ADVERTISEMENT

राजीव गांधी के सुरक्षा बल ने नहीं की थी भिखारी की हत्या, मनगढ़ंत कहानी वायरल

वायरल कहानी में दावा किया गया है कि राजीव गांधी की SPG ने हमले के शक में एक भिखारी की हत्या कर दी थी

Published
राजीव गांधी के सुरक्षा बल ने नहीं की थी भिखारी की हत्या, मनगढ़ंत कहानी वायरल
i

राजघाट पर पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी (Rajiv Gandhi) का 2 मिनट का वीडियो सोशल मीडिया पर भ्रामक दावे से वायरल हो रहा है. दावा किया जा रहा है कि राजीव गांधी जब महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की समाधि पर गए थे, तब उनकी सुरक्षा में लगी एसपीजी ने एक शख्स को गोलियों से भून दिया था, बाद में पता चला था कि वो एक भिखारी था.

वीडियो हाल में पंजाब में पीएम मोदी की सुरक्षा में सेंध के मामले से जोड़कर शेयर किया जा रहा है. जब फिरोजपुर में नरेंद्र मोदी के काफिला प्रदर्शनकारियों की वजह से 15-20 मिनट तक आगे नहीं बढ़ पाया था.

ADVERTISEMENT

हालांकि, हमारी पड़ताल में सामने आया कि AP के वीडियो के साथ शेयर की जा रही कहानी पूरी तरह मनगढ़ंत है. वीडियो राजीव गांधी पर 2 अक्टूबर, 1986 को हुए जानलेवा हमले के वक्त का है. इस घटना में 6 लोग घायल हुए थे, लेकिन किसी की भी मौत नहीं हुई थी.

मामले में आरोपी की पहचान करमजीत सिंह के रूप में हुई थी, जिसपर हत्या के प्रयास के तहत मामला दर्ज हुआ था. आरोपी को 14 साल की सजा हुई थी. साल 2000 में करमजीत सिंह जेल से रिहा हो गया था.

ADVERTISEMENT

दावा

वीडियो के साथ शेयर हो रहा मैसेज है - राजीव गांधी प्रधानमंत्री थेराजघाट पर प्रार्थना के लिए गए, तभी झाड़ियों में कुछ हलचल हुई एक व्यक्ति SPG को नजर आया और उस व्यक्ति को गोलियों से भून डाला गया बाद में पता चला कि वह व्यक्ति एक भिखारी था जो रात को वही राजघाट पर सो जाता था

और ये कहते है राजीव को डर नहीं लगता था

वीडियो को सोशल मीडिया पर कई यूजर्स ने इसी दावे से शेयर किया अर्काइव यहां, यहां और यहां देख सकते हैं.

फेसबुक पर वीडियो इसी दावे से वायरल है

सोर्स : स्क्रीनशॉट/फेसबुक

ADVERTISEMENT

पड़ताल में हमने क्या पाया

हमने AP Archives के यूट्यूब चैनल पर कीवर्ड्स के जरिए ये वीडियो सर्च करना शुरू किया. हमें 1:57 का वह ओरिजनल वीडियो मिला, जिसका हिस्सा सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है.

AP Archives पर ये वीडियो 4 अक्टूबर 2018 को पब्लिश हुआ था. वीडियो के टाइटल में बताया गया है कि गांधी जयंति पर राजीव गांधी पर हमला हुआ था.

डिस्क्रिप्शन में बताया गया है कि, 2 अक्टूबर 1986 को दिल्ली में एक सिख व्यक्ति ने राजीव गांधी पर हमला किया, जिसे बाद में गिरफ्तार कर लिया गया था.

ADVERTISEMENT

संबंधित कीवर्ड्स सर्च कर हमने इस मामले से जुड़ी कुछ न्यूज रिपोर्ट्स भी देखीं.

वॉशिंगटन पोस्ट की 3 अक्टूबर, 1986 की रिपोर्ट के मुताबिक ''प्रधानमंत्री से लगभग 70 गज की दूरी पर घनी झाड़ियों में छिपकर एक पिस्तोल से उनपर हमला किया गया'' रिपोर्ट में आगे बताया गया है कि इस घटना में छह लोग घायल हुए थे.

ADVERTISEMENT

द न्यूयॉर्क टाइम्स और एसोसिएट प्रेस पर भी हमें इस घटना की रिपोर्ट्स मिलीं.

5 अक्टूबर, 1986 को पब्लिश हुई NYT की रिपोर्ट के मुताबिक, हमलावर की पहचान करमजीत सिंह के रूप में हुई थी. करमजीत का किसी चरमपंथी संगठन से कोई लिंक सामने नहीं आया था, लेकिन 1984 में सिख विरोधी दंगों में अपने दोस्त की हत्या का बदला लेना चाहता था.
ADVERTISEMENT

इंडिया टुडे मैगजीन में 31 अक्टूबर, 1986 में छपी स्टोरी भी इंडिया टुडे की वेबसाइट पर मिली. इस घटना की फोटो भी हमें मिली, जिसमें सरेंडर करते करमजीत का भी फोटो शामिल है.

इंडिया टुडे की रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट

ADVERTISEMENT

IANS की 30 मार्च 2009 की रिपोर्ट के मुताबिक 'हत्या के प्रयास' करने के आरोप में सिंह को 14 साल की सजा सुनाई गई थी, साल 2000 में उसे रिहा कर दिया गया था.

हमने यूट्यूब पर इस घटना से जुड़े और वीडियो सर्च किए. हमें Living India News यूट्यूब चैनल पर मनजिंदर सिंह का एक इंटरव्यू मिला. इंटरव्यू में मनजिंदर बता रहे हैं कि कैसे उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या का प्लान बनाया. और किस तरह उनकी हर गतिविधियों पर नजर रखकर साल भर तक इसकी प्लानिंग की.

ADVERTISEMENT

साफ है कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी पर हुए जानलेवा हमले का वीडियो सोशल मीडिया पर एक मनगढंत कहानी के साथ वायरल हो रहा है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, news और webqoof के लिए ब्राउज़ करें

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×