ADVERTISEMENT

किसानों की आत्महत्या पर निशिकांत दुबे का दावा NCRB डेटा से मेल नहीं खाता

NCRB के आंकड़ों के मुताबिक, 2014 से लेकर 2020 तक भारत में 43,000 से ज्यादा किसानों ने आत्महत्या की है.

भारतीय जनता पार्टी (BJP) सांसद निशिकांत दुबे ने 1 अगस्त 2022 को लोकसभा में कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के नेतृत्व वाले नेशनल डेमोक्रेटिक अलांयस (NDA) के सत्ता में आने के बाद से पिछले 8 सालों में किसी भी किसान ने आत्महत्या नहीं की.

उन्होंने सरकार को क्रेडिट देते हुए और किसानों के प्रोटेस्ट का जिक्र करते हुए कहा कि, ''BJP ने किसानों को उनके अधिकारों के लिए लड़ने की ताकत दी. जबकि इसके उलट कांग्रेस ने उन्हें कमजोर बना दिया था.'' उन्होंने संसद में महंगाई के दौरान ये बयान दिया था. (वीडियो आर्काइव यहां देखें)

ADVERTISEMENT

हालांकि, नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो (NCRB) का किसानों की आत्महत्या से जुड़ा डेटा निशिकांत दुबे के बयान को बिल्कुल भी सपोर्ट नहीं करता. हमने 2014 (जब पीएम मोदी सत्ता में आए) से लेकर 2020 (आखिरी उपलब्ध रिपोर्ट) तक का डेटा देखा. हमने पाया कि इस दौरान 43,181 से ज्यादा किसानों ने आत्महत्या की है.

गृह मंत्रालय के तहत आने वाले NCRB की ओर से पब्लिश ''एक्सीडेंटल डेथ्स एंड सुसाइड्स इन इंडिया (ADSI)' रिपोर्ट में आत्महत्या से जुड़े आंकड़ों को इकट्ठा किया जाता है.

बयान में दुबे ने कहा कि पिछले 8 सालों में किसानों की आत्महत्या पर कोई चर्चा नहीं हुई क्योंकि कोई आत्महत्या नहीं हुई. इसलिए, हमने 2014 से लेकर 2020 तक के आंकड़ों पर नजर डाली.

NCRB के आंकड़ों के मुताबिक, 2020 में कृषि सेक्टर से जुड़े 10,677 लोगों की मौत आत्महत्या से हुई. इनमें 5,579 किसान और 5,098 खेतिहर मजदूर थे.
ADVERTISEMENT

साल 2019 में, कृषि क्षेत्र से जुड़ी कुल आत्महत्याओं की संख्या 10,281 थी. इनमें से 5,957 किसान थे. वहीं 2018 में, 5,763 किसानों ने और 2017 में 5,955 किसानों ने आत्महत्या की थी.

NCRB ने साल 2016 में कुल 6,270 आत्महत्याएं दर्ज कीं और 2015 में ये संख्या 8,007 थी. 2014 में 5,650 किसानों ने आत्महत्या की.

ADSI रिपोर्ट के मुताबिक, 2014 और 2015 के बीच किसानों की आत्महत्या की कई वजहों में से बड़ी वजहें रहीं दिवालियापन या कर्ज और खेती से जुड़े मुद्दे.

ADVERTISEMENT

संसद में सरकार की ओर से उपलब्ध कराए गए आंकड़े

यही आंकड़े सरकार ने कई बार संसद में पेश किए हैं.

गृह मंत्रालय में राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा ने किसानों की आत्महत्या की संख्या से जुड़े एक सवाल के जवाब में लोकसभा में यही आंकड़े पेश किए थे. उन्होंने 2018-2020 के आंकड़े पेश किए थे.

कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने 30 नवंबर 2021 को संसद में, 2018 से लेकर 2020 तक का एक विस्तृत राज्यवार आकंड़ा दिया था.

डेटा के मुताबिक, किसानों की आत्महत्या के मामले में महाराष्ट्र सबसे आगे है. इसके बाद, कर्नाटक का नंबर आता है.

हमें लोकसभा की वेबसाइट पर कई और जवाब मिले जिनमें किसानों की आत्महत्या से जुड़े मुद्दे पर चर्चा की गई थी. जो कि निशिकांत दुबे के इस दावे के उलट है जिसमें उन्होंने कहा है कि कोई चर्चा नहीं हुई.

ADVERTISEMENT

किसानों की आत्महत्या से जुड़ी रिपोर्ट्स क्या कहती हैं?

अगर आप किसानों से जुड़ा डेटा नहीं देखते हैं, तो भी इस मुद्दे पर एक साधारण से गूगल सर्च करने पर आपको कई न्यूज रिपोर्ट्स मिल जाएंगी. जिनमें भारत में किसानों की आत्महत्या के मुद्दे पर चर्चा की गई है.

प्रोटेस्ट के दौरान भी कई किसानों की आत्महत्या से जुड़ी खबरें आईं थीं. कई किसानों ने प्रोटेस्ट की जगह पर और कई ने अपने गांव लौटने के बाद, आत्महत्या की थी. ये प्रोटेस्ट कृषि कानूनों के खिलाफ था, जिसे सरकार ने प्रोटेस्ट के एक साल बाद वापस ले लिया था.

किसानों के प्रोटेस्ट की प्रतीकात्मक तस्वीर

(फोटो : PTI)

इसलिए ये दावा बिल्कुल गलत है कि पिछले 8 सालों में किसी भी किसान की मौत आत्महत्या से नहीं हुई.

हमने निशिकांत दुबे से भी उनके इस बयान पर प्रतिक्रिया के लिए संपर्क किया है. जवाब आते ही स्टोरी को अपडेट किया जाएगा.

ADVERTISEMENT

(अगर आपके पास भी ऐसी कोई जानकारी आती है, जिसके सच होने पर आपको शक है, तो पड़ताल के लिए हमारे वॉट्सऐप नंबर 9643651818 या फिर मेल आइडी webqoof@thequint.com पर भेजें. सच हम आपको बताएंगे. हमारी बाकी फैक्ट चेक स्टोरीज आप यहां पढ़ सकते हैं)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, news और webqoof के लिए ब्राउज़ करें

टॉपिक:  BJP   Webqoof   neta fact check 

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×