ADVERTISEMENTREMOVE AD

G20 Summit से पहले चेहल्लुम जुलूस का वीडियो झूठे सांप्रदायिक दावे से वायरल

Fact Check: ये वीडियो G20 शिखर सम्मेलन से पहले का है, जिसमें शिया समुदाय के लोगों को चेहल्लुम जुलूस निकालते देखा जा सकता है.

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

दिल्ली में चल रहे G20 शिखर सम्मेलन (G20 Summit) के बीच सड़कों पर मार्च करते लोगों का एक वीडियो वायरल हो रहा है.

क्या है दावा?: वीडियो शेयर कर दावा किया जा रहा है कि दिल्ली के मुस्लिमों ने धारा 144 लागू होने के बावजूद जुलूस निकाला और 'सांप्रदायिक नारेबाजी की'.

दावे में ये भी कहा गया कि एक तरफ जहां जन्माष्टमी की की शोभा यात्रा रद्द कर दी गई, वैसे में दूसरी तरफ ये जुलूस निकाला गया.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

किसने किया है शेयर?: ये दावा कई सोशल मीडिया यूजर्स के साथ-साथ राइटविंग वेबसाइट Sudarshan TV में काम कर रहे सागर कुमार ने शेयर किया है.

Fact Check: ये वीडियो G20 शिखर सम्मेलन से पहले का है, जिसमें शिया समुदाय के लोगों को चेहल्लुम जुलूस निकालते देखा जा सकता है.

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

स्टोरी लिखते समय तक इस पोस्ट को 5 लाख 25 हजार से ज्यादा व्यू मिल चुके हैं.

(ऐसे और भी पोस्ट के आर्काइव आप यहां, यहां और यहां देख सकते हैं. दावे से जुड़ी क्वेरी हमारी WhatsApp टिपलाइन पर भी आई है.)

सच क्या है?: वीडियो को गलत सांप्रदायिक एंगल से शेयर किया जा रहा है.

  • ये वीडियो G20 शिखर सम्मेलन से पहले का है. ये वीडियो दिल्ली का है और 6 सितंबर का है, जिसमें शिया मुस्लिम समुदाय का चेहल्लुम जुलूस देखा जा सकता है.

  • दिल्ली पुलिस ने भी पोस्ट का बताया है कि ये दावा झूठा है और इस जुलूस का G20 शिखर सम्मेलन से कोई संबंध नहीं है.

हमने सच का पता कैसे लगाया?: गूगल पर कीवर्ड सर्च करने पर हमें X (पूर्वनाम ट्विटर) पर 7 सितंबर को दिल्ली पुलिस की ओर से किया गया एक पोस्ट मिला.

  • इस पोस्ट में दिल्ली पुलिस ने स्पष्ट किया था कि ये जुलूस 9 सितंबर से शुरू होने वाले G20 शिखर सम्मेलन से पहले का है और इसे प्रशासन की अनुमति से निकाला गया था.

  • पोस्ट में दिल्ली पुलिस ने ये भी बताया कि ये कोई सांप्रदायिक प्रोटेस्ट नहीं, बल्कि एक पारंपरिक जुलूस है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

जुलूस से संबंधित रिपोर्ट्स: India Today और  Hindustan Times की रिपोर्ट्स में बताया गया था कि चेहल्लुम जुलूस 7 सितंबर की सुबह निकाला जाएगा.

  • किसी भी तरह की समस्या और अराजकता को रोकने के लिए दिल्ली पुलिस ने एक ट्रैफिक एडवायजरी भी जारी की थी.

  • नोटिस में स्पष्ट किया गया था कि जुलूस G20 होने की वजह से एक दिन पहले 6 सितंबर को सुबह 8:30 बजे शुरू होगा.

  • इसके अलावा, इसमें ये भी बताया गया था कि ये जुलूस किन-किन रास्तों से निकाला जाएगा.

  • नोटिस में ये भी बताया गया था कि 6 और 7 सितंबर को एक धार्मिक और सार्वजिनक बैठक का आयोजन किया जा रहा है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

चेहल्लुम क्या है?: चेहल्लुम पैगंबर मोहम्मद के पोते इमाम हुसैन की शहादत के जश्न में मनाया जाता है. शिया समुदाय के लोग मुहर्रम के 40वें दिन इसे मनाते हैं.

निष्कर्ष: साफ है कि चेहल्लुम जुलूस का वीडियो झूठे सांप्रदायिक दावे से शेयर किया जा रहा है.

(अगर आपके पास भी ऐसी कोई जानकारी आती है, जिसके सच होने पर आपको शक है, तो पड़ताल के लिए हमारे वॉट्सऐप नंबर 9643651818 या फिर मेल आइडी webqoof@thequint.com पर भेजें. सच हम आपको बताएंगे. हमारी बाकी फैक्ट चेक स्टोरीज आप यहां पढ़ सकते हैं)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×