ADVERTISEMENT

काबुल में अमेरिकी ड्रोन अटैक: गलती मानी, मुआवजे का वादा, लेकिन कसूरवार कोई नहीं

अमेरिकी ड्रोन हमले में 10 अफगानी नागरिक मारे गए थे, अब अमेरिकी सेना के किसी सदस्य को सजा नहीं देने का फैसला किया गया

Published
काबुल में अमेरिकी ड्रोन अटैक: गलती मानी, मुआवजे का वादा, लेकिन कसूरवार कोई नहीं
i

अमेरिकी सरकार ने अफगानिस्तान (Afghanistan) की राजधानी काबुल में अगस्त में हुए अमेरिकी ड्रोन हमले (Kabul drone attack) के लिए अमेरिकी सेना के किसी भी सदस्य को सजा नहीं देने का फैसला किया है. इस अमेरिकी ड्रोन हमले में सात बच्चों सहित 10 आम अफगानी नागरिक मारे गए थे.

ADVERTISEMENT

पिछले महीने अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन की एक आंतरिक समीक्षा ने यह निष्कर्ष निकाला था कि अफगान राजधानी में 29 अगस्त की बमबारी ने “युद्ध के कानूनों” का उल्लंघन नहीं किया और 10 अफगानी नागरिक की मौत के लिए जिम्मेदार यह ड्रोन हमला कदाचार या आपराधिक लापरवाही के कारण नहीं हुआ था.

29 अगस्त, अमेरिकी ड्रोन और एक परिवार के 10 लोगों की मौत- क्या हुआ था ?

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे की दहशत के बीच 26 अगस्त को काबुल में हवाई अड्डे के पास एक आत्मघाती बम विस्फोट हुआ जिसमें 150 से अधिक अफगानों के साथ-साथ 13 अमेरिकी सैनिक मारे गए थे. इस आत्मघाती बम विस्फोट का दावा इस्लामिक स्टेट खुरासान प्रांत, ISKP (ISIS-K) ने किया था.

इसके तीन दिन बाद, 29 अगस्त को अमेरिका ने काबुल में ड्रोन हमला किया जिसमे एक ही परिवार के 10 लोगों की मौत हो गई. जिसमे से 7 बच्चे थे. वास्तव में अमेरिकी ड्रोन ने एक ऐसे परिवार को मारा जिसमें एक अमेरिकी सहायता समूह के लिए काम करने वाला एक अफगान व्यक्ति भी शामिल था.

हालांकि अमेरिकी अधिकारियों ने कहा कि उन्हें काबुल हवाई अड्डे पर पर इस्लामिक स्टेट के संभावित हमले की खुफिया जानकारी थी और एक उन्होंने ‘युद्ध सामग्री से लदी कार’ पर ड्रोन से एक मिसाइल लॉन्च की थी.

बाइडेन प्रशासन का गलती स्वीकारना और फिर "ईमानदारी से की गई गलती" बताना

बाइडेन प्रशासन ने सितंबर में स्वीकार किया था कि ड्रोन हमले में आम नागरिक मारे गए थे. जनरल फ्रैंक मैकेंजी ने कहा कि यह "संभावना नहीं" है कि मारे गए लोग इस्लामिक स्टेट (खुरासान प्रांत), ISKP (ISIS-K) से जुड़े थे, जैसा कि मूल रूप से अमेरिकी सेना द्वारा दावा किया गया था.

"जांच के निष्कर्षों और इंटर एजेंसी भागीदारों के विश्लेषण की अच्छी तरह से समीक्षा करने के बाद मुझे अब विश्वास हो गया है कि उस ड्रोन हमले में सात बच्चों सहित 10 नागरिक दुखद रूप से मारे गए थे.”
जनरल फ्रैंक मैकेंजी

यहां तक कि अमेरिकी रक्षा सचिव लॉयड ऑस्टिन ने व्यक्तिगत रूप से बमबारी के लिए माफी मांगी और हमले की "पूरी तरह से समीक्षा" करने का वादा किया था.

बाइडेन प्रशासन ने अक्टूबर में घोषणा कर बताया कि, अमेरिका हमले में मारे गए 10 लोगों के रिश्तेदारों को भुगतान करेगा, साथ ही पुनर्वास सहायता की पेशकश करेगा.

ADVERTISEMENT

लेकिन 3 नवंबर को अमेरिकी वायु सेना के इंस्पेक्टर जनरल Sami Said ने कहा कि, बमबारी एक "ईमानदारी से की गई गलती" थी, जो खराब संचार सहित निष्पादन गलतियों की एक श्रृंखला के कारण हुई थी. "लेकिन ये आपराधिक आचरण, जानबूझ के किया आचरण, लापरवाही नहीं है"

अमेरिकी सरकार के फैसले पर पीड़ित परिवार- ऊपर वाला बदला लेगा

AFP की रिपोर्ट के अनुसार अमेरिकी ड्रोन हमले में मारी गई 3 साल की बेटी के पिता ने वाशिंगटन के फैसले पर गुस्सा व्यक्त किया कि किसी को भी ड्रोन अटैक के लिए दंडित नहीं किया जाएगा.

AFP द्वारा पूछे जाने पर कि क्या उनमें फैसले को लेकर गुस्सा है, तीन साल की बेटी मलिका और नौ अन्य रिश्तेदारों को खोने वाले 32 वर्षीय ऐमल अहमदी ने कहा "निश्चित रूप से ... क्या होगा यदि अमेरिका ने एक बच्चा खो दिया होता? क्या प्रतिक्रिया होती?"

रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका की तरफ से मुआवजा और जीवित परिवार के सदस्यों को स्थानांतरित करने में मदद के वादे पर अहमदी ने कहा कि परिवार को अब तक सीधे अमेरिकी सरकार या सेना की तरफ से कुछ भी खबर नहीं मिली है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×