जी-20 शिखर सम्मेलन का कोरोना महामारी पर फोकस, जानिए क्या रहेगा खास

सम्मेलन की अध्यक्षता सऊदी अरब के सुल्तान सलमान बिन अब्दुल अजीज अल-सऊद करेंगे

Updated
दुनिया
2 min read
सम्मेलन की अध्यक्षता सऊदी अरब के सुल्तान सलमान बिन अब्दुल अजीज अल-सऊद करेंगे
i

कोरोना वायरस महामारी से निपटने को लेकर 15वां जी-20 शिखर सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है. ये सम्मेलन 21 नवंबर से 22 नवंबर तक चलेगा. पीएम नरेंद्र मोदी भी इस महत्वपूर्ण सम्मेलन में हिस्सा ले रहे हैं. इस बार का जी-20 सम्मेलन काफी मामलों में खास रहने वाला है. इस सम्मेलन से जुड़ी कुछ अहम बातें कुछ इस तरह हैं :

क्या है सम्मेलन की थीम?

इस बार के जी-20 सम्मेलन की थीम है: ‘21वीं शताब्दी में सभी के लिए अवसरों को उपलब्ध कराना’. ये शिखर सम्मेलन 21 नवंबर और 22 नवंबर को ऑनलाइन प्रारूप में आयोजित किया जाएगा.

सम्मेलन की अध्यक्षता सऊदी अरब के सुल्तान सलमान बिन अब्दुल अजीज अल-सऊद करेंगे. इस शिखर सम्मेलन का पूरा फोकस कोरोना वायरस महामारी के प्रभावों, भविष्य की स्वास्थ्य सुरक्षा योजनाओं और वैश्विक अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के कदमों के पर केंद्रित होगा.

क्या है जी-20?

जी-20 की स्थापना 1999 में की गई थी. जी-20 समूह में अमेरिका, अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, मैक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, तुर्की, यूनाइटेड किंगडम और यूरोपीय संघ शामिल हैं. स्पेन इस समूह एक ऐसा सदस्य है, जिसे हर साल खास तौर पर आमंत्रित किया जाता है.

कई बड़े नेता होंगे शामिल

1930 के महामंदी के बाद की सबसे खराब वैश्विक मंदी के बीच शक्तिशाली समूह का यह शिखर सम्मेलन हो रहा है. इस सम्मेलन में अमेरिका के राष्ट्रपति, ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन, जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग, जर्मनी की चांसलर एंजेला मार्केल और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों और समूह के अन्य सदस्य देशों के नेता भाग ले सकते हैं.

भारत के लिए क्या होगा खास?

इस सम्मलेन में भारत अपनी प्राथमिकताओं को सामने रखने से बिलकुल नहीं चूकेगा. भारत कई मुद्दों, जैसे आतंकवाद के खिलाफ सहयोग, ऊर्जा सुरक्षा, वित्तीय स्थिरता, विश्व व्यापार संगठन में सुधार, खाद्यान्न सुरक्षा आदि कई क्षेत्रों में विश्व के देशों में एकमत का निर्माण करने के लिए प्रयास करेगा. इससे पहले पीएम मोदी ने शंघाई सहयोग संगठन और ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में हिस्सा लिया था. इस दौरान उन्होंने आतंकवाद पर कड़ा प्रहार करते हुए आतंकियों और आतंकी संगठनों की मदद करने वाले देशों पर नकेल कसने का आह्वान किया था.

इन मुद्दों पर भी होगी चर्चा

  • इस सम्मेलन में सभी देशों के लिए जलवायु परिवर्तन भी एक अहम मुद्दा होगा. क्लाइमेट ट्रांसपेरेंसी की एक रिपोर्ट के अनुसार, जी-20 देशों में भारत इकलौता ऐसा देश है, जो जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम करने के लक्ष्यों को हासिल करने के लिए अपनी वचनबद्धताओं को पूरा करने के लिए पूरी तरह से तत्पर है.
  • इस सम्मेलन में वैश्विक अर्थव्यवस्था को फिर से रफ्तार देने और नौकरियों पर आए संकट को दूर करने के उपायों पर भी चर्चा की जाएगी.
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि इस बार का जी-20 सम्मेलन काफी महत्वपूर्ण है, क्योंकि इस सम्मेलन के दौरान नेताओं के पास कोरोना महामारी के इलाज और पूरी दुनिया में वैक्सीन की समान पहुंच सुनिश्चित करने का एक बहुत ही अच्छा मौका होगा.
Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!