ट्रंप और बाइडेन के कैंपेन पर विदेशी हैकर्स की नजर- रिपोर्ट

पिछली बार 2016 में रूस पर चुनाव में हस्तक्षेप करने के आरोप लगे थे

Published
दुनिया
2 min read
डोनाल्ड ट्रंप और जो बाइडेन
i

अमेरिका में 3 नवंबर को राष्ट्रपति पद का चुनाव होना है. पिछली बार 2016 में रूस पर चुनाव में हस्तक्षेप करने के आरोप लगे थे. इस बार भी ऐसे ही आरोप एक बार फिर सामने आ रहे हैं. न्यूज एजेंसी रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, माइक्रोसॉफ्ट कॉर्पोरेशन ने 10 सितंबर को बताया कि रूस, चीन और ईरान से संबंधित हैकर्स डोनाल्ड ट्रंप और जो बाइडेन के कैंपेन से जुड़े लोगों की जासूसी कर रहे हैं.

ये रिपोर्ट ऐसे समय में आई है जब माइक्रोसॉफ्ट ने हाल ही में बाइडेन के कैंपेन में लगी एक एडवाइजरी फर्म को बताया था कि 2016 के अमेरिकी चुनाव में हस्तक्षेप करने वाले रूसी हैकर्स उसके पीछे हैं.  

माइक्रोसॉफ्ट के वाइस प्रेजिडेंट (कस्टमर सिक्योरिटी) टॉम बर्ट ने बताया है कि 2016 में हिलेरी क्लिंटन कैंपेन में हस्तक्षेप करने वाले समूह ने पिछला एक साल रिपब्लिकन और डेमोक्रेटिक पार्टी के पॉलिटिकल कंसल्टेंट्स के एकाउंट्स में घुसने में बिताया है. ये समूह रूसी मिलिट्री इंटेलिजेंस संबंधी यूनिट है, जिसे फैंसी बियर के नाम से जाना जाता है.

बर्ट ने कहा कि चीन के हैकर्स 'अमेरिकी राष्ट्रपति कैंपेन और उम्मीदवारों के करीबी लोगों' के पीछे हैं. इन लोगों में जो बाइडेन के एक करीबी हैं, जिन्हें एक निजी ईमेल एड्रेस के जरिए टारगेट किया गया था.

टॉम बर्ट का कहना है कि ईरान के हैकर्स ट्रंप के कैंपेन पर जासूसी करने की कोशिश कर रहे हैं और ट्रंप प्रशासन के अधिकारियों और रिपब्लिकन कैंपेन स्टाफ के एकाउंट्स में घुसने की कोशिश कर रहे हैं.

रूस, चीन और ईरान ने क्या कहा?

रूस के दूतावास के प्रेस सचिव निकोलाई लेखोनिन ने आरोपों का विरोध करते हुए कहा कि अमेरिकी कई सालों से बिना किसी 'सबूत' के 'हस्तक्षेप' की बात करते रहे हैं.

न्यू यॉर्क में ईरान के मिशन के प्रवक्ता अलीरेजा मीरयूसुफी ने कहा, “ये सोचना भी कि ईरान हैकिंग करेगा बेहूदा है.” 

वहीं, चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लीजियन ने कहा कि चीन को अमेरिकी चुनाव में कोई दिलचस्पी नहीं है और उसने कभी उसमें हस्तक्षेप नहीं किया है.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!