ADVERTISEMENT

पुतिन विरोधी नवलनी को लेकर बाइडेन की रूस को चेतावनी,क्या है कहानी?

अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन और रूसी राष्ट्रपति पुतिन के बीच बुधवार को हुई थी बैठक

Updated
पुतिन विरोधी नवलनी को लेकर बाइडेन की रूस को चेतावनी,क्या है कहानी?
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने बताया है कि उन्होंने बुधवार को रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को चेतावनी दी कि अगर रूसी विपक्षी नेता एलेक्सी नवलनी की जेल में मौत हो जाती है, तो रूस को भयानक नतीजे भुगतने होंगे. सीएनएन की एक रिपोर्ट में इस बात की जानकारी दी गई है.

ADVERTISEMENT

बाइडेन ने कहा, ''मैंने उनको स्पष्ट कर दिया कि मेरा मानना है कि इसके नतीजे रूस के लिए भयानक होंगे.'' बता दें कि बुधवार को स्विट्जरलैंड के जिनेवा में बाइडेन और पुतिन की आमने-सामने की बैठक हुई थी.

ADVERTISEMENT

बाइडेन ने कहा कि उन्होंने पुतिन के साथ अपनी बैठक में मानवाधिकारों के मुद्दों पर जोर दिया. इसमें दो अमेरिकियों के मामले भी शामिल हैं जिनके बारे में बाइडेन का कहना है कि उन्हें रूस में ‘‘गलत तरीके से कैद’’ रखा गया है.

कौन है नवलनी?

पुतिन के कट्टर विरोधी माने जाने वाले नवलनी अभी जेल में बंद हैं, उन्हें जर्मनी से रूस लौटने के बाद जनवरी में गिरफ्तार किया गया था.

नवलनी पिछले साल अगस्त में सर्बिया से मॉस्को लौटने के दौरान एक विमान में गंभीर रूप से बीमार हो गए थे. उन्हें ‘नर्व एजेंट’ (जहर) दिया गया था, जिसके लिए वह रूसी राष्ट्रपति कार्यालय क्रेमलिन को जिम्मेदार ठहराते हैं. हालांकि, क्रेमलिन ने विपक्षी नेता को जहर देने में अपनी भूमिका होने से बार-बार इनकार किया है. 

नवलनी को 2014 में गबन के एक मामले में दोषी करार दिए जाने के तहत मिली सजा के निलंबन के दौरान 'शर्तों का उल्लंघन करने' पर फरवरी में ढाई साल कैद की सजा सुनाई गई थी. अप्रैल में नवलनी के डॉक्टरों ने आशंका जताई थी उन्हें किसी भी वक्त कार्डिऐक अरेस्ट हो सकता है. उस दौरान भी बाइडेन ने नवलनी के साथ हो रहे व्यवहार को पूरी तरह अनुचित बताया था.

ADVERTISEMENT

नवलनी जेल की सजा के ही लायक: पुतिन

व्लादिमीर पुतिन ने कहा है कि नवलनी को जेल की सजा सुनाई गई क्योंकि वह उसके ही लायक थे. बुधवार को बाइडेन के साथ बैठक के बाद पुतिन ने कहा कि नवलनी को अपनी सजा की शर्तों का उल्लंघन करने के लिए दंड मिलना था और जब वह रूस लौटे तब उन्हें यह पता था कि उन्हें जेल में डाला जाएगा.

पुतिन ने कहा, ‘‘वह गिरफ्तार होने के लिए जानबूझकर आए.’’ बता दें कि पिछले हफ्ते मॉस्को की एक अदालत ने नवलनी की ओर से बनाए गए संगठनों को कट्टरपंथी करार देते हुए उन पर प्रतिबंध लगा दिया था.

बाइडेन और पुतिन के बीच बुधवार को ऐसे समय में बैठक हुई, जब दोनों नेताओं ने माना है कि उनके देशों के बीच संबंध अब तक के निम्नतम स्तर पर हैं.

कैमरों के सामने दोनों नेताओं के चेहरे पर कड़े भाव और मुंह से उदार शब्द सुनाई दिए. दोनों एक-दूसरे की तरफ सीधे देखने से बचते नजर आए.

बाइडेन से जब एक पत्रकार ने यह पूछा कि क्या पुतिन पर विश्वास किया जा सकता है तो उन्होंने सहमति में सिर हिलाया, लेकिन व्हाइट हाउस ने इसके बाद तुरंत एक ट्वीट किया और कहा कि राष्ट्रपति किसी सवाल का जवाब न देने के लिए बहुत स्पष्ट हैं, पर प्रेस के सामने आम तौर पर सहमति व्यक्त करते हैं. वहीं, पुतिन ने संवाददाताओं के सवालों की अनदेखी की. उनसे यह सवाल भी पूछा गया कि क्या वह नवलनी से डरते हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×