ADVERTISEMENT

TMC के लोगों की पुलिस के साथ तस्वीरें,मिलकर हिंसा करने का दावा गलत

ये तस्वीरें हाल की नहीं बल्कि पिछले साल अगस्त की हैं.

Updated
ये तस्वीरें हाल की नहीं बल्कि पिछले साल अगस्त की हैं.
i

पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद हिंसा की कई खबरें आई हैं. ऐसे में कोलकाता पुलिस की गाड़ी पर बैठे कुछ लोगों की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं. इन्हें शेयर कर दावा किया जा रहा है कि कोलकाता पुलिस तृणमूल कांग्रेस के वर्कर्स को सुरक्षा दे रही है और हिंसा में उनका साथ दे रही है.

हालांकि, हमने पाया कि ये फोटो हाल की नहीं, बल्कि अगस्त 2020 के आसपास की है.

दावा

सोशल मीडिया पर कई यूजर्स ने फोटो को इस कैप्शन के साथ शेयर किा है, ''विशेष समुदाय के TMC नेता'' कोलकाता पुलिस का इस्तेमाल हिंसा के लिए कर रहे थे.

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए <a href="https://perma.cc/29JU-9Q3J">यहां</a> क्लिक करें
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें
(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

कई ट्विटर यूजर्स ने इन फोटो को ‘Bengal Violence’ और ‘Bengal Burning’ हैशटैग के साथ शेयर करके इसी तरह के दावे किए हैं. साथ ही, गृहमंत्री से स्थिति का संज्ञान लेने के लिए भी कहा है.

इनके आर्काइव आप, यहां, यहां और यहां देख सकते हैं.

ADVERTISEMENT

पड़ताल में हमने क्या पाया

हमने Yandex पर रिवर्स इमेज सर्च करके देखा. इससे हमें अगस्त 2020 का एक एक ट्वीट मिला जिसमें इन दोनों फोटो का इस्तेमाल किया गया था.

ये ट्वीट अगस्त 2020 में किया गया था.
ये ट्वीट अगस्त 2020 में किया गया था.
(सोर्स: ट्विटर/स्क्रीनशॉट)

हमने जरूरी कीवर्ड सर्च किए और ट्विटर पर एडवांस्ड सर्च करके भी देखा. हमें एक अन्य ट्वीट मिला जिसमें और भी तस्वीरें थीं. पुलिस की गाड़ी में लिखे टेक्स्ट से पता चला कि वो उत्तरी कोलकाता के राजाबाजार के पास नारकेलडांगा पुलिस स्टेशन की गाड़ी है.

हमने कोलकाता के जॉइंट पुलिस कमिश्नर (क्राइम), आईपीएस मुरलीधर शर्मा से संपर्क किया. उन्होंने दावों को खारिज करते हुए बताया कि ये दावे झूठ हैं.

उन्होंने क्विंट की वेबकूफ टीम को ये भी बताया कि ये फोटो 5 अगस्त 2020 को एक सांप्रदायिक झड़प के दौरान की हैं, जब राम मंदिर भूमि पूजन हुआ था. दो समुदायों के लोगों ने रोड को दोनों ओर से बंद कर दिया था.

ADVERTISEMENT

आईपीएस शर्मा ने ये भी बताया कि ‘’ये फोटो तब खींची गई थीं जब कोलकाता पुलिस एक स्थानीय इमाम, सराफत इबरार को अपने साथ उस जगह लेकर जा रही थी, ताकि मामले को सुलझाया जा सके. और जो लोग वहां इकट्ठा हुए हैं उन्हें वहां से जाने के लिए मनाया जा सके. गाड़ी के बाहर की ओर खड़े लोग भीड़ को हटाने और कार के लिए रास्ता साफ करने का काम कर रहे थे.’’

उन्होंने बताया कि गाड़ी के बोनट में बैठे शख्स के खिलाफ कार्रवाई भी कई गई थी.

नारकेलकांडा पुलिस स्टेशन में, गैरकानूनी रूप से इकट्ठा होने के लिए आईपीसी की धारा 143, अवज्ञा के लिए 188 और अपराध के बारे में गलत सूचना देने के लिए धारा 203 के तहत मामला दर्ज किया गया था. साथ ही, आपदा प्रबंधन अधिनियम 51 (B) के तहत भी मामला दर्ज किया गया था और 3 लोगों को गिरफ्तार किया गया था.

हमें इन तस्वीरों का मूल स्रोत नहीं मिल पाया और न ही इस घटना पर कोई न्यूज रिपोर्ट मिली. हालांकि, ये साफ है कि पुरानी तस्वीरों को हाल की बताकर इस झूठे दावे से शेयर किया जा रहा है ये तस्वीरें पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद की हिंसा की हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT