ADVERTISEMENTREMOVE AD

तुर्की, सीरिया में भूकंप से जान गंवाने वालों की संख्या 8,326 पहुंची

तुर्की, सीरिया में भूकंप से मरने वालों की संख्या 8,326 पहुंची

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female
ADVERTISEMENTREMOVE AD

तुर्की (Turkery) और सीरिया (Syria) में आए विनाशकारी 7.8 तीव्रता के भूकंप के बाद कम से कम 8,326 लोगों के मारे जाने और लगभग 40,000 के घायल होने की पुष्टि हुई है। सहायता एजेंसियों का कहना है कि आंकड़े और बढ़ सकते हैं क्योंकि कई लोग अभी भी मलबे के नीचे फंसे हुए हैं।

अनाडोलू न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, बुधवार को एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, तुर्की के उपराष्ट्रपति फुआट ओकटे ने कहा कि देश में मरने वालों की संख्या फिलहाल 5,894 है, जबकि घायल व्यक्तियों की संख्या बढ़कर 34,810 हो गई है।

ओकटे ने संवाददाताओं से कहा, हर नागरिक की मौत से हमें गहरा दुख हुआ है।

उन्होंने कहा कि कम से कम 5,775 इमारतें ढह गईं, 8,000 से अधिक लोगों को इमारतों के मलबे से बचाया गया है।

तुर्की के आपदा और आपातकालीन प्रबंधन प्रेसीडेंसी (एएफएडी) ने कहा कि कुल 60,218 आपातकालीन अधिकारी प्रभावित क्षेत्रों में काम कर रहे हैं, जिसमें 65 देशों के 3,200 कर्मचारी शामिल हैं।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने अधिकारियों के हवाले से बताया कि सीरिया में मरने वालों की संख्या बढ़कर 2,470 हो गई है।

अलेप्पो, लताकिया, हमा, इदलिब और टार्टस के क्षेत्र सबसे ज्यादा प्रभावित हुए।

60 से अधिक देशों ने दोनों देशों में प्रभावित क्षेत्रों में समर्थन और मानवीय सहायता भेजने का वादा किया है, जबकि वर्तमान में लगभग 20 अंतर्राष्ट्रीय सरकारी खोज और बचाव दल जमीन पर काम कर रहे हैं।

ठंड के चलते बचाव के प्रयासों को चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।

तुर्की में 10 प्रांत सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं जहां लगभग 13.5 मिलियन लोगों के घर हैं।

भूकंप से क्षेत्र के बुनियादी ढांचे को भी गंभीर रूप से क्षति पहुंची है, जिससे राजमार्ग पर वाहन चलाना मुश्किल हो गया है।

टेलीविजन चैनलों ने बताया कि भूकंप से प्रभावित तीन प्रांतों गाजियांटेप, आदियमान और मालट्या में बचे लोगों ने सामुदायिक केंद्रों में शरण ली, जहां उन्हें कंबल और भोजन दिया गया।

आश्रय के लिए क्षेत्र की मस्जिदों को भी खोल दिया गया है।

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

0
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×