सुशांत सिंह केस: रिया चक्रवर्ती के खिलाफ FIR के कानूनी मायने

आत्महत्या के लिए उकसाने को कानूनी तौर पर कैसे साबित कर सकते हैं?

Published31 Jul 2020, 04:52 PM IST
पॉडकास्ट
1 min read

14 जून को सुशांत सिंह राजपूत को उनके फ्लैट में फंदे से लटका हुआ पाया गया था. जिसके करीब डेढ़ महीने बाद इस मामले में बॉलीवुड एक्टर और उनकी गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती के खिलाफ सुशांत के पिता केके सिंह ने पटना के राजीव नगर थाने में 25 जुलाई को मामला दर्ज करवाया. ये एफआईआर कुल 6 लोगों के खिलाफ दर्ज कराई गई है. FIR के मुताबिक सुशांत के पिता ने उनकी गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती के खिलाफ कई गंभीर आरोप लगाए हैं. जिसमें आत्महत्या के लिए उकसाने और ब्लैमेल करने जैसे कई आरोप हैं. वहीं अब प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी ने भी सुशांत सिंह मामले में केस दर्ज कर लिया है.

अब आत्महत्या के लिए उकसाने को कानूनी तौर पर कैसे साबित कर सकते हैं? और क्या उकसाना मर्डर के जैसा संगीन जुर्म है? यही समझेंगे आज इस पॉडकास्ट में.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!