ADVERTISEMENT

अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद तालिबान- 'युद्ध खत्म, समावेशी इस्लामिक सरकार बनेगी'

Afghanistan का राष्ट्रपति भवन अब Taliban के नियंत्रण में

Published
अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद तालिबान- 'युद्ध खत्म, समावेशी इस्लामिक सरकार बनेगी'
i

अफगानिस्तान (Afghanistan) पर एक बार फिर तालिबान (Taliban) का कब्जा हो गया है. 1996 के बाद तालिबान ने 15 अगस्त 2021 को राजधानी काबुल का नियंत्रण (Kabul Falls) अपने हाथों में ले लिया. राष्ट्रपति अशरफ गनी (Ashraf Ghani) ने देश छोड़ दिया है. तालिबान राष्ट्रपति भवन पर कब्जा कर चुका है और संगठन कह रहा है कि 'युद्ध अब खत्म हो चुका है.' तालिबान का कहना है कि अफगानिस्तान में अब 'समावेशी इस्लामिक सरकार' बनेगी.

ADVERTISEMENT

तालिबान के पॉलिटिकल ऑफिस के प्रवक्ता मोहम्मद नईम ने अल जजीरा से कहा, "अफगान लोगों और मुजाहिदीनों के लिए 15 अगस्त का दिन महान है. देश में युद्ध अब खत्म हो गया है."

मोहम्मद नईम का कहना है कि अफगानिस्तान में नई सरकार का 'प्रकार और स्वरुप' क्या होगा, ये जल्दी साफ किया जाएगा. नईम ने कहा, "तालिबान पूरी दुनिया से कटा हुआ नहीं रहना चाहता है और हम शांतिपूर्ण अंतरराष्ट्रीय रिश्ते चाहते हैं."

ADVERTISEMENT
"हम जो खोज रहे थे, वो पा चुके हैं यानी कि देश और हमारे लोगों की आजादी. हम किसी को भी अपनी जमीन का इस्तेमाल दूसरे देश को निशाना बनाने और दूसरे को नुकसान पहुंचाने के लिए नहीं करने देंगे."
मोहम्मद नईम

मोहम्मद नईम का ये बयान अल-कायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन के संदर्भ में है. लादेन ने 2001 में अफगानिस्तान में रहते हुए अमेरिका पर भीषण हमला कराया था, जिसकी वजह से अमेरिका ने अफगानिस्तान पर हमला कर दिया था.

ADVERTISEMENT

'गैर-तालिबानी अफगान भी नई सरकार में शामिल होंगे'

तालिबान के राष्ट्रपति भवन पर कब्जा करने के बाद 'ट्रांजिशनल सरकार' की संभावना खत्म हो गई थी. रॉयटर्स ने दो तालिबानी अधिकारियों के हवाले से बताया था कि संगठन अब 'ट्रांजिशनल सरकार' नहीं चाहता है. अल जजीरा की तरफ से जारी हुए वीडियो में तालिबान लड़ाके राष्ट्रपति भवन में बैठे दिखते हैं.

तालिबान के प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने एसोसिएटेड प्रेस से कहा कि संगठन आने वाले दिनों में एक 'खुली और समावेशी इस्लामिक सरकार' बनाने पर बातचीत करेगा.
ADVERTISEMENT

शाहीन ने CNN से कहा कि नई अफगान सरकार में 'गैर-तालिबानी अफगान' भी शामिल होंगे. कतर के दोहा से शाहीन ने कहा, "किन अधिकारियों को शामिल किया जाएगा, ये कहना अभी जल्दीबाजी होगी लेकिन कई जाने-पहचाने चेहरे सरकार का हिस्सा होंगे."

"जब हम अफगान समावेशी इस्लामिक सरकार कह रहे हैं तो इसका मतलब है कि बाकी अफगानों की भी सरकार में हिस्सेदारी होगी."
सुहैल शाहीन, तालिबान के प्रवक्ता
ADVERTISEMENT

काबुल में घुसा तालिबान

तालिबान ने 15 अगस्त को एक बयान जारी कर कहा कि समूह को अब काबुल में प्रवेश करने की अनुमति दी गई है. बयान में दावा किया गया है कि अफगान पुलिस और अन्य संबंधित संस्थानों ने अपने कर्तव्यों को छोड़ दिया और चोरी, लूटपाट और अपराध को रोकने के लिए, समूह की सेना को राजधानी में प्रवेश करने की अनुमति दी गई है.

बयान में कहा गया, तालिबान काबुल में अफगान बलों द्वारा छोड़े गए क्षेत्रों को सुरक्षित करेगा. तालिबान ने नागरिकों को आश्वस्त किया कि लड़ाके न तो उनके घरों में प्रवेश करेंगे और न ही उन्हें परेशान करेंगे.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, news और world के लिए ब्राउज़ करें

टॉपिक:  अफगानिस्तान 

ADVERTISEMENT
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×