ADVERTISEMENT

सीरिया में सामूहिक हत्या का पुराना वीडियो झूठे सांप्रदायिक दावे से वायरल

वीडियो इस दावे से शेयर किया जा रहा है कि जिन्होंने रोजा नहीं रखा था उन्हें गोली मारकर कब्र में फेक दिया गया था.

Published
सीरिया में सामूहिक हत्या का पुराना वीडियो झूठे सांप्रदायिक दावे से वायरल
i

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसे शेयर कर दावा किया जा रहा है सीरिया (Syria) में लोगों को गोली मारकर शवों को गड्ढे में फेंक दिया जाता है, क्योंकि उन्होंने रमजान के दौरान रोजा (Roza) रखने से इनकार कर दिया था.

हालांकि, ये वीडियो 2013 का है, जिसमें कई लोगों को मारते हुए दिखाया गया है. ये घटना सीरियाई गृहयुद्ध (Syrian Civil War) के दौरान हुई थी, जहां 2013 में 97,000 लोग मारे गए थे.

ADVERTISEMENT

दावा

वीडियो शेयर कर एक यूजर ने लिखा, ''ये इस्लामिक देश सीरिया की घटना है..जहां जिन लोगों को गोली मारकर हत्या की गई वो काफिर हैं. इन्होंने रमजान के दौरान रोजा नहीं रखा था. सामूहिक तौर पर कब्र खोदकर रोजा न रखने वालों को आंख पर पट्टी बांधकर गोली मार दी गई और दफना दिया गया.''

(नोट: वीडियो की प्रकृति हिंसक है, इसलिए हमने किसी भी आर्काइव लिंक का इस्तेमाल नहीं किया है.)

<div class="paragraphs"><p>ये वीडियो कई लोगों ने शेयर किया है</p></div>

ये वीडियो कई लोगों ने शेयर किया है

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

ये क्वेरी हमारी WhatsApp टिपलाइन पर भी आई है.

पड़ताल में हमने क्या पाया

हमने वीडियो वेरिफिकेशन टूल InVID का इस्तेमाल कर वीडियो को कई कीफ्रेम में बांटा और उन्हें गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च किया.

हमें The Guardian पर 27 अप्रैल 2022 को पब्लिश एक आर्टिकल मिला.

इस आर्टिकल में वायरल वीडियो और वीडियो के कुछ स्क्रीनशॉट का इस्तेमाल किया गया था. आर्टिकल के मुताबिक, ये वीडियो 16 अप्रैल 2013 का है.

<div class="paragraphs"><p>ये वीडियो 2013 का है</p></div>

ये वीडियो 2013 का है

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/The Guardian)

'Massacre in Tadamon: how two academics hunted down a Syrian war criminal' टाइटल वाले इस आर्टिकल के मुताबिक, इस वीडियो में डमैस्कस (दमिश्क) के उपनगर टैडमॉन में 2013 में हुए एक वॉर क्राइम को देखा जा सकता है.

रिपोर्ट के मुताबिक, कम से कम 41 लोगों को मार कर टैडमॉन में एक कब्र में फेंक दिया गया था. ये जगह 2013 में सीरियाई नेता बशर अल-असद की फोर्स और विद्रोहियों की फोर्स के बीच संघर्ष के दौरान युद्ध का मैदान था.
ADVERTISEMENT

हमें New Lines Magazine पर एक और रिपोर्ट मिली, जो 27 अप्रैल 2022 को पब्लिश हुई थी. इसमें 2013 में हुए नरसंहार के बारे में भी बताया गया था.

यूएस डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट ने भी वीडियो पर संज्ञान लिया था.

2013 में, रमजान का महीना था 9 जुलाई से लेकर 7 अगस्त तक. वहीं ये वीडियो अप्रैल 2013 में शूट किया गया था यानी रमजान के महीने से पहले. मतलब साफ है कि इस वीडियो का रोजा रखने से कोई संबंध नहीं है.

मतलब साफ है कि 2013 में शूट किया गया सीरिया में सामूहिक हत्या दिखाता एक पुराना वीडियो इस झूठे दावे से शेयर किया जा रहा है कि उन लोगों को मार दिया गया जिन्होंने रमजान के दौरान रोजा नहीं रखा था.

(अगर आपके पास भी ऐसी कोई जानकारी आती है, जिसके सच होने पर आपको शक है, तो पड़ताल के लिए हमारे वॉट्सऐप नंबर 9643651818 या फिर मेल आइडी webqoof@thequint.com पर भेजें. सच हम आपको बताएंगे. हमारी बाकी फैक्ट चेक स्टोरीज आप यहां पढ़ सकते हैं )

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×