ADVERTISEMENTREMOVE AD

कनाडा का आरोप- निज्जर की हत्या में इंडिया का हाथ, भारत का जवाब- ट्रूडो के आरोप बेतुके

भारत ने भी कनाडा के राजनयिक को निकाल दिया है और देश छोड़ने के लिए पांच दिन का समय दिया है.

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

कनाडा (Canada) ने सोमवार को एक शीर्ष भारतीय राजनयिक पवन कुमार राय को निष्कासित कर दिया. इससे पहले कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या और भारत सरकार के बीच संभावित कनेक्शन का दावा किया था. कनाडा की विदेश मंत्री मेलानी जोली ने कहा कि अगर यह सब सच साबित होता है तो यह हमारी संप्रभुता और एक-दूसरे के साथ पेश आने के बुनियादी नियम का बड़ा उल्लंघन होगा, इसलिए हमने यह कदम उठाया.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

ट्रूडो ने संसद में कहा कि

खालिस्तान के प्रबल समर्थक सिख नेता हरदीप सिंह निज्जर की 18 जून को ब्रिटिश कोलंबिया के सरे (Surrey) में एक सिख सांस्कृतिक केंद्र के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी, जिसके बाद कनाडाई खुफिया एजेंसियां आरोपों की जांच कर रही हैं.

"नरेंद्र मोदी के सामने भी मामला उठाया"

ट्रूडो ने संसद को बताया कि उन्होंने पिछले हफ्ते जी-20 में भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने हत्या का मामला उठाया था. उन्होंने पीएम मोदी से कहा था कि भारत सरकार की कोई भी संलिप्तता स्वीकार्य नहीं होगी और उन्होंने जांच में सहयोग मांगा.

न्यूज एजेंसी AP ने जब ओटावा में भारतीय दूतावास से बात करने की कोशिश तो फोन कॉल का तुरंत जवाब नहीं मिला.

ट्रूडो ने कहा कि पिछले कई हफ्तों से कनाडाई सुरक्षा एजेंसियां भारत सरकार के एजेंट्स और कनाडाई नागरिक हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के बीच संभावित संबंध के विश्वसनीय आरोपों पर सक्रिय रूप से काम कर रही हैं.

कनाडा ने भारत सरकार को अपनी गहरी चिंताएं बता दी हैं. कनाडा की धरती पर एक कनाडाई नागरिक की हत्या में किसी विदेशी सरकार की कोई भी संलिप्तता हमारी संप्रभुता का अस्वीकार्य उल्लंघन है. उनकी सरकार इस मामले पर कनाडा के सहयोगियों के साथ मिलकर काम कर रही है और समन्वय कर रही है.
जस्टिन ट्रूडो, प्रधानमंत्री, कनाडा

उन्होंने आगे कहा कि मैं भारत सरकार से कड़े शब्दों में इस मामले की तह तक जाने के लिए कनाडा के साथ सहयोग करने का आग्रह करता हूं.

ट्रूडो ने कहा कि वह जानते हैं कि इंडो-कनाडाई समुदाय के कुछ सदस्य क्रोधित या भयभीत महसूस करते हैं और उन्होंने शांत रहने का आह्वान किया है.

सार्वजनिक सुरक्षा मंत्री डोमिनिक लेब्लांक ने कहा कि कनाडा के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और कनाडा की जासूसी सेवा के प्रमुख ने अपने समकक्षों से मिलने और भारतीय खुफिया एजेंसियों के आरोपों का सामना करने के लिए भारत की यात्रा की है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

अमेरिकी राष्ट्रपति के सामने भी उठा मुद्दा

विदेश मंत्री मेलानी जोली ने कहा कि ट्रूडो ने इस मामले को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन के सामने भी उठाया. विपक्षी कंजर्वेटिव नेता पियरे पोइलिवरे ने कहा कि अगर आरोप सही हैं तो वे "हमारी संप्रभुता का अपमानजनक अपमान" दर्शाते हैं.

खालिस्तान आंदोलन भारत में प्रतिबंधित है, जहां अधिकारी इसे और इससे जुड़े समूहों को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा मानते हैं लेकिन इस आंदोलन को अभी भी उत्तरी भारत के साथ-साथ कनाडा और यूनाइटेड किंगडम जैसे देशों में कुछ समर्थन प्राप्त है.
मेलानी जोली, विदेश मंत्री, कनाडा
ADVERTISEMENTREMOVE AD

कनाडा के बयान पर भारत का क्या जवाब?

भारतीय विदेश मंत्रालय ने कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के उन आरोपों को खारिज कर दिया है, जिसमें कहा गया कि हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के पीछे भारत सरकार हो सकती है. अब भारतीय विदेश मंत्रालय ने इस पूरे मामले में अबना बयान जारी किया है.

भारतीय विदेश मंत्रालय ने कनाडा के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए कहा है कि

हम कनाडा के प्रधानमंत्री का उनकी संसद में दिया गया बयान और उनके विदेश मंत्री के बयान को खारिज करते हैं. कनाडा में हिंसा के किसी भी कृत्य में भारत सरकार की संलिप्तता के आरोप बेतुके हैं. इसी तरह के आरोप कनाडा के प्रधानमंत्री ने हमारे प्रधानमंत्री के सामने भी रखे थे और उन्हें पूरी तरह से खारिज कर दिया गया था. हम कानून के शासन के प्रति मजबूत प्रतिबद्धता वाले एक लोकतांत्रिक देश हैं.

आगे कहा गया कि इस तरह के निराधार आरोप खालिस्तानी आतंकवादियों और चरमपंथियों से ध्यान हटाने की कोशिश करते हैं, जिन्हें कनाडा में आश्रय दिया गया है और जो भारत की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के लिए खतरा बने हुए हैं. इस मामले पर कनाडाई सरकार की निष्क्रियता लंबे समय से चिंता का विषय रही है.

भारत ने भी कनाडा के राजनयिक को निकाला

कनाडा के बाद अब भारत ने भी कनाडा के एक वरिष्ठ राजनयिक को निकाल दिया है. उन्हें भारत छोड़ने के लिए पांच दिन का समय दिया गया है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्त अरिंदम बागची ने बयान जारी कर कहा कि “भारत ने कनाडाई राजनयिक को निष्कासित कर दिया है. कनाडा के उच्चायुक्त को आज समन करके भारत सरकार के इस फैसले की जानकारी दे दी गई है. संबंधित राजनयिक को अगले पांच दिनों के भीतर भारत छोड़ने को कहा गया है. “यह फैसला हमारे आंतरिक मामलों में कनाडाई राजनयिकों के हस्तक्षेप और भारत विरोधी गतिविधियों में उनकी भागीदारी पर भारत सरकार की बढ़ती चिंता को दर्शाता है.”

अमेरिका और ब्रिटेन ने दी प्रतिक्रिया

संयुक्त राज्य अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया ने कनाडा के द्वारा भारत पर लगाए गए आरोपों पर "गहरी चिंता" व्यक्त की है. वहीं ब्रिटेन ने कहा कि वह "गंभीर आरोपों" के बारे में अपने कनाडाई सहयोगियों के साथ संपर्क में हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×