पतंजलि के ‘कोरोना करिश्मे’ पर विवाद जारी, क्या कहते हैं जानकार?

कोरोना का इलाज: आयुर्वेदिक ‘कोरोनिल’ दवा का दावा कितना ‘साइंटिफिक’?

Published25 Jun 2020, 10:35 AM IST
पॉडकास्ट
1 min read

दुनियाभर में कोरोना के कहर के बीच लोगों को एक चीज का बेसब्री से इंतजार है और वो है कोरोना की दवा या वैक्सीन. ऐसे में अगर कोई दावा करे कि कोरोना की आयुर्वेदिक दवा तैयार कर ली गई है तो तमाम निगाहें उस ओर उठना लाजिमी है.

23 जून को भारत में योग गुरु बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड ने दावा किया कि उन्होंने कोरोना की दवा तैयार कर ली है. नाम है ‘कोरोनिल’. लेकिन इस दावे के तुरंत बाद ही केंद्र सरकार ने कहा कि उन्हें ऐसी किसी दवा की जानकारी नहीं है. उसके बाद तो पतंजलि के ट्रायल के तरीके, सरकार को जानकारी और लाइसेंस को लेकर सवालों का सिलसिला ही शुरू हो गया.

सवाल ये है कि जिस नुस्खे की तलाश में दुनिया के बड़े-बड़े साइंटिस्ट और नामी दवा कंपनियां दिन-रात रिसर्च में जुटे हैं उसे पतंजलि ने क्या नियम-कायदों के तहत बनाया है. किसी भी दवा के कारगर होने को साइंटिफिक ट्रायल से आखिर साबित कैसे किया जाता है, और कोई भी दवा लैब से मरीज तक पहुंचने के लिए कौन सा सफर तय करती है, यही जानेंगे आज एक्सपर्ट्स से.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर को और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!