ADVERTISEMENT

नोटबंदी के 5 साल: क्या स्वच्छ 'इकनॉमी' का ये अभियान काले धन को साफ कर पाया?

डेमॉनीटाइजेशन : पॉडकास्ट में सुनिए विशेषज्ञों को जो बता रहे हैं कि नोटबंदी से सबसे ज्यादा तकलीफ किसे हुई.

Published
<div class="paragraphs"><p>डेमॉनीटाइजेशन : पॉडकास्ट में सुनिए नोटबंदी पर बात करते विशेषज्ञों को</p></div>
i

काले धन, भ्रष्टाचार, नकली नोट और आतंकवाद से निपटने के लिए 2016 में पीएम मोदी के 500 और 1000 के नोटों पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा को उनके समर्थक 'मास्टर स्ट्रोक' कहने लगे.

हालांकि इस स्ट्रोक ने काले धन से ज्यादा नौकरियों पर वार किया, लेकिन क्या सरकार काले धन को सिस्टम में से निकाल के फेंकने में सक्षम रही ? क्या कोई ऐसी आर्थिक प्रगति हुई है जिसे नोटबंदी के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है?

इन सवालों के जवाब के लिए, हमने NDTV के पूर्व मैनेजिंग एडिटर, औनिंद्यो चक्रवर्ती से बात की. हमने पत्रकार, ब्रजेश दुबे से भी बात की, जिन्होंने घोषणा से पंद्रह दिन पहले ही विमुद्रीकरण की खबर ब्रेक की थी.

आखिर उन्होंने ये कैसे किया? इसके लिए सुनिए नोटबंदी पर ये खास पॉडकास्ट.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT