ADVERTISEMENT

यमुना एक्सप्रेस-वे की फोटो दिल्ली-मुंबई की बताकर गलत दावे से वायरल

इस फोटो को केंद्रीय मंत्री Nitin Gadkari ने भी गलत दावे से ट्वीट किया था. हालांकि, बाद में उनका ट्वीट हटा लिया गया

Published
यमुना एक्सप्रेस-वे की फोटो दिल्ली-मुंबई की बताकर गलत दावे से वायरल
i

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी के साथ-साथ कई सोशल मीडिया यूजर्स ने तस्वीरें शेयर कर ये दावा किया कि दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे रिकॉर्ड स्पीड में बनाया जा रहा है. हालांकि, बाद में नितिन गडकरी का ट्वीट हटा लिया गया.

इनमें से एक फोटो के साथ में लिखा गया कि ये गुजरात में अंकलेश्वर के पास एक इंटरचेंज की प्रगति को दिखाता है.

ADVERTISEMENT

हालांकि, हमने पाया कि ये फोटो दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे की नहीं हैं और न ही गुजरात या उसके आस-पास की है. ये फोटो यूपी में ग्रेटर नोएडा के पास यमुना एक्सप्रेसवे पर एक इंटरचेंज को दिखाती है. इंटरचेंज से मतलब हाईवे की उस जगह से है जहां एक साथ कई रास्ते मिलते हैं, और जहां वाहन चालक अपना रास्ता बदलकर दूसरा रास्ता ले सकते हैं.

दावा

महाराष्ट्र बीजेपी के प्रवीण अलई सहित कई सोशल मीडिया यूजर्स ने दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे को लेकर ट्वीट करते हुए इंटरचेंज की तस्वीर शेयर की. जिसमें लिखा है, "Construction of Delhi-Mumbai Expressway at record speed. #PragatiKaHighway".

(अनुवाद: दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे को रिकॉर्ड स्पीड में बनाया जा रहा है''

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

ये फोटो केंद्रीय मंत्री नितन गडकरी ने भी ट्वीट की थीं. हालांकि, बाद में उनका ट्वीट हटा दिया गया. इसके अलावा, India TV ने भी दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे पर अपने एक आर्टिकल में इस तस्वीर का इस्तेमाल किया था. जिसे न्यूज चैनल ने एक ट्वीट में भी शेयर किया.

सोशल मीडिया पर ऐसे ही दावों के आर्काइव आप यहां, यहां और यहां देख सकते हैं.

ADVERTISEMENT

पड़ताल में हमने क्या पाया

हमने फोटो को रिवर्स इमेज सर्च किया. हमें Economic Times का एक आर्टिकल मिला, जिसमें इस फोटो का इस्तेमाल किया गया था. फोटो के कैप्शन में लिखा गया था कि फोटो में 6 लेन के यमुना एक्सप्रेसवे का गेटवे दिख रहा है.

आर्टिकल में इस्तेमाल की गई इस फोटो के लिए 'Jaypee' को क्रेडिट दिया गया था. जेपी ग्रुप कंपनी ने ही यमुना एक्सप्रेसवे को विकसित करने का काम किया है.

Economic Times के आर्टिकल में इस्तेमाल की गई थी ये फोटो

(फोटो: Economic Times/Altered by The Quint)

जेपी एसोसिएट्स लिमिटेड (JAL) की वेबसाइट पर, हमें वही फोटो मिली, जिसका इस्तेमाल आर्टिकल में किया गया था.

JAL की वेबसाइट पर उपलब्ध तस्वीर

(फोटो: स्क्रीनशॉट/JAL India)

इस फोटो को JSW Steel की वेबसाइट पर 'Projects' सेक्शन में भी देखा जा सकता है.

इसके अलावा, इस फोटो का इस्तेमाल यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (YEIDA) की वेबसाइट में बैनर इमेज के तौर में भी किया गया है. जिसमें लिखा है, "यमुना एक्सप्रेस वे ... फ्यूचर इज हियर".

फोटो का बड़ा वर्जन देखने के लिए यहां क्लिक करें

(फोटो: स्क्रीनशॉट/YEIDA)

ADVERTISEMENT
दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे दिल्ली और मुंबई को जोड़ने वाला 1350 किमी लंबा सड़क मार्ग है. एक्सप्रेसवे में करीब 350 किमी का निर्माण पहले ही किया जा चुका है और बाकी का काम प्रगति पर है. इसे 2023 तक पूरा कर लिया जाएगा.

हालांकि, इस एक्सप्रेस-वे के अलग-अलग हिस्सों की कई तस्वीरों सोशल मीडिया पर शेयर की गई हैं. लेकिन इस दावे के साथ शेयर की गई ये तस्वीरें दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे का हिस्सा नहीं हैं.

मतलब साफ है कि यूपी के ग्रेटर नोएडा के पास के यमुना एक्सप्रेस-वे की फोटो को इस गलत दावे से शेयर किया जा रहा है कि दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस वे की अंकलेश्वर के पास की तस्वीर है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, news और webqoof के लिए ब्राउज़ करें

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×