फेसबुक, अमेजन, एपल अपने प्रभाव का ज्यादा लाभ उठा रहे: डेमोक्रेट्स

डेमोक्रेटिक स्टाफ की सिफारिशों में शामिल अहम बातें

Published
दुनिया
4 min read
 इस तरह के बदलाव का ‘बिग टेक कंपनियों’ पर बड़ा गहरा असर पड़ सकता है
i

डेमोक्रेटिक कांग्रेस (Democratic Congress) के स्टाफ की रिपोर्ट में एंटीट्रस्ट कानूनों और प्रवर्तन में बदलाव लाने की सिफारिश की गई है, जिसका मतलब यह हुआ कि इस तरह के बदलाव का ‘बिग टेक कंपनियों’ पर बड़ा गहरा असर पड़ सकता है. एपल, अमेजन, फेसबुक और गूगल पर 16 महीने की जांच के बाद स्टाफ ने पाया कि ये चारों कंपनियां मोनोपॉली पावर यानी किसी चीज को बेचने के सभी अधिकार अपने पास होने की शक्ति का गलत रूप से फायदा उठा रही हैं, इसलिए कांग्रेस और प्रवर्तन अधिकारियों ने इस पर लगाम कसने की बात कही है.

डेमोक्रेटिक स्टाफ की सिफारिशों में शामिल अहम बातें

  1. किसी कंपनी के डिजाइन से संबंधित विभाजन को लागू करना और प्रमुख प्लेटफार्मों को दूसरे पेशे में प्रवेश करने से रोकना. इसका मतलब यह है कि डेमोक्रेटिक स्टाफ तकनीकी कंपनियों को व्यावसायिक संरचनाओं को लागू करने सहित समाधान की सिफारिश कर रहा है, जो विभिन्न व्यावसायिक पेशों को औपचारिक रूप से मूल कंपनी से अलग करते हैं. उदाहरण के लिए, इसमें यह बात शामिल हो सकती है, जैसे गूगल को यूट्यूब से अलग करना या उससे हटाना या फेसबुक के मामले में भी ऐसा ही करना यानी फेसबुक से इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप को अलग करना.

  2. प्रमुख कंपनियों का सिर्फ अपनी खुद की सेवाओं को प्राथमिकता देने के बजाय उनके द्वारा ‘समान उत्पादों और सेवाओं के लिए समान शर्तों’ का पालन करना.

  3. एंटीट्रस्ट कानून के मामले में ‘अनिश्चित उदाहरण’ को महत्ता देना.

  4. संघीय व्यापार आयोग (FTC) और डिपार्टमेंट ऑफ जस्टिस एंटीट्रस्ट डिवीजन के बजट में इजाफा करना.

पब्लिकन के कुछ सवालिया निशान

रिपब्लिकन ने रिपोर्ट में बताए गए कुछ प्रस्तावों पर आपत्ति जताई है, जैसे कि संरचनात्मक विभाजनों को लागू करना. सीएनबीसी द्वारा प्राप्त ड्राफ्ट के अनुसार, केन बक, आर-कोलो, जो उपसमिति बहुमत के प्रमुख सहयोगी हैं और जो एंटीट्रस्ट के द्वारा किए जाने वाले सुधार के पक्ष में हैं, उन्होंने ‘कॉमन ग्राउंड’ और ‘नॉन-स्टार्टर्स’ क्षेत्रों की रूपरेखा बनाते हुए रिपोर्ट के प्रति अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की है. बक ने अपनी प्रतिक्रिया में जोर देते हुए कहा कि वह जांच और इसके निष्कर्षों का समर्थन करते हैं। इससे पता चलता है कि वह एंटिट्रस्ट द्वारा किए जाने वाले इन सुधारों को प्रोत्साहित कर रहे हैं.

फेसबुक

रिपोर्ट के अनुसार, फेसबुक ऑनलाइन विज्ञापन और सोशल नेटवर्किंग बाजार में अपने प्रभाव का अतिरिक्त लाभ उठा रही है. एंटीट्रस्ट उपसमिति के एक अधिवक्ता के अनुसार, 2012 में फेसबुक द्वारा अपने 1 बिलियन डॉलर अधिग्रहण से ठीक पहले इंस्टाग्राम की अनुमानित वृद्धि को रेखांकित करने वाले दस्तावेजों ने एक बड़ी प्रतियोगी कंपनी की तस्वीर को कमजोर प्रतियोगी के रूप में दिखाया, जो बिना किसी सहारे के लड़खड़ा सकती थी. अब सवाल यह है कि क्या फेसबुक ने इंस्टाग्राम को इसलिए खरीदा कि वह उसके लिए एक बड़ी प्रतियोगी कंपनी बनती जा रही थी, जो उसे कड़ी टक्कर दे सकता थी. कई एंटीट्रस्ट समीक्षकों ने इस बारे में विचार किया है.

