उसे गलत दावे से शेयर किया जा रहा है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT