ADVERTISEMENT

MP में नाबालिग की पिटाई का वीडियो 'लव जिहाद' के झूठे दावे से वायरल

दोनों ही नाबालिग लड़की और लड़का जो यूपी के बलिया से भागकर आए थे, हिंदू हैं.

Published
MP में नाबालिग की पिटाई का वीडियो 'लव जिहाद' के झूठे दावे से वायरल
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

सोशल मीडिया पर Madhya Pradesh के भोपाल का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें पुलिस के सामने भीड़ एक नाबालिग को पीटते नजर आ रही है. दावा ये किया जा रहा है कि ये लड़का मुस्लिम समुदाय से है, जिसे Bajrang Dal के सदस्य 'लव जिहाद' के संदेह में पीट रहे हैं.

हालांकि, हमने पाया कि ये घटना मध्य प्रदेश के देवास जिले की है. इसके अलावा, यूपी के बलिया से भागा नाबालिग जोड़ा एक ही समुदाय 'हिंदू समुदाय' से है.

ADVERTISEMENT

दावा

वीडियो को इस दावे से शेयर किया जा रहा है, "हिंदू लड़की को लेकर भाग रहा था अब्दुल, बजरंग दल ने पकड़कर की पिटाई."

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

सोशल मीडिया पर इस दावे को कई लोगों ने शेयर किया है. इनके आर्काइव आप यहां, यहां और यहां देख सकते हैं.

ADVERTISEMENT

पड़ताल में हमने क्या पाया

ध्यान से देखने पर वीडियो में 'Sonkatch Toll Plaza' (सोनकच्छ टोल प्लाजा) देखने को मिला, जो एमपी के देवास जिले में है.

वायरल वीडियो का स्क्रीनशॉट बाएं, सोनकच्छ टोल प्लाजा दाएं

(फोटो: फेसबुक/Travelfare/ Altered by The Quint)

यहां से क्लू लेकर, हमने घटना से जुड़ी जरूरी कीवर्ड की मदद से गूगल पर सर्च किया, जिससे हमें कई अलग-अलग मीडिया आउटलेट्स की न्यूज रिपोर्ट्स मिलीं जिनमें इस घटना की जानकारी दी गई थी.

The Times of India पर 4 सितंबर को पब्लिश रिपोर्ट के मुताबिक, देवास जिले में भीड़ ने 'लव जिहाद' के संदेह में एक 16 साल के लड़के की पिटाई की थी. लड़का एक 16 साल की लड़की के साथ यात्रा कर रहा था.

पुलिस के मुताबिक, दोनों यूपी के बलिया जिले के हैं. दोनों नाबालिग हैं और एक ही समुदाय से हैं. दोनों अपने घर से भागे हुए थे.

भीड़ ने लड़के को अल्पसंख्यक समुदाय का समझकर पिटाई कर दी.

ADVERTISEMENT

क्विंट हिंदी ने भी 4 सितंबर को प्रकाशित अपनी रिपोर्ट में इस घटना का विजुअल इस्तेमाल किया था.

ये घटना एमपी के देवास जिले की है.

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/क्विंट हिंदी)

क्विंट की वेबकूफ टीम से बातचीत में सोनकच्छ क्षेत्र के SDOP प्रशांत सिंह भदौरिया ने पुष्टि की कि वायरल वीडियो में जिस लड़के की पिटाई की जा रही है, वो हिंदू समुदाय का है.

भदौरिया ने बताया कि मामले में अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुआ है. इसलिए, ये कहना संभव नहीं है कि भीड़ में शामिल लोग बजरंग दल के सदस्य हैं या नहीं.

DSP आकांक्षा भिछोटे ने हमें बताया कि दोनों नाबालिग हिंदू समुदाय के थे और 15 अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है.

मतलब साफ है कि 'लव जिहाद' के संदेह में एक नाबालिग लड़के की पिटाई का वीडियो सोशल मीडिया पर गलत सांप्रदायिक दावे से शेयर किया जा रहा है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×