ADVERTISEMENTREMOVE AD

Biden को सता रहा रूस के छोटे परमाणु बम का डर, क्या होते हैं टैक्टिकल एटम बम?

Russsia Ukraine: जेलेंस्की ने रूस पर वॉर क्राइम के आरोप लगाए हैं.

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) ने रविवार को अमेरिकी न्यूज चैनल CBS न्यूज के एक इंटरव्यू में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) से अपील की है कि वे यूक्रेन में कथित असफलताओं के बाद टेक्टिकल एटम बम का उपयोग न करें. इस स्टोरी में हम आपको बताते हैं कि बाइडेन ने रूस यूक्रेन को लेकर क्या-क्या कहा है और ये टेक्टिकल एटम बम क्या है जिससे अमेरिका चिंतित नजर आ रहा है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

बाइडेन की अपील

यूक्रेन की सेना ने इस हफ्ते देश के उत्तर-पूर्व से रूसी सेना को पीछे हटने पर मजबूर कर दिया. रूस की इस असफलता के बाद वहां के राष्ट्रवादियों की तरफ से पुतिन पर फिर से बढ़त बनाने के लिए दबाव बनाया जा रहा है. इस दबाव का असर कहें या कुछ और, पुतिन ने कहा है कि मॉस्को के सब्र का इम्तिहान ना लिया जाए.

सीबीएस की तरफ से जारी इंटरव्यू की एक क्लिप में रिपोर्टर ने बाइडेन से सवाल किया कि यदि पुतिन ऐसे हथियारों का उपयोग करने पर विचार कर रहे हैं तो आप उनसे क्या कहना चाहेंगे? इसके जवाब में बाइडेन ने कहा,

"मत करो, मत करो, मत करो. ये विश्व युद्ध के बाद, अब किसी भी हालात के लिए युद्ध का चेहरा बदल देगा."
0

बाइडेन ने कहा कि अमेरिकी प्रतिक्रिया के नतीजे दिखेंगे, लेकिन उन्होंने इसपर ज्यादा जानकारी देने से इनकार कर दिया. बाइडेन ने कहा, "रूस दुनिया में पहले से कहीं ज्यादा खारिज हो जाएगा. वे जो करते हैं उसके हिसाब से तय किया जाएगा कि प्रतिक्रिया क्या होगी."

बता दें 24 फरवरी को यूक्रेन पर आक्रमण की घोषणा करते हुए एक भाषण में, पुतिन ने चेतावनी दी थी कि यदि पश्चिम ने उसके "विशेष सैन्य अभियान" में दखल दिया तो वे जवाब में परमाणु हथियारों का उपयोग कर सकता हैं.

ADVERTISEMENT

क्या होते हैं टेक्टिल परमाणु बम?

छोटे परमाणु हथियार (Tactical Atom Bomb) युद्ध के मैदान में किसी सीमित लक्ष्य पर निशाना साधने के लिए प्रयोग किए जाते हैं. ये आम तौर पर बड़े परमाणु हथियारों से कम शक्तिशाली होते हैं. टेक्टिकल परमाणु हथियारों का उद्देश्य बड़े स्तर पर विनाश और रेडियोएक्टिव के बिना, किसी खास क्षेत्र में दुश्मन के लक्ष्यों को तबाह करना है. अमेरिका ने 1950 के दशक में हल्के परमाणु हथियार विकसित करना शुरू किया था.

भारत और पाकिस्तान में आम तौर पर टेक्टिल परमाणु बमों की खूब चर्चा होती है. पाकिस्तान के पास भारत से ज्यादा परमाणु बम हैं, लेकिन उनके ज्यादातर बम टेक्टिल बम ही हैं, आमतौर पर यह खुद से ज्यादा शक्तिशाली दुश्मन से डिटरेंस के तौर पर इस्तेमाल किए जाते हैं.

जेलेंस्की ने लगाए रूस पर युद्ध अपराध के आरोप

यूक्रने के राष्ट्रपति जेलेंस्की ने शुक्रवार, 16 सितंबर को रूस पर यूक्रेन के पूर्वोत्तर हिस्से में युद्ध अपराध (war Crime) के आरोप लगाए. उन्होंने कहा, "अभी तक यहां, 450 लोग मारे गए हैं, जो (पूर्वोत्तर खार्किव क्षेत्र में) दफन हैं, लेकिन कई और भी हैं. कई लोगों को अलग-अलग जगहों पर दफन किया गया है. लोगों को प्रताड़ित किया गया है. कुछ क्षेत्रों में पूरे परिवार को प्रताड़ना सहनी पड़ी"

उन्होंने पूर्वोत्तर के नए मुक्त क्षेत्रों में स्थिति की तुलना कीव के पास के शहर "बूचा के खूनी सोप ओपेरा" से की, जहां उन्होंने युद्ध की शुरूआत में रूसी सेना पर कई युद्ध अपराध करने का आरोप लगाया था. हालांकि मास्को ने आरोपों से इनकार किया है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENTREMOVE AD
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×