ADVERTISEMENT

इमरान खान VS जनरल बाजवा: ISI प्रमुख की नियुक्ति पर पाकिस्तान में किसकी चलेगी ?

Pakistan पर असली पकड़ किसकी है , इस सवाल का जवाब ISI चीफ नियुक्ति के इस विवाद से मिल सकता है

Published
<div class="paragraphs"><p>इमरान खान VS जनरल बाजवा</p></div>
i

क्या पाकिस्तान (Pakistan) की खुफिया एजेंसी, ISI के नए प्रमुख की नियुक्ति को लेकर प्रधानमंत्री इमरान खान (PM Imran Khan) और आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा (Army chief Gen. Bajwa) एक बार फिर आमने सामने हैं ?

इमरान सरकार ने ऐसी किसी भी तकरार से इनकार किया है, हालांकि मीडिया रिपोर्टों की मानें तो आईएसआई के नए मुखिया को लेकर दोनों के बीच सहमति बननी अभी भी बाकी है.

ADVERTISEMENT

पाकिस्तानी आर्मी ने पिछले सप्ताह यह ऐलान किया कि लेफ्टिनेंट जनरल नदीम अहमद अंजुम इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) के नए डायरेक्टर जनरल होंगे और वो लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद का स्थान लेंगे.

लेकिन अभी तक ISI चीफ के रूप में लेफ्टिनेंट जनरल नदीम अहमद अंजुम की नियुक्ति पर इमरान सरकार ने मुहर नहीं लगाई है. इस बात ने उन अटकलों को बल दिया है कि पाकिस्तान में एक बार फिर शक्तिशाली आर्मी और नागरिक सरकार एक दूसरे के सामने हैं.

गौरतलब है कि पाकिस्तानी कानून के अनुसार ISI चीफ के नियुक्ति का कानूनी अधिकार वहां के प्रधानमंत्री के पास है, जो इस मामले में आर्मी चीफ के सलाह-मशविरे के बाद निर्णय लेंगे.

सरकार- आर्मी के बीच सहमति है, ISI चीफ की नियुक्ति में कानूनी प्रक्रिया का पालन होगा: इमरान सरकार

पाकिस्तान में ISI चीफ की नियुक्ति के मुद्दे पर नागरिक सरकार और आर्मी के बीच टकराव की खबर को सिरे से खारिज करते हुए वहां के सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने मंगलवार, 12 अक्टूबर को कहा कि इमरान खान और जनरल बाजवा के बीच इस मुद्दे पर आम सहमति है.

सोशल मीडिया में लग रही अटकलों पर पहली बार प्रतिक्रिया देते हुए सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने कैबिनेट मीटिंग के बाद पत्रकारों से बात की. उन्होंने बताया कि पीएम इमरान खान और आर्मी चीफ बाजवा के बीच इस मुद्दे पर “लंबी बैठक” हुई और बाद में पीएम ने कैबिनेट को भी इसकी सूचना दी.

“ISI के नए डायरेक्टर जनरल ोाद पर नियुक्ति के लिए कानूनी प्रक्रिया का पालन किया जायेगा. और इसके लिए दोनों (इमरान खान, बाजवा) दोनों सहमत हैं”
फवाद चौधरी

इसके अलावा ने बुधवार, 13 अक्टूबर को ट्वीट करते हुए एक बार फिर कहा कि "नागरिक-सैन्य नेतृत्व ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि देश की स्थिरता, अखंडता और प्रगति के लिए सभी संस्थान एकजुट हैं"

इमरान खान चाहते हैं फैज हमीद बने रहे ISI चीफ

खुद पाकिस्तान के सूचना मंत्री का सामने आकर “सरकार और आर्मी” के बीच आम सहमति पर जोर देने के बावजूद एक सवाल अब भी उठता है, कि दोनों में से कौन पीछे हटेगा ? सैन्य महकमे को ओर से पहले ही उसके मीडिया विंग- इंटर-सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (ISPR) ने घोषणा कर दी है कि लेफ्टिनेंट जनरल नदीम अहमद अंजुम नए ISI चीफ होंगे .

ADVERTISEMENT
लेकिन नेशनल असेंबली में इमरान खान की पार्टी, पीटीआई के चीफ व्हिप अमीर डोगर के अनुसार इमरान खान ने अपनी कैबिनेट को सूचित किया है कि जनरल बाजवा से क्या बात हुई है. डोगर के अनुसार इमरान ने साफ कह दिया गया है कि वो चाहते हैं कि लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद कुछ समय के लिए ISI चीफ के रूप में बने रहें .

ऐसे में अब अगले ISI चीफ का नाम ही बताएगा कि पाकिस्तान में किसकी चल रही है. ISI प्रमुख का पद पाकिस्तानी सेना में सबसे महत्वपूर्ण पदों में से एक माना जाता है.

आर्मी ने पाकिस्तान के 73 से अधिक वर्षों के काल में आधे से अधिक समय तक देश पर शासन किया है. वर्तमान पाकिस्तान पर असली पकड़ किसकी है , इस सवाल का जवाब ISI चीफ नियुक्ति के इस एपिसोड से मिल सकता है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT