ADVERTISEMENT

उर्दूनामा: कैसे 'कायनात' के पहिये हमारे कहने पर ही घूमते हैं

ऐसा क्यों कहा जाता है कि हमारे अंदर एक ब्रह्मांड है? जानने के लिए सुनिए ये पॉडकास्ट

Updated
<div class="paragraphs"><p>ऐसा क्यों कहा जाता है कि हमारे अंदर एक ब्रह्मांड है? जानने के लिए सुनिए ये पॉडकास्ट</p></div>
i

ऐसा क्यों कहा जाता है कि हमारे अंदर एक ब्रह्मांड है? हम उर्दू शायरी के माध्यम से यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि शायरों के लिए 'कायनात' के क्या मायने हैं. और वो अपने शब्दों की 'गैलेक्सी' के जरिये ब्रह्मांड को कैसे देखते हैं.

फिलॉसफर, वैज्ञानिक और कई विचारक, जांच के विभिन्न विषयों के माध्यम से ब्रह्मांड के रहस्यों को समझने की कोशिश करते आ रहे हैं.

वो यह भी बताते हैं कि ब्रह्मांड, ऊर्जा, समय और पदार्थ को मिला कर बनता है. एक बार जब हम इस बात को विश्वास के साथ दिल में बैठा लेते हैं तो ब्रह्मांड हमारे निर्णय के अनुसार तेजी से आगे बढ़ता है.

सुनिए उर्दूनामा का ये एपिसोड जिस में हम उर्दू शायरी के माध्यम से यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि शायरों के लिए 'कायनात' के क्या मायने हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT