केरल में हिंदू रीति रिवाजों से शादी करती ये लड़की मुस्लिम नहीं

मुस्लिम परिवार ने अपनी गोद ली हिंदू बेटी की शादी हिंदू लड़के से कराई, इस शादी की तस्वीरें गलत दावे से वायरल हैं 

Published
मुस्लिम माता-पिता ने करवाई गोद ली हिंदू बेटी की शादी
i

सोशल मीडिया पर शादी करते एक युगल की फोटो को इस दावे के साथ शेयर किया जा रहा है कि केरल के मुस्लिम परिवार ने अपनी बेटी की सुरक्षा के लिए उसकी शादी हिंदू लड़के से की. हालांकि, वेबकूफ टीम की पड़ताल में ये दावा फेक निकला. असल में वायरल फोटो में दिख रहे मुस्लिम परिवार ने गोद ली हिंदू लड़की की शादी कराई है.

दावा

सोशल मीडिया पर फोटो के साथ शेयर किया जा रहा कैप्शन है - ''केरल मे मुस्लिम माता पिता ने अपनी बेटी की शादी एक #सनातनी लड़के से करा दी...बेटी हिन्दू धर्म मे सुरक्षित रहेगी...''

कृष्णा सिन्हा हिंदुस्तानी नाम के यूजर ने इस पोस्ट को शेयर किया है. रिपोर्ट लिखे जाने तक इस ट्वीट को 500 से ज्यादा लाइक मिल चुके हैं.

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए <a href="https://archive.st/archive/2021/4/twitter.com/i14g/">यहां</a> क्लिक करें
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें
(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

इस दावे को कई यूजर्स ने ट्विटर और फेसबुक पर शेयर किया है. (इन पोस्ट का आर्काइव आप यहां, यहां और यहां देख सकते हैं).

अशोक पाटिल नाम के फेसबुक यूजर की इस पोस्ट को आर्टिकल लिखते समय तक 1700 से ज्यादा लाइक मिल चुके थे

पड़ताल में हमने क्या पाया

फोटो को गूगल पर रिवर्स सर्च करने से हमें 19 फरवरी 2020 को पब्लिश ‘The Times Of India’ की एक रिपोर्ट मिली. जिसमें वायरल हो रही फोटो का भी इस्तेमाल किया गया था. इस रिपोर्ट के मुताबिक, राजेश्वरी की उम्र अभी 22 साल है. 15 साल पहले जब वो 7 साल की थीं तब उन्होंने अपने मात-पिता को खो दिया. मुस्लिम दंपत्ति अब्दुल्ला और खादिजा ने बच्ची को गोद ले लिया. मुस्लिम दंपत्ति के मुताबिक बच्ची हिंदू है इसलिए उसकी शादी भी हिंदू लड़के विष्णुप्रसाद से कराई गई है. ये घटना केरल के कासरगोड जिले की है.

TOI पर 19 फरवरी 2020 को पब्लिश आर्टिकल
TOI पर 19 फरवरी 2020 को पब्लिश आर्टिकल
(सोर्स: स्क्रीनशॉट/TOI)

हमें Deccan Herald पर 20 फरवरी को पब्लिश एक आर्टिकल मिला. इसकी हेडलाइन थी, ''केरल में एक मुस्लिम परिवार ने मंदिर में करवाई हिंदू लड़की की शादी''.

इस आर्टिकल के मुताबिक, केरल में सांप्रदायिक सद्भाव का एक और उदाहरण देखा गया है, क्योंकि एक मुस्लिम परिवार ने हिंदू रीति-रिवाजों का पालन करते हुए, एक दशक से ज्यादा समय तक उनके साथ रहने वाली हिंदू लड़की की शादी एक मंदिर में करवाई.

20 फरवरी को पब्लिश एक आर्टिकल
20 फरवरी को पब्लिश एक आर्टिकल
(सोर्स: स्क्रीनशॉट/Deccan Herald)

इसके अलावा, हमें कीवर्ड सर्च करने पर News Minute, India Today और Indian Express के भी आर्टिकल मिले जिनमें इस शादी के बारे में बताया गया था. इन सभी आर्टिकल में वही डिटेल्स थीं जो ऊपर बताई जा चुकी हैं कि एक मुस्लिम परिवार ने अपनी गोद ली हुई हिंदू लड़की की शादी हिंदू रीति-रिवाज से एक हिंदू लड़के से कराई.

मतलब साफ है कि सोशल मीडिया पर फोटो को शेयर कर गलत दावा किया जा रहा है कि मुस्लिम परिवार ने अपनी बेटी की सुरक्षा के लिए उसकी शादी हिंदू लड़के से की.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!