कैसे राज ठाकरे के फेक ट्विटर अकाउंट से कंगना को मिल रहा समर्थन?

राज ठाकरे के नाम से बहूरूपिया अकाउंट बनाकर कंगना रनौत को समर्थन किया जा रहा है

Published
वेबकूफ
4 min read
राज ठाकरे के नाम से बहूरूपिया अकाउंट बनाए गए हैं
i

महाराष्ट्र की सत्ताधारी पार्टी शिवसेना के सांसद संजय राउत और फिल्म इंडस्ट्री में काम करने वाली एक्ट्रेस कंगना रनौत के बीच जबरदस्त बहसबाजी चल रही है. ये लड़ाई जमीन पर कम सोशल मीडिया पर ज्यादा है. ट्विटर पर राजनेता राज ठाकरे के नाम से बहूरूपिया अकाउंट बनाकर कंगना रनौत को समर्थन किया जा रहा है.

इस स्टोरी को करते हुए हमने कुछ ट्विटर अकाउंट्स को छांटा है, जिन्होंने अच्छी तादाद में अपने फॉलोअर्स बढ़ाए हैं. हम आपको समझाने की कोशिश करेंगे कि राज ठाकरे ने जो कभी कहा ही नहीं, उन फर्जी बयानों को सोशल मीडिया पर वायरल कराया गया.

राज ठाकरे के नाम के ट्विटर अकाउंट

आर्काइव किया गया हैंडल
आर्काइव किया गया हैंडल
Source: Twitter/Screenshot)

4 सितंबर को इस फेक अकाउंट से ट्वीट करते हुए दावा किय गया कि 'जब कंगना रनौत मुंबई वापस लौटेंगी तो MNS उनका भव्य स्वागत करेगी.' ये ट्वीट वायरल कराया गया.

13000 से ज्यादा फॉलोअर वाला ये अकाउंट अगस्त 2020 में बनाया गया था और तब से ये अकाउंट कंगना के ही समर्थन में बातें कर रहा है.

इस अकाउंट से ट्वीट लिखा गया- “आगामी 9 तारिख को हिन्दू शेरनी कंगना रनौत का महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में भव्य स्वागत किया जायेगा। संजय राऊत हिम्मत हैं तो रोक के दिखाना।”

आर्काइव किया गया ट्वीट
आर्काइव किया गया ट्वीट
Source: Twitter/Screenshot)

इस रिपोर्ट को लिखने तक इस अकाउंट पर किए गए फेक ट्वीट पर 15,000 लाइक्स हैं और 3,200 रीट्वीट्स हैं. इस ट्वीट का स्क्रीन शॉट फेसबुक पर भी शेयर किया गया. शेयर करते हुए लोगों ने लिखा कि 'राज ठाकरे का संजय राउत को जवाब.'

आर्काइव किया गया ट्वीट
आर्काइव किया गया ट्वीट
(Source: Twitter/Screenshot)

इसके बाद जब हमने इस ट्वीट के टेक्स्ट से सर्च किया तो हमें पता चला कि इस अकाउंट का यूजर नेम @RealThackeray से बदलकर @ThackerayOffic कर दिया गया है. और बाद में आखिरकार इसका नाम @IRajThackeray29 किया गया है.

आर्काइव किया गया ट्वीट
आर्काइव किया गया ट्वीट
(Source: Twitter/Screenshot)

शंका की सुई

@IRajThackeray29 इस अकाउंट के अलावा हमने कुछ और बहुरूपिए अकाउंट्स (@RaajThakrey, @realthakare, @TigarThakre) की एक्टिविटी पर नजर रखी. हमें इन अकाउंट्स में कई सारी गड़बड़ियां दिखीं, इससे हमें हैंडल की विश्वसनीयता को लेकर शक हुआ.

  • सबसे पहली बात तो ये है कि राज ठाकरे मई 2017 से ट्विटर पर हैं और उनका आधिकारिक हैंडल @RajThackeray है. हमने देखा कि जो दूसरे बहूरूपिए अकाउंट्स हैं ये अप्रैल से अगस्त के बीच बनाए गए.
आर्काइव किया गया ट्वीट
आर्काइव किया गया ट्वीट
(Source: Twitter/Screenshot)
  • हमने देखा कि ये अकाउंट वेरीफाइड नहीं हैं और इनके ट्विटर बायो में कई सारी व्याकरण की गलतियां हैं.
आर्काइव किया गया ट्वीट
आर्काइव किया गया ट्वीट
(Source: Twitter/Screenshot)
  • इनमें से कई सारे ट्विटर अकाउंट्स इस आईडी पर स्विच करने से पहले दूसरे यूजर नेम से ऑपरेट कर रहे थे.
  • इन हैंडल्स से सुशांत सिंह राजपूत से लेकर, कंगना रनौत के मुद्दे पर ट्वीट किए गए हैं और महाविकास अघाड़ी गठबंधन सरकार की आलोचना की गई है.
आर्काइव किया गया ट्वीट
आर्काइव किया गया ट्वीट
(Source: Twitter/Screenshot)

राज ठाकरे का ऑफिशियल ट्विटर हैंडल

कैसे राज ठाकरे के फेक ट्विटर अकाउंट से कंगना को मिल रहा समर्थन?
(Source: Twitter/Screenshot)

राज ठाकरे ने ट्विटर मई 2017 में जॉइन किया और इनका अकाउंट वेरीफाइड है जिस पर 7,23,000 फॉलोअर हैं. उनके ट्विट्स पर नजर दौड़ाने से पता चलता है कि उन्होंने ऐसा कुछ भी नहीं लिखा है जो उनके नाम से लिखकर वायरल कराया जा रहा है.

द क्विंट ने इसे लेकर MNS ऑफिस से कंफर्मेशन के लिए बात की थी. उन्होंने बताया है कि इन फेक अकाउंट्स को लेकर पार्टी ने संज्ञान लिया है. इसको लेकर उन्होंने शिवाजी पार्क पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई है.

ये पहली बार नहीं है कि किसी राजनेता या फिर मशहूर व्यक्ति के नाम से बहूरूपिए अकाउंट्स बनाकर टारगेट किया गया हो.

जून की शुरुआत में कई सारे दिग्गज नेताओं जैसे प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू, अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे के भी बहूरूपिए अकाउंट बनाए गए और उन अकाउंट्स से भारत-चीन सीमा विवाद के मद्देनजर भारत को समर्थन करने वाले ट्वीट किए गए.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!