ADVERTISEMENTREMOVE AD

FACT CHECK : फिरौन की ममी नहीं, ये AI से बनी तस्वीरें हैं

AI पहचानने वाले टूल ने बताया कि तस्वीरों के AI से बने होने की संभावना 99% है

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

सोशल मीडिया पर कुछ तस्वीरें इस दावे के साथ शेयर की जा रही हैं कि ये 1920 में खोजी गई फिरौन ममी हैं.

क्या है दावा ? : फोटो के साथ जिस कैप्शन को शेयर किया जा रहा है उसका हिंदी अनुवाद कुछ यूं होगा ''1920 में मिलीं विशालकाय फिरौन (Phirone) की ममी. होवर्ड की टीम को मिस्र में एक कब्र की खुदाई में ऐसे कई अवशेष मिले.''

AI पहचानने वाले टूल ने बताया कि तस्वीरों के AI से बने होने की संभावना 99% है

पोस्ट का अर्काइव यहां देखें

सोर्स : स्क्रीनशॉट/फेसबुक

(यही दावा करते अन्य पोस्ट्स के अर्काइव यहां, यहां और यहां देखें.)

ADVERTISEMENTREMOVE AD

सच क्या है ? : ये तस्वीरें आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) टूल की मदद से बनाई गई हैं.

  • हमें इन तस्वीरों में कई खामियां मिलीं, जो कि अक्सर AI से बनाई गई तस्वीरों में मिलती हैं.

  • AI की तस्वीरों को डिटेक्ट करने वाले टूल ने भी ये संकेत दिया कि इस बात की पूरी संभावना है कि फोटो को AI से बनाया गया था.

0

वायरल तस्वीरों में मिलीं ये खामियां : पहली तस्वीर में, हमें कथित ममी की सात उंगलियां दिखीं, जो कि इस बात का संकेत था कि ये असली इंसान की ना होकर AI की हो सकती हैं. साथ ही, बाईं और दिख रहा शख्स कपड़ों के साथ जुड़ा दिख रहा है.

  • दूसरी तस्वीर को गौर से देखने पर एक शख्स की आंक में सफेद धब्बा दिखा. किताब की बनावट और चिह्नित व्यक्ति के हाथों की बनावट भी काफी चिकनी दिखी.

  • तीसरी तस्वीर में भी ऐसी ही कई खामियां मिलीं. बाईं और दिख रहे लोगों के पैर आपस में जुड़े हुए हैं. दाईं ओर के शख्स की उंगलियां अजीब आकार की दिख रही हैं.

(तस्वीरें देखने के लिए दाईं तरफ स्वाइप करें)

  • एक ममी की सात उंगलियां हैं 

    सोर्स : वायरल फोटो/स्क्रीनशॉट/Altered by The Quint

ADVERTISEMENT

डिटेक्शन टूल ने क्या बताया : हमने इमेज डिटेक्शन टूल Hive Moderation की मदद से चेक किया कि ये तस्वीरें कितनी विश्वसनीय हैं.

  • ये फोटो AI से बनी हो सकती है

    सोर्स : स्क्रीनशॉट/Hive Moderation

ADVERTISEMENTREMOVE AD
  • टीम वेबकूफ को आगे पता चला कि इन सभी तस्वीरों को पहली बार नवंबर 2023 में Google ने अपने रिकॉर्ड में दर्ज किया था, जाहिर है कि ये अगर तस्वीरें इतिहास में काफी पुरानी होतीं तो ऐसा नहीं होता.

होवर्ड सेंटर : मिस्त्र के राजा तुतनखमामून के अंतिम विश्राम स्थल की खोज करने वाले पुरातन विशेषज्ञ थे. रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस खोज से पता चला कि मृत्यू के समय ये राजा 19 साल का था. राजा की लंबाई लगभग 6 फीट 6 इंच थी.

ADVERTISEMENT


निष्कर्ष : ये तस्वीरें AI टूल की मदद से बनाई गई हैं, इसमें दिख रही कलाकृतियां फिरौन की ममी की नहीं हैं.

(अगर आपके पास भी ऐसी कोई जानकारी आती है, जिसके सच होने पर आपको शक है, तो पड़ताल के लिए हमारे वॉट्सऐप नंबर 9540511818 , या फिर मेल आइडी webqoof@thequint.com पर भेजें. सच हम आपको बताएंगे. हमारी बाकी फैक्ट चेक स्टोरीज आप यहां पढ़ सकते हैं)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENTREMOVE AD
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×