ADVERTISEMENT

अमेरिका में बंदूक की महामारी को चाहिए थी सर्जरी, मिली नाकाफी 'टिकिया'?

रिपब्लिकन और डेमोक्रेट- USA के दोनों प्रमुख दलों ने Gun Control से जुड़े सुरक्षा उपायों पर समझौता किया है

Published
अमेरिका में बंदूक की महामारी को चाहिए थी सर्जरी, मिली नाकाफी 'टिकिया'?
i

"दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश एक बार फिर अपने देश के स्कूलों में पढ़ने वाले मासूम बच्चों को सुरक्षा देने में असफल रहा."- अमेरिका में होने वाले मास शूटिंग पर ऐसी सुर्खियां दुनिया भर के अखबारों और न्यूज चैनलों पर देखने को मिलती हैं. हाल ही में अमेरिकी राज्य Texas के एक स्कूल 18 साल के नौजवान ने गोली मारकर 19 बच्चों सहित 2 टीचर्स को मौत के घाट उतार दिया था. Texas School Shooting के बाद गन कंट्रोल और उससे जुड़े कानूनों की मांग पर अमेरिकी संसद होश में आई है.

अमेरिकी सीनेट के वार्ताकारों ने रविवार, 12 मई को घोषणा की कि रिपब्लिकन और डेमोक्रेट- अमेरिका के दोनों प्रमुख दलों ने गन कंट्रोल (America Gun Control) से जुड़े सुरक्षा उपायों पर समझौता किया है और इससे जुड़ा कानून जल्द ही पारित हो सकता है.

ADVERTISEMENT

इस मुद्दे पर एक साल से चल रहे कांग्रेस के गतिरोध को समाप्त करने की दिशा में क्या यह एक महत्वपूर्ण कदम होगा?

चलिए जानते हैं कि अमेरिकी सीनेट में दोनों दलों के बीच गन कंट्रोल को लेकर क्या सहमति बनी है? क्या यह गन डील राष्ट्रपति बाइडेन की पार्टी डेमोक्रेट्स की अपेक्षा के अनुसार है? इस मसौदा कानून में अभी भी क्या कमी है, इसे क्यों नाकाफी बताया जा रहा है?

अमेरिकी सीनेट में दोनों दलों के बीच गन कंट्रोल को लेकर क्या सहमति बनी है?

यह समझौता 10 रिपब्लिकन और 10 डेमोक्रेट सीनेटर द्वारा रखा गया है और इसे राष्ट्रपति बाइडेन और शीर्ष डेमोक्रेट नेताओं ने अपना समर्थन दिया है. इस मसौदा कानून के अनुसार बंदूक खरीदने की इच्छा रखने वाले 21 साल से कम उम्र के किसी भी किशोर और उसके मानसिक स्वास्थ्य रिकॉर्ड की जांच करने के लिए अधिकारियों को ज्यादा समय दिया जाएगा ताकि वह विस्तार से बैकग्राउंड चेक कर सकें. साथ ही इसमें यह भी प्रावधान है कि डोमेस्टिक अब्यूज (घरेलू हिंसा) के दोषियों पर बंदूक रखने के लगे प्रतिबंध के दायरे में अब डेट करने वाले पार्टनरों को भी शामिल किया जायेगा.

अगर यह कानून पास होता है तो यह तथाकथित रेड-फ्लैग कानूनों को लागू करने के लिए अमेरिकी राज्यों को अतिरिक्त धन भी प्रदान करेगा जिसके अनुसार प्रशासन खतरनाक समझे जाने वाले लोगों से उनकी बंदूकें अस्थायी रूप से जब्त कर लेते हैं.

साथ ही राज्यों को मेन्टल हेल्थ से जुड़े संसाधनों के लिए और स्कूलों में सुरक्षा और मेन्टल हेल्थ सेवाओं को बढ़ावा देने के लिए पैसे मिल सकेंगे.

इस मसौदा कानून में अभी भी क्या कमी है?

इस मसौदा कानून रूपरेखा को अंतिम रूप दिया जाना बाकी है और अभी भी इसे कांग्रेस में राजनीतिक उठा-पटक के एक खतरनाक रास्ते का सामना करना है. यह मसौदा कानून राष्ट्रपति बाइडेन, गन कंट्रोल एक्टिविस्ट और अधिकांश डेमोक्रेट नेताओं की उम्मीदों से काफी कम है जो लंबे समय से घातक हथियार (असॉल्ट वेपन) पर प्रतिबंध और किसी भी तरह के हथियार की खरीद के पहले खरीदने वाले के बैकग्रॉउंड की जांच जैसी मांगे उठा रहे थे.

साथ ही यह समझौता पिछले हफ्ते अमेरिका की निचली सदन में पारित एंटी-गन उपायों के पैकेज के आसपास भी नहीं है. 223/204 से पारित यह बिल 21 वर्ष से कम उम्र के नौजवानों को अर्ध स्वचालित हथियारों (सेमीऑटोमेटिक वेपन) की बिक्री पर बैन के साथ लार्ज कैपेसिटी वाली मैगजीन की बिक्री पर भी बैन लगाता है.

फिर भी....

अपनी कमियों के बावजूद यह मसौदा कानून अमेरिका के दो राजनीतिक दलों के बीच गन कंट्रोल के मुद्दे पर उल्लेखनीय प्रगति के बराबर है. इससे पहले गन कंट्रोल के किसी भी प्रयास को रिपब्लिकन विपक्ष वर्षों से विफल करता आया है.

भले ही रिपब्लिकन ने इसको अपनी सहमति दी है लेकिन वे इस कदम में राजनीतिक जोखिमों के संकेत देख रहे हैं. इस डील का समर्थन करने वाले 10 रिपब्लिकन नेताओं में से कोई भी इस साल चुनाव का सामना नहीं कर रहा है.

अमेरिका के गन कल्चर के आलोचकों का कहना है कि दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश की पुलिस क्या इतनी कमजोर है कि वहां बंदूक रखना संस्कृति का हिस्सा बन जाए. आए दिन मास शूटिंग का दंश झेलते अमेरिका को वहां के राजनेताओं ने सबसे बड़े सवाल का जवाब अभी भी नहीं दिया है- सवाल है कि आम नागरिकों को बंदूक रखने की जरूरत क्यों है, गन कल्चर की आड़ में अपना धंधा चलाते गन लॉबी के सामने सरकार और विपक्ष दोनों फेल क्यों है? मौजूदा मसौदा कानून भी इन सवालों का जवाब देने में विफल है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×