अमेजन

कई कर्मचारियों का आरोप है कि अमेजन अपने प्रभाव के तहत अपने तीसरे पक्ष के अधिकांश विक्रेताओं और उसके कई आपूर्तिकर्ताओं का गलत लाभ उठाता है. संयुक्त राज्य अमेरिका की ऑनलाइन खुदरा बिक्री में अमेजन की बाजार हिस्सेदारी 40% से होने की संभावना जताई गई है, जबकि रिपोर्ट के अनुसार, इसकी हिस्सेदारी 50% या इससे अधिक है. अमेजन ने लिखित बयानों में यह तर्क दिया है कि वह अपने प्लेटफॉर्म को उभारने के लिए अपने तीसरे पक्ष के विक्रेताओं पर निर्भर करता है और यह कि उनके खिलाफ काम करना उसके लिए किसी भी नजर से फायदेमंद नहीं होगा.

एपल

डेमोक्रेटिक स्टाफ के अनुसार, आईओएस (iOS) उपकरणों पर सॉफ्टवेयर ऐप वितरण के लिए एपल भी अपने प्रभाव के तहत अनुचित लाभ उठा रहा है. रिपोर्ट में यह बताया गया है कि एपल के मोबाइल पारिस्थितिकी तंत्र से उपभोक्ताओं और ऐप डेवलपर्स दोनों को ‘बढ़िया लाभ’ मिला है. फिर भी रिपोर्ट में आरोप लगाया गया है कि एपल अपने ऑपरेटिंग सिस्टम के नियंत्रण का उपयोग करता है. कर्मचारी यह भी आरोप लगाते हैं कि एपल अपने प्रभाव एवं तकनीक का उपयोग करते हुए ऐप डेवलपर्स का शोषण करता है.

यहां आपको बताते चलें कि पिछले वर्ष एपल को ऐप स्टोर पर प्लेसमेंट के बदले अपने नियमों और कमीशन के बारे में शिकायत करने वाले ऐप डेवलपर्स की बढ़ती संख्या का सामना करना पड़ा है और सबसे बड़ी बात यह कि हाल ही में एपल ने ऐसी शिकायतों पर एपिक गेम्स के मुकदमे का सामना किया है.

गूगल

बड़ी संख्या में कर्मचारियों का कहना है कि गूगल के पास ऑनलाइन सामान्य खोज और विज्ञापन के बारे में खोजबीन करने के सभी अधिकार हैं. गूगल के अंदरूनी कम्युनिकेशन के आधार पर कर्मचारियों ने लिखा, “गूगल सूचना विषमताओं का शोषण करता है और बाजारों में वास्तविक समय के आंकड़ों को बारीकी से लीक करता है, जो इसे बाजार की लगभग सही-सही जानकारी उपलब्ध कराते हैं. उदाहरण के लिए, गूगल ने अपने संभावित और वास्तविक प्रतियोगियों को अधिक बारीकी से ट्रैक करने के लिए प्रोग्राम सेट किए हैं, जिसमें एंड्रॉइड लॉकबॉक्स जैसी परियोजनाएं शामिल हैं.”

कथित तौर पर दस्तावेजों की समीक्षा के आधार पर कर्मचारियों ने बताया कि तीसरे पक्ष से सामग्री की हेराफेरी करके गूगल ने अपने आपको बढ़ाया. येल्प जैसी प्रतियोगी कंपनियों ने पहले भी इस तरह के व्यवहार की शिकायत की है और गूगल 2012 में एफटीसी निपटान के मामले में तीसरे पक्ष की सामग्री को जमा नहीं करने पर सहमत हुआ था.

गूगल के एक प्रवक्ता ने अपने बयान में कहा, “गूगल के मुक्त उत्पाद, जैसे खोज, मानचित्र और जीमेल लाखों अमेरिकियों की मदद करते हैं और हमने उन्हें बनाने और सुधारने के लिए अनुसंधान और विकास में अरबों डॉलर का खर्च किए हैं. हम तेजी से बढ़ते इस प्रतिस्पर्धी उद्योग में बड़ी निष्पक्षता से प्रतिस्पर्धा करते हैं.”

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!