ADVERTISEMENT

UP नहीं महाराष्ट्र का है जान जोखिम में डाल नदी पार करती महिलाओं का ये वीडियो

वायरल वीडियो महाराष्ट्र के नासिक जिले का है, जिसमें कई महिलाएं पतली लकड़ी के सहारे खतरनाक नदी पार करती दिख रही हैं.

Published
UP नहीं महाराष्ट्र का है जान जोखिम में डाल नदी पार करती महिलाओं का ये वीडियो
i

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें तीन महिलाएं सिर पर पानी लेकर एक तेज बहाव वाली पतली नदी पार कर रही हैं. इस नदी को पार करने के लिए वो बीच में रखी लकड़ी पर चलकर जा रही हैं.

क्या है दावा? : वीडियो को उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) का बताकर शेयर किया जा रहा है.

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां  क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

(ऐसे और भी पोस्ट के आर्काइव आप यहां और यहां देख सकते हैं.)

ADVERTISEMENT

सच क्या है? : वायरल वीडियो उत्तर प्रदेश का नहीं, बल्कि महाराष्ट्र का है.

हमने सच का पता कैसे लगाया? : हमने वायरल दावों पर आए कमेंट्स चेक किए. हमें इस दावे को पोस्ट करने वाले एक ट्विटर यूजर के पोस्ट के नीचे कई कमेंट दिखे जिनमें इस वीडियो को महाराष्ट्र के नासिक का बताया गया था.

  • <div class="paragraphs"><p>कई <em>यूजर्स ने कमेंट में इसे नासिक</em> का बताया</p></div>

    कई यूजर्स ने कमेंट में इसे नासिक का बताया

    (सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

  • <div class="paragraphs"><p>कई <em>यूजर्स ने कमेंट में इसे नासिक</em> का बताया</p></div>

    कई यूजर्स ने कमेंट में इसे नासिक का बताया

    (सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

हमने इन कमेंट्स से क्लू लेकर गूगल पर 'नासिक में पानी की समस्या लकड़ी पर चलकर जाती महिलाएं' कीवर्ड सर्च किया.

इससे हमें मराठी वेबसाइट Maharastra Times पर 5 जनवरी 2022 पर पब्लिश एक रिपोर्ट मिली.

  • रिपोर्ट में वायरल वीडियो जैसे विजुअल वाला वीडियो भी देखा जा सकता है.

  • रिपोर्ट के मुताबिक, खरखेत ग्राम पंचायत के शेंद्रीपाड़ा में कई कृषि करने वाले लोग रहते हैं. जहां की महिलाओं को तास नदी पार करके पानी लेने के लिए जाना पड़ता है.

ये रिपोर्ट 5 जनवरी 2022 को पब्लिश की गई थी

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/महाराष्ट्र टाइम्स)

ADVERTISEMENT
  • रिपोर्ट के मुताबिक, नदी बस्ती के पास ही है, लेकिन शुद्ध पानी के लिए महिलाओं को झरनों से पानी लाना होता है. झरना नदी के दूसरी तरफ है इसलिए यहां की महिलाओं को काफी मेहनत करनी पड़ती है.

  • फिर से कीवर्ड सर्च करने पर हमें ETV और Dainik Bhaskar सहित कई वेबसाइट पर इस वीडियो से जुड़ी रिपोर्ट मिलीं, जिनके मुताबिक ये वीडियो नासिक जिले का है. ETV की रिपोर्ट के मुताबिक, भारी बारिश में यहां पर बना पुल बह गया था.

  • ETV की रिपोर्ट में इस्तेमाल किए गए वीडियो और वायरल वीडियो में समानता नीचे देखी जा सकती है.

ऊपर वायरल वीडियो, नीचे ETV वीडियो

(फोटो: Altered by The Quint)

  • इसके अलावा हमें मराठी डेली Sakal (सकाळ) के यूट्यूब हैंडल पर भी एक वीडियो मिला, जिसमें वायरल वीडियो का इस्तेमाल किया गया है.इसे 21 जुलाई 2022 को अपलोड किया गया था.

  • इस वीडियो में रिपोर्टर और गांव वालों को पुल बह जाने के बाद गांव में पानी लाने में होने वाली समस्याओं के बारे में भी बताया है.

आदित्य ठाकरे ने बनवाया था पुल: हमें न्यूज एजेंसी ANI का 28 जनवरी 2022 का एक ट्वीट मिला, जिसमें नासिक के शेंद्रीपाड़ा पुल के उद्घाटन के दिन की तस्वीरें थीं.

  • कैप्शन के मुताबिक, यहां की बुरी स्थिति के बारे में सोशल मीडिया पर मिली जानकारी के बाद तत्कालीन मंत्री आदित्य ठाकरे ने यहां पुल का निर्माण करवाया था.

ADVERTISEMENT

बारिश में बह गया था पुल: हमें Maharastra Times पर 21 जुलाई 2022 को पब्लिश एक और रिपोर्ट मिली. रिपोर्ट में बताया गया था कि जिस लोहे के पुल का निर्माण आदित्य ठाकरे ने कराया था वो बारिश होने की वजह बह गया और वहां रहने वाले लोगों को फिर से दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

फिर से पुल बनाने के दिए गए हैं निर्देश: हमें ऐसी रिपोर्ट्स भी मिलीं, जिनमें बताया गया है कि नासिक जिला परिषद ने इस पुल को फिर से बनाने के निर्देश दिए हैं.महाराष्ट्र के सीएम एकनाथ शिंदे ने भी इस मुद्दे पर ध्यान देते हुए प्रशासन को पुल बनाने के लिए कहा है.

निष्कर्ष: चट्टानों के बीच से बह रही नदी के ऊपर से सिर्फ लकड़ी के सहारे पुल पार करती महिलाओं के ये वीडियो महाराष्ट्र के नासिक का है, जिसे उत्तर प्रदेश का बताकर गलत दावे से शेयर किया जा रहा है.

ADVERTISEMENT

(अगर आपके पास भी ऐसी कोई जानकारी आती है, जिसके सच होने पर आपको शक है, तो पड़ताल के लिए हमारे वॉट्सऐप नंबर 9643651818 या फिर मेल आइडी webqoof@thequint.com पर भेजें. सच हम आपको बताएंगे. हमारी बाकी फैक्ट चेक स्टोरीज आप यहां पढ़ सकते हैं)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Speaking truth to power requires allies like you.
Q-इनसाइडर बनें
450

500 10% off

1500

1800 16% off

4000

5000 20% off

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
Check Insider Benefits
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×