ADVERTISEMENT

बांग्लादेश में महिला पर हमले की फोटो बंगाल हिंसा से जोड़कर वायरल

पड़ताल में हमने पाया कि ये घटना बांग्लादेश की है न कि बंगाल की.

Published
पड़ताल में हमने पाया कि ये घटना बांग्लादेश की है न कि बंगाल की.
i

पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद की हिंसा से जोड़कर, सोशल मीडिया पर एक घायल महिला की पुरानी फोटो को फिर से शेयर किया जा रहा है.

हालांकि, हमने पाया कि ये घटना बंगाल में नहीं, बल्कि नवंबर 2020 में बांग्लादेश के चटगांव में हुई थी.

दावा

फोटो शेयर कर दावे में लिखा जा रहा है: “आबरू लूट गयीं बंगाल की...क्या ये महिला नहीं, क्या बंगाल की बेटी नहीं, क्या बंगाली और महिला केवल ममता ही है । धिक्कार उन को जो महिला है और ममता का अब भी बेशर्मी से समर्थन कर रही है

(नोट: ये फोटो आपको विचलित कर सकती हैं)

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए <a href="https://archive.is/ptugP">यहां </a>क्लिक करें
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें
(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

सोशल मीडिया पर कई यूजर्स ने इस फोटो को इसी दावे के साथ शेयर किया है. इनके आर्काइव आप यहां, यहां और यहां देख सकते हैं.

क्विंट की WhatsApp टिपलाइन पर भी इस दावे से संबंधित एक क्वेरी आई है.

ADVERTISEMENT

पड़ताल में हमने क्या पाया

हमने वायरल फोटो को रिवर्स इमेज सर्च किया. हमें ‘Bharat Samachar 24X7’ वेबसाइट पर नवंबर 2020 को पब्लिश एक रिपोर्ट मिली. इस रिपोर्ट में वायरल फोटो को इस्तेमाल किया गया था.

ये घटना बंग्लादेश की है
ये घटना बंग्लादेश की है
(सोर्स: स्क्रीनशॉट/वेबसाइट)

रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें फेसबुक और ट्विटर पर किए गए पोस्ट भी मिले जिनमें वायरल फोटो का इस्तेमाल किया गया था. ये पोस्ट 4 नवंबर 2020 को किए गए थे. पोस्ट में बताया गया था कि ये घटना बांग्लादेश के चटगांव की है. साथ ही ये भी बताया गया था कि एक हिंदू परिवार पर कथित रूप से हमला किया गया था.

एक अन्य ट्विटर यूजर ने दावा किया था कि ये घटना 3 नवंबर 2020 की है और ये मामला जमीन हथियाने से जुड़ा था. यूजर ने आरोप लगाया कि रूबल ने परिवार पर हमला किया था.

पोस्ट के मुताबिक एक पीड़ित की पहचान रतन के तौर पर हुई है.

ये घटना बांग्लादेश की है
ये घटना बांग्लादेश की है
(फोटो: Altered by The Quint)
ADVERTISEMENT

इसके बाद, हमने घटना से जुड़े कीवर्ड्स को बांग्ला में सर्च करके देखा. हमें Chattogram Pratidin पर पब्लिश एक रिपोर्ट मिली. जिसके मुताबिक परिवार के तीन सदस्यों रतन कुमार नाथ, उनकी बहू पुतुल नाथ और भतीजी मुक्ता रानी नाथ पर हथाजारी इलाके में हमला कर घायल कर दिया गया था.

रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि 1 नवंबर 2020 को रूबल, शाकिब, अरमान, उसमान, मुर्शीद के अलावा करीब 7 और लोगों ने घर के कुछ हिस्सों को तोड़ना शुरू कर दिया था.

मतलब साफ है कि बांग्लादेश में हुई एक घटना में घायल महिला की पुरानी फोटो पश्चिम बंगाल की बताकर गलत दावे से शेयर की जा रही है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT