ADVERTISEMENT

बंगाल में BJP नेता के घर से जब्त हुई फर्जी EVM मशीन-भ्रामक है दावा

न्यूजपेपर की वायरल क्लिपिंग बंगाल नहीं राजस्थान की है और इसका आगामी विधानसभा चुनावों से कोई लेना-देना नहीं है.

Published
न्यूजपेपर की वायरल क्लिपिंग बंगाल नहीं राजस्थान की है
i

पश्चिम बंगाल के चुनाव होने वाले हैं और ऐसे समय न्यूजपेपर की क्लिपिंग वायरल हो रही है. इसे शेयर कर दावा किया जा रहा है कि बीजेपी के एक नेता के घर से 66 फेक इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) जब्त की गईं हैं.

हालांकि, पड़ताल में हमने पाया कि ये वायरल क्लिपिंग राजस्थान में अजमेर जिले के ब्यावर से संबंधित है न कि पश्चिम बंगाल से. इसके अलावा, एक स्थानीय रिपोर्टर ने भी पुष्टि की कि ये एक पुरानी खबर है.

दावा

फोटो शेयर कर दावा किया जा रहा है कि, ''बंगाल में पूर्ण बहुमत से सरकार बनाने की पूरी तैयारी हो चुकी है भाइयों.''

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिेए <a href="https://perma.cc/YX76-R5CR">यहां </a>क्लिक करें
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिेए यहां क्लिक करें
(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

कई यूजर्स ने इसी दावे के साथ फोटो फेसबुक और ट्विटर पर शेयर किया है.

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए <a href="https://perma.cc/A7BF-AZKB">यहां </a>क्लिक करें
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें
(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए <a href="https://archive.is/xikzH">यहां </a>क्लिक करें
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें
(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)
ADVERTISEMENT

पड़ताल में हमने क्या पाया

हमने न्यूजपेपर की वायरल क्लिपिंग की हेडलाइन का इस्तेमाल करके ट्विटर और फेसबुक पर कीवर्ड सर्च किया और पाया कि दिसंबर 2018 में कई सोशल मीडिया यूजर्स ने इसे शेयर किया था.

खबर से संबंधित साल 2018 की फोटो
खबर से संबंधित साल 2018 की फोटो
(फोटो: Altered by The Quint)

2018 के इन पोस्ट में न्यूजपेपर की फोटो अभी शेयर हो रही वायरल फोटो से ज्यादा साफ है. इसलिए, हमने उसे आसानी से पढ़ लिया, जिसमें लिखा था कि ये रिपोर्ट राजस्थान में अजमेर जिले के ब्यावर की है.

ये रिपोर्ट राजस्थान में अजमेर जिले के ब्यावर की है.
ये रिपोर्ट राजस्थान में अजमेर जिले के ब्यावर की है.
(फोटो: Altered by The Quint)

खबर से जुड़े जरूरी कीवर्ड गूगल पर सर्च करने पर हमें Patrika की 4 दिसंबर 2018 की एक रिपोर्ट मिली, जिसमें ब्यावर की घटना के बारे में बताया गया था. आर्टिकल के मुताबिक, ''पुलिस ने पकड़ी 66 प्रतीकात्मक ईवीएम प्रचार सामग्री''

ये रिपोर्ट साल 2018 की है
ये रिपोर्ट साल 2018 की है
(सोर्स: स्क्रीनशॉट/वेबसाइट)

इस रिपोर्ट के मुताबिक " इनमें जैतारण क्षेत्र से निर्दलीय उम्मीदवार सुरेंद्र गोयल का चुनाव चिन्ह और नाम लिखा हुआ था."

क्विंट की वेबकूफ टीम से बातचीत में एक स्थानीय रिपोर्टर ने बताया कि वायरल हो रही न्यूजपेपर क्लिपिंग पुरानी है और अजमेर जिले के ब्यावर से संबंधित है. 

वायरल हो रही क्लिपिंग में लिखा हुआ है कि सुरेंद्र गोयल BJP के पूर्व मंत्री थे. उन्होंने 2018 में राजस्थान विधनसभा चुनाव में निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ा था.

इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया के ऑफिशियल वेबसाइट के मुताबिक गोयल ने 2018 में निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर जैतारण क्षेत्र से चुनाव लड़ा था.

ECI
ECI
(फोटो: Altered by The Quint)

मतलब साफ है कि राजस्थान में जब्त की गईं फेक ईवीएम पर खबर की न्यूजपेपर की पुरानी क्लिपिंग को इस गलत दावे से शेयर किया जा रहा है कि ये घटना पश्चिम बंगाल की है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT