निर्भया को इंसाफ लेकिन कानून में कमियों को उजागर कर गया ये केस
फांसी होने के कुछ घंटे पहले तक भी दोषियों की फांसी टालने की कोशिशें बराबर होती रहीं. 
फांसी होने के कुछ घंटे पहले तक भी दोषियों की फांसी टालने की कोशिशें बराबर होती रहीं. फोटो: क्विंट हिंदी 

निर्भया को इंसाफ लेकिन कानून में कमियों को उजागर कर गया ये केस

निर्भया गैंगरेप केस के सभी दोषियों को 20 मार्च की सुबह 5.30 बजे फांसी पर लटका दिया गया. सात साल की लंबी कानूनी जंग के बाद सुप्रीम कोर्ट, हाई कोर्ट और निचली अदालत की ओर से दोषियों की सभी याचिकाओं को रद्द कर दिया गया. यानी कोई लीगल ऑप्शन नहीं बचा तो दोषियों को बचाने का तो 5 मार्च को अदालत ने निर्भया के गुनहगारों को 20 मार्च को फांसी देने का फैसला सुनाया था.

लेकिन फांसी होने के कुछ घंटे पहले तक भी दोषियों की फांसी टालने की कोशिशें बराबर होती रहीं. फांसी के आखरी पलों में अदालतों में क्या हुआ ? यही सब आपको बताएंगे आज के पॉडकास्ट में.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our पॉडकास्ट section for more stories.

    Loading...