उर्दूनामा। महात्मा की 150वीं जयंती पर सुनिए ‘दास्तान-ए-गांधी’
‘दास्तान-ए-गांधी’ को दास्तानगो फिरोज खान ने परफॉर्म किया था
‘दास्तान-ए-गांधी’ को दास्तानगो फिरोज खान ने परफॉर्म किया था(फोटो: क्विंट हिंदी)

उर्दूनामा। महात्मा की 150वीं जयंती पर सुनिए ‘दास्तान-ए-गांधी’

क्या आपने दास्तान-ए-गांधी सुना है?

'दास्तान' मतलब 'कहानी' और 'दास्तान-ए-गांधी' मतलब... महात्मा गांधी की कहानी.

उर्दूनामा के इस खास एपिसोड में, हम आपको सुनाएंगे 'दास्तान-ए-गांधी', गांधी के भारत लौटने और उनके आम आदमी से 'महात्मा' बनने तक का पूरा सफर.

'दास्तान-ए-गांधी' को दास्तानगो फिरोज खान ने परफॉर्म किया था और दानिश इकबाल ने इसे लिखा था. इस पॉडकास्ट के लिए हमने दानिश इकबाल से इस बारे में खास बात की.

ये भी पढ़ें : जब गांधी को मंदिर में नहीं मिली थी एंट्री, जात-पात नहीं ये थी वजह

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our पॉडकास्ट section for more stories.

    Loading...