पगड़ी पहने नमाज पढ़ रहे शख्स की पुरानी फोटो गलत दावे के साथ वायरल

पड़ताल में सामने आया कि पगड़ी पहने नमाज पढ़ रहे शख्स की फोटो 4 साल पुरानी है

Published
पगड़ी पहने नमाज पढ़ रहे शख्स की  पुरानी फोटो गलत दावे के साथ वायरल

सोशल मीडिया पर पगड़ी पहनकर नमाज पहने एक शख्स की फोटो वायरल हो रही है. दावा किया जा रहा है कि फोटो दिल्ली सीमा पर प्रदर्शन कर रहे किसान की है. लेखक हरिंदर एस सिक्का ने अपने वेरिफाइड अकाउंट से फोटो इसी दावे के साथ शेयर की.

वेबकूफ की पड़ताल में सामने आया कि वायरल फोटो कम से कम 4 साल पुरानी है. हालांकि, ये पुष्टि नहीं हो सकी कि फोटो असल में किस समय की है और इसकी असलियत क्या है. लेकिन, ये साफ है कि फोटो का दिल्ली बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन से कोई संबंध नहीं है.

दावा

हरिंदर सिंह सिक्का ने फोटो शेयर करते हुए एक पोस्ट लिखा. पोस्ट का हिंदी अनुवाद है - वो किसान रैली में शामिल होने गया था, मस्जिद लौटते वक्त पगड़ी उतारना भूल गया..

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए <a href="https://archive.is/1qaQy">यहां </a>क्लिक करें&nbsp;
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें 

फेसबुक यूजर भी फोटो को इसी दावे के साथ शेयर कर रहे हैं

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए <a href="https://perma.cc/73E3-5HKR">यहां </a>क्लिक करें&nbsp;
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें 
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए <a href="https://perma.cc/EG2S-CW5F">यहां </a>क्लिक करें
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

पड़ताल में हमें क्या मिला

वायरल फोटो को रिवर्स सर्च करने से हमें सिख अवेयरनेस नाम के फोरम की वेबसाइट पर एक फेसबुक पोस्ट का स्क्रीनशॉट मिला. इस पोस्ट में वही फोटो है जिसे सोशल मीडिया पर प्रदर्शन कर रहे किसानों का बताया जा रहा है.

पगड़ी पहने नमाज पढ़ रहे शख्स की  पुरानी फोटो गलत दावे के साथ वायरल

शेख मोहम्मद असलम नाम के फेसबुक यूजर की 31 जनवरी, 2016 की पोस्ट में भी हमें यही फोटो मिली. फोटो के साथ लिखे कैप्शन का हिंदी अनुवाद है - सिख व्यक्ति जुमे के दिन मस्जिद आया, वजू की , अल्लाहू अकबर कहा और सबके सामने प्रार्थना की. अल्लाह उसके खूबसूरत धर्म को पूरी दुनिया में फैलाए.

23 जनवरी, 2016 को ‘Indian Muslim ki Awaz और ‘Congress News.’ समेत कई फेसबुक पेज पर ये फोटो शेयर की गई. द क्विंट ये पुष्टि नहीं करता है कि वायरल फोटो असल में किस जगह की है. लेकिन, चूंकि फोटो चार साल पहले ही इंटरनेट पर आ चुकी है, इसलिए ये साफ है कि फोटो का हाल में चल रहे किसान आदोलन से कोई संबंध नहीं है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!