पॉडकास्ट| भोपाल गैस हादसा और दो सर्वाइवर की आंखों देखी कहानी 

भोपाल गैस हादसा | पॉडकास्ट में सुनिए लीला बाई और शमशाद बी को जिनका परिवार उस दिन से टूटना शुरू हो गया

Published
पॉडकास्ट में सुनिए लीला बाई और शमशाद बी को जिनका परिवार उस दिन से टूटना शुरू हो गया 
i

2 दिसंबर की रात 1984 में, भोपाल में एक पेस्टीसाइड बनाने की फैक्ट्री, यूनियन कार्बाइड से एक जहरीली गैस का बादल शहर के ऊपर छा जाता है. और देखते ही देखते लोग उस का शिकार होने लगे. लेकिन वो क्या वजह हैं कि ये हादसा तीन दशक के बाद तक भी एक ऐसे बुरे सपने की तरह बन चुका है जो टूट के ही नहीं देता.

क्विंट हिंदी पर इस खास पॉडकास्ट में सुनिए भोपाल त्रासदी की दो सर्वाइवर महिलाओं को जो बता रही हैं कि उस रात उनके साथ क्या घटा, उन्होंने अपने परिवार में से किस किसको खोया, और अब इतने सालों के बाद भी उस हादसे का साया इनके जीवन पर अब भी बना हुआ है. पॉडकास्ट में भोपाल के कुछ एक्टिविस्ट को भी सुनिए जो बता रहे हैं कि आखिर किन वजहों से, उस हादसे से पीड़ित लोगों के परिवारों की मुश्किलें खत्म ही नहीं हो पा रही?

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!