क्या वाकई US में बेहतर हैं रोजगार के हाल? ट्रंप के ट्वीट की पड़ताल

ट्रंप ने अपने ट्वीट में केवल एक बात कही और दूसरे डेटा को नजरअंदाज कर दिया, जो एक बड़ी तस्वीर पेश करते हैं.

Published
वेबकूफ
5 min read
क्या वाकई US में बेहतर हैं रोजगार के हाल? ट्रंप के ट्वीट की पड़ताल

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 7 सितंबर को दावा किया कि अमेरिका में “चार महीनों में 1.6 करोड़ नौकरियां पैदा हुई हैं”. ट्रंप ने अपने इस ट्वीट में अमेरिका में रोजगार को लेकर जो फैक्ट्स हैं, उसकी सही तस्वीर नहीं पेश की है.

क्या वाकई US में बेहतर हैं रोजगार के हाल? ट्रंप के ट्वीट की पड़ताल
(स्क्रीनशॉट: ट्विटर)

रिपोर्ट्स से पता चलता है कि असल में, उनके समय में अमेरिका में नई नौकरियां पैदा करने के मामले में, उनका रिकॉर्ड दूसरे विश्व युद्ध के बाद से सबसे खराब रहा है. अमेरिका में, बेरोजगारी दर करीब-करीब 2008 के बाद आई मंदी के बराबर है.

ट्रंप ने कौन सा डेटा शेयर किया?

4 सितंबर को, अमेरिका के डिपार्टमेंट ऑफ लेबर के लेबर स्टैटिस्टिक्स के जारी डेटा के मुताबिक, अमेरिका में अगस्त में नॉन-फार्म पेरोल रोजगार में 1.4 मिलियन की वृद्धि हुई. डेटा के मुताबिक, नॉन-फार्म पेरोल रोजगार जुलाई में 1.8 मिलियन, जून में 4.8 मिलियन और मई में 2.5 मिलियन तक बढ़ा.

(नॉन-फार्म पेरोल में फार्म वर्कर, घरों में काम करने वाले प्राइवेट कर्मचारी और गैर लाभकारी संगठनों में काम करने वाले कर्मचारियों को नहीं गिना जाता है.)

जैसा कि ऊपर दिए गए नंबर दिखाते हैं, पिछले चार महीनों में अमेरिका में पैदा हुई कुल नौकरियों की संख्या लगभग 10.5 मिलियन है - राष्ट्रपति ट्रंप के दावे 10.6 मिलियन के आंकड़े के आसपास.

क्या वाकई US में बेहतर हैं रोजगार के हाल? ट्रंप के ट्वीट की पड़ताल
(ग्राफिक: क्विंट)

हालांकि, ट्रंप ने अपने ट्वीट में केवल एक बात कही और उन्होंने दूसरे फैक्ट्स और डेटा को नजरअंदाज कर दिया, जो एक बड़ी तस्वीर पेश करते हैं.

अमेरिका में क्या है नौकरियों का हाल?

अमेरिका में जॉब रिकवरी अगस्त में धीमी हो गई. अगस्त (1.4 मिलियन) में पैदा हुई नौकरियां, जुलाई (1.8 मिलियन) और जून (4.8 मिलियन) की तुलना में बहुत कम रहीं.

CNN के मुताबिक, ट्रंप ने अपने ट्वीट में जिस बात का जिक्र नहीं किया, वो ये था कि 10.6 मिलियन नौकरियां पैदा करने के बावजूद, अमेरिका में फरवरी से 11.5 मिलियन नौकरियों की कमी है.

ब्यूरो ऑफ लेबर स्टैटिस्टिक्स के डेटा मुताबिक, मार्च में, नॉन-फार्म पेरोल रोजगार 701,000 तक नीचे आ गया. वहीं, अप्रैल में नॉन-फार्म पेरोल रोजगार में 20.5 मिलियन की गिरावट आई.

CNN के मुताबिक, लेबर डिपार्टमेंट के अगस्त तक डेटा के मुताबिक, अमेरिकी अर्थव्यवस्था में जनवरी 2017 से, जब ट्रंप ने अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में पदभार संभाला था, तब से 4.7 मिलियन नौकरियों की कमी है.

बेरोजगारी दर: ट्रंप जो बताना भूल गए

दुनिया के विकसित देशों में शुमार अमेरिका में भी बेरोजगारी की समस्या खत्म नहीं हो रही है. लेबर डिपार्टमेंट के अगस्त डेटा के मुताबिक, अमेरिका में अगस्त में बेरोजगारी दर 1.8 पर्सेंटेज प्वाइंट से कम हो कर 8.4 पर्सेंट पर रही, लेकिन लगातार चार महीनों की गिरावट के बावजूद, ये फरवरी की तुलना में 4.9 पर्सेंटेज प्वाइंट ज्यादा है.

अप्रैल में, बेरोजगारी दर 14.7 प्रतिशत पर पहुंच गई थी. COVID-19 महामारी और लॉकडाउन आदेश के कारण, इसमें 10.3 पर्सेंटेज प्वाइंट की वृद्धि देखी गई. लेबर डिपार्टमेंट के मुताबिक, ये इसके इतिहास में उच्चतम दर और महीने में सबसे बड़ी वृद्धि है.

इसका मतलब ये है कि ये 1948 में, जब मासिक बेरोजगार आंकड़े दर्ज किए जाने लगे थे, तब से अब तक का सबसे खराब रिकॉर्ड है.

हालांकि, तब से ये लगातार गिर रही है, मई में 13.3 प्रतिशत, जून में 11.1 प्रतिशत और जुलाई में 10.2 प्रतिशत, लेकिन अगस्त की दर (8.4 प्रतिशत), मार्च 2020 के बाद पहली बार 10 प्रतिशत से नीचे गई है. संयोग से, 2008 की मंदी के बाद, 10 प्रतिशत, अक्टूबर 2009 में बेरोजगारी का चरम था.

क्या वाकई US में बेहतर हैं रोजगार के हाल? ट्रंप के ट्वीट की पड़ताल
(ग्राफिक: क्विंट)

और यहां ये ध्यान दिया जा सकता है कि जब ट्रंप ने जनवरी 2017 में कार्यालय संभाला, तब बेरोजगारी की दर 4.8 प्रतिशत थी, तो मौजूदा दर अभी भी उससे 3.6 पर्सेंटेज प्वाइंट ज्यादा है.

इसके अलावा, जब अगस्त में बेरोजगारी की दर में गिरावट आई, तो अमेरिका में प्रमुख वर्कर ग्रुप्स के बीच काफी अंतर देखा गया. लेबर डिपार्टमेंट के आंकड़ों से पता चलता है कि जहां ये गोरे लोगों के लिए 7.3 प्रतिशत था, वहीं अश्वेतों के लिए 13.0 प्रतिशत, हिस्पैनिक्स के लिए 10.5 प्रतिशत और एशियाई लोगों के लिए 10.7 प्रतिशत.

क्या वाकई US में बेहतर हैं रोजगार के हाल? ट्रंप के ट्वीट की पड़ताल
(ग्राफिक: क्विंट)

वहीं, जबकि अगस्त में बेरोजगारों की संख्या 2.8 मिलियन घटकर 13.6 मिलियन हो गई, ये फरवरी में 7.8 मिलियन की तुलना से ज्यादा है. इस बीच, अगस्त में भी स्थायी जॉब लॉस की संख्या 534,000 से बढ़कर 3.4 मिलियन हो गई.

रोजगार पर कुछ दूसरे आंकड़े

लेबर डिपार्टमेंट के अगस्त के आंकड़े रोजगार की स्थिति पर कुछ और बातें भी सामने लाते हैं. अगस्त में नई नौकरियों में, सरकार में रोजगार 344,000 तक बढ़ गया और इसने ओवर-द-मंथ गेन को एक चौथाई तक बढ़ा दिया.

हालांकि, इसमें से 251,000 फेडरल गवर्नमेंट में थे, जिसमें दिखाया गया कि 238,000 अस्थायी 2020 सेंसस कर्मचारियों को नौकरी पर रखा गया है. सेंसस का काम पूरा होने के बाद इन कर्मचारियों को निकाले जाने की संभावना है. वहीं, कुल सरकारी रोजगार अभी भी फरवरी स्तर से 831,000 कम है.

अगस्त में खुदरा व्यापार में 249,000 रोजगार जुड़े, लेकिन फिर भी फरवरी की तुलना में रोजगार 655,000 कम है. प्रोफेशनल और बिजनेस सर्विस में रोजगार में 197,000 की वृद्धि हुई, लेकिन इसमें से आधी वृद्धि अस्थायी हेल्प सर्विस (107,000) में हुई, और इस क्षेत्र में रोजगार अभी भी फरवरी के स्तर से 1.5 मिलियन कम है.

इसी तरह, लेजर और हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में अगस्त (174,000) में बढ़ोतरी देखी गई. इस सेक्टर में पिछले चार महीनों में कुल 3.6 मिलियन नई नौकरियों के बावजूद, फरवरी के मुकाबले नौकरियां 2.5 मिलियन कम हैं.

शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं, ट्रांसपोर्ट और वेयरहाउसिंग, मैन्युफैक्चरिंग, फाइनेंशियल एक्टविटी जैसे दूसरे सेक्टर्स में भी रोजगार की स्थिति फरवरी के मुकाबले काफी कम है.

CNN की एक रिपोर्ट के मुताबिक, चुनावों से पहले, रोजगार को लेकर ट्रंप का रिकॉर्ड दूसरे सभी राष्ट्रपतियों के मुकाबले सबसे खराब है. ये रिकॉर्ड दूसरे वर्ल्ड वॉर तक के हैं.

ये सभी डेटा देखने के बाद सवाल उठता है कि क्या अमेरिकी अर्थव्यवस्था में नौकरियों की स्थिति उतनी ही अच्छी है, जितना ट्रंप अपने ट्वीट में बता रहे हैं? हकीकत ये है कि अमेरिका का जॉब मार्केट अभी भी संकट में है.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!