ADVERTISEMENT

पोलिंग बूथ पर हिंसा का ये वायरल वीडियो बंगाल नहीं मणिपुर का है

हमने पाया कि ये वीडियो वास्तव में 2019 की घटना का है. ये घटना मणिपुर के एक मतदान केंद्र पर घटित हुई थी.

Published
ये वीडियो वास्तव में 2019 की घटना का है. ये घटना मणिपुर के एक मतदान केंद्र पर घटित हुई थी.
i

एक पोलिंग बूथ में जबरन घुसती भीड़ का एक वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है. वीडियो शेयर कर दावा किया जा रहा है कि पश्चिम बंगाल के कूचबिहार में चौथे चरण की वोटिंग के दौरान पोलिंग बूथ में भीड़ ने हमला कर दिया.

ये दावा कूचबिहार में केंद्रीय बलों की फायरिंग में करीब 4 लोगों की मौत के बाद किया जा रहा है.

हालांकि, हमने पाया कि ये वीडियो साल 2019 का है. ये घटना मणिपुर के क्यामेगी मुस्लिम माखा लेकाई (Kyamgei Muslim Makha Leikai) मतदान केंद्र की है. न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक, गुस्साए मतदाताओं ने ईवीएम में खराबी के आरोप लगाकर EVM और VVPAT मशीनों को तोड़ दिया था.

दावा

वायरल वीडियो के साथ शेयर किए जा रहे ट्वीट में से एक का कैप्शन है, ''ममता बनर्जी के समर्थकों ने पश्चिम बंगाल के कूचबिहार में एक मतदान केंद्र पर हंगामा किया. भीड़ को खदेड़ने में CRPF ने किया बहुत अच्छा काम.

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए <a href="https://perma.cc/5N9L-F2YW">यहां </a>क्लिक करें
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें
(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

इस वीडियो के साथ किए गए ट्वीट में “#WestBengalPolls” हैशटैग का भी इस्तेमाल किया गया था. इनमें से कुछ ट्वीट का आर्काइव आप यहां, यहां और यहां देख सकते हैं.

इस वीडियो को कई लोगों ने फेसबुक पर भी शेयर किया है. इनका आर्काइव आप यहां और यहां देख सकते हैं.

ADVERTISEMENT

पड़ताल में हमने क्या पाया

Invid के गूगल क्रोम एक्सटेंशन का इस्तेमाल करके हमने वीडियो को कई कीफ्रेम में बांटा और उनमें से कुछ पर रिवर्स इमेज सर्च करके देखा. सर्च रिजल्ट में East Mojo का किया गया एक ट्वीट मिला. East Mojo नार्थ-ईस्ट इंडिया का डिजिटल न्यूज प्लैटफॉर्म है.

18 अप्रैल 2019 को किए गए ट्वीट में बताया गया है कि ये फुटेज मणिपुर से है. जहां मतदाताओं ने ईवीएम पर कथित तौर पर आई खराबी की वजह से पोलिंग बूथ पर हमला कर दिया और EVM और VVPAT मशीनों को तोड़ दिया. इस घटना की लोकेशन 6/10 क्यामेगी मुस्लिम माखा लेकाई (Kyamgei Muslim Makha Leikai) बताई गई है.

हमने घटना से जुड़ी अन्य जानकारी गूगल में सर्च की और हमें Business Standard में पब्लिश PTI की एक रिपोर्ट मिली.

ADVERTISEMENT
रिपोर्ट के मुताबिक, मुख्य चुनाव अधिकारी पीके सिंह ने PTI को बताया कि इंफाल पूर्व जिले के किआमेगी मुस्लिम माखा इलाके में एक बूथ पर कुछ अज्ञात लोगों ने सुबह करीब 11.30 बजे हमला करके EVM और VVPAT मशीन को तोड़ दिया. इन लोगों ने आरोप लगाया कि मतदान केंद्र में ‘प्रॉक्सी वोटिंग’ की जा रही है.

रिपोर्ट में पीके सिंह को कोट करके बताया गया है कि "सुरक्षाकर्मियों ने हवाई फायरिंग की, जिसके बाद ही भीड़ तितर-बितर हुई." इस घटना पर Firstpost और The New Indian Express की भी रिपोर्ट मिलीं. दोनों रिपोर्ट्स में इस वायरल वीडियो का इस्तेमाल किया गया था.

मतलब साफ है कि 2019 के आम चुनावों की एक वीडियो क्लिप इस गलत दावे से शेयर की जा रही है कि ये घटना बंगाल के कूचबिहार में चौथे चरण के चुनाव के दौरान हुई.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